पितकफज प्रकृति – एक परिचय

पित  कफज प्रकृति 
पित – कफज  प्रकृति में अगर पित प्रकृति और काफ प्रकृति दोनों के कोई दो – दो गुण मिल रहे है तो यह समायोजित प्रकृति पित – कफज प्रकृति कहलाती है |
उदहारण के लिए जैसे अगर किसी व्यक्ति का शारीरिक स्वभाव अधिक क्रोधित होना है लेकिन उसके साथ – साथ वह स्थिर चित और द्रिड प्रतिज्ञ भी है तो सव्भाविक ही वह पित कफज प्रकृति का होगा| इसी प्रकार से अगर अन्य कोई गुण मिलते है तो वह पित  – कफज प्रकृति होगी |

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.