Mail : treatayurveda@gmail.com

त्रिदोष प्रकृति – एक परिचय

त्रिदोष प्रकृति 

शारीरिक प्रकृति में सबसे उतम प्रकृति त्रिदोष प्रकृति को माना गया है | अगर किसी मनुष्य की प्रकृति त्रिदोष है तो वह उतम प्रकृति का होगा | त्रिदोष जैसा कि नाम में ही इसका अर्थ छुपा है | वात – पित – कफ
ये तीनो दोष मिल कर जिस प्रकृति का निर्माण करते है वह त्रिदोष प्रकृति से जानी जाती है | अर्थात अगर किसी व्यक्ति के तीनों प्रकृतियों से कोई एक – एक या दो – दो गुण मिलते है तो निश्चित ही वह त्रिदोष प्रकृति का मनुष्य होगा |

त्रिदोष प्रकृति को सन्निपातज प्रकृति भी कहते है |

Content Protection by DMCA.com
Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Shopping cart

0

No products in the cart.

+918000733602