पेट का कैंसर – परिचय , कारण व उपचार ( Stomach Cancer)

Post Contents

पेट का कैंसर

परिचय

पेट के अन्दर असामान्य कोशिकाओं की वर्द्धि को ही पेट का कैंसर कहते है | कैंसर के प्रकार में यह प्रकार ( पेट का कैंसर ) सबसे खतरनाक है , क्यों की पेट के कैंसर का पूर्वानुमान नहीं लगाया जा सकता या यू कहे की इसका पूर्वानुमान लगाना बहुत मुस्किल है | क्यों की इस कैंसर का कोई भी लक्षण कैंसर की पहली अवस्था में सामने नहीं आता | इस रोग के लक्षण इसके अंतिम अवस्था पर पहुँचने पे जाहिर होते है ,

इस लिए हम सोच सकते है की यह कैंसर कितना खतरनाक है | इसे बड़ी आंत का कैंसर भी कहते है | क्यों की यह पाचन तंत्र के निचले हिस्से से शुरू होता है | पेट का कैंसर आमाशय की भीतरी परत से शुरू होता है , इस लिए ये बता पाना मुस्किल होता है की कैंसर कितना अन्दर तक फैला हुआ है |

वर्तमान समय में पेट के कैंसर के मरीजो में बेतरतीब इजाफा देखने को मिला है | इसका मुख्य कारण हमारी दिनचरिया , खान – पान व नशीले पदार्थो का सेवन है | पेट का कैंसर महिलाओ की अपेक्षा पुरुषो में अधिक होता है | ज्यादातर लोगो में इस रोग का पता 50 की उम्र के बाद चलता है |

 कारण

  • शराब, धुम्रपान , तम्बाकू या नशीले पदार्थो का ज्यादा सेवन
  • फ़ास्ट फ़ूड , तली – भूनी या ज्यादा मसालेदार भोजन का सेवन
  • पेट की कोई शल्यचिकित्सा
  • लम्बे समय से पेट का कोई रोग जैसे – कब्ज , गैस आदि
  • गैस्ट्रटिस और कब्जियत अगर लम्बे समय तक बने रहे तो वे भी पेट के कैंसर का कारण बन सकते है |

Symptoms ( लक्षण )

  • मन्दाग्नि या कम भूख लगना |
  • अचानक वजन का कम होना बैगर किसी वाजिब कारण के |
  • पेट में लम्बे समय से दर्द ( उदर शूल ) |
  • पेट में अस्पष्ट बैचनी , आमतौर पर नाभि से ऊपर |
  • थोड़ा सा भोजन करने पर पेट भरने जैसा अहसास |
  • जी मचलना |
  • उल्टी होना ( खून वाली व बैगर खून के साथ ) |

उपचार

पेट के कैंसर में तीन मुख्य उपचार हैं – सर्जरी , कीमोथेरपी  व रेडिएशन थेरेपी |इस बीमारी के इलाज के लिए वर्तमान समय में सिर्फ सर्जरी उपलब्ध है | कीमोथेरपी व रेडिएशन थेरेपी सिर्फ इसके लक्षणों व इसके परभाव को कम करने के उपाय में सामिल है | इसके आलावा इसका कोई प्रभावी उपचार किसी भी पद्दति में (चाहे वह एलॉपथी हो या फिर आयुर्वेद हो ) उपलब्ध नहीं है |

बचाव के उपाय

  • पेट के कैंसर से बचाव के लिए हमें नित्य भोजन के आधा घंटे बाद एक या दो कलि लहसुन की कच्ची ही छिल कर खानी चाहिए | ऐसा करने से पेट के कैंसर से बचा जा सकता है | अगर कैंसर हो भी गया हो तो लहसुन की कच्ची कलि को पीसकर पानी में घोल कर नित्य खाना खाने के बाद पीना चाहिए | इससे जल्दी ही पेट के कैंसर में लाभ मिलेगा |
  • हमेशा भोजन के साथ दही खाने से कैंसर की सम्भावना नहीं रहती |

    दही का उपयोग हमेशा दिन में ही करना चाहिए | रात्रि में दही का उपयोग वर्जित है |

  • तुलसी की चार – पांच पतिया रोजाना खाने से कैंसर का खतरा न के बराबर हो जाता है |वर्तमान समय में तुलसी का अर्क बाजार में उपलब्ध है जिससे हम लाभ उठा सकते है |
  • कैंसर से बचने के लिए तनाव मुक्त जीवन सैली को अपनाए क्यों नवीनतम खोजो से पता चला है कि मानसिक तनाव ही कैंसर का सबसे बड़ा कारण है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You