पितकफज प्रकृति – एक परिचय

पित  कफज प्रकृति 
पित – कफज  प्रकृति में अगर पित प्रकृति और काफ प्रकृति दोनों के कोई दो – दो गुण मिल रहे है तो यह समायोजित प्रकृति पित – कफज प्रकृति कहलाती है |
उदहारण के लिए जैसे अगर किसी व्यक्ति का शारीरिक स्वभाव अधिक क्रोधित होना है लेकिन उसके साथ – साथ वह स्थिर चित और द्रिड प्रतिज्ञ भी है तो सव्भाविक ही वह पित कफज प्रकृति का होगा| इसी प्रकार से अगर अन्य कोई गुण मिलते है तो वह पित  – कफज प्रकृति होगी |

Related Post

जिनको नजले ( जुकाम ) की शिकायत बार – बार रहत... नजला ( जुकाम ) दुनिया में एसा कोई इन्सान नहीं है जिसे जुकाम की शिकायत न हुई हो | नजला - जुकाम हमेशा परेशान करने वाला रोग है | ज्यादातर मौसम के बदलत...
सैन्धवादी चूर्ण बनाने की विधि... सैन्धवादी चूर्ण बनाने की विधि विधि - सेंधा नमक, कालीमिर्च और फूली हुई फिटकरी 10-10 ग्राम तथा कपूर व अफीम 2-2 ग्राम | इन सब को कूट पिस कर चूर्ण बना ...
वचा / बच (Acorus Calamus) – वच के फायदे पढ़ ल... वचा / बच / Acorus Calamus यह नम जमीन में बारहों महीने पैदा होने वाला पौधा होता है | यह मूल रूप से मध्य एशिया और यूरोप का पौधा है | भारत में प्राचीन स...
गोक्षुरादि गुग्गुलु / Gokshuradi guggulu – क... गोक्षुरादि गुग्गुलु / Gokshuradi Guggulu In Hindi  आयुर्वेद की गुग्गुलु कल्पना के तहत बनाये जाने वाली आयुर्वेदिक दवा है | गोक्षुरादि गुग्गुलु में गोक...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.