त्रिदोष प्रकृति – एक परिचय

त्रिदोष प्रकृति 

शारीरिक प्रकृति में सबसे उतम प्रकृति त्रिदोष प्रकृति को माना गया है | अगर किसी मनुष्य की प्रकृति त्रिदोष है तो वह उतम प्रकृति का होगा | त्रिदोष जैसा कि नाम में ही इसका अर्थ छुपा है | वात – पित – कफ
ये तीनो दोष मिल कर जिस प्रकृति का निर्माण करते है वह त्रिदोष प्रकृति से जानी जाती है | अर्थात अगर किसी व्यक्ति के तीनों प्रकृतियों से कोई एक – एक या दो – दो गुण मिलते है तो निश्चित ही वह त्रिदोष प्रकृति का मनुष्य होगा |
 
त्रिदोष प्रकृति को सन्निपातज प्रकृति भी कहते है |
त्रिदोषज प्रकृति  मनुष्य में तीनों दोष अर्थात वात, पित्त एवं कफ का संतुलित होना दर्शाती है | आयुर्वेद के अनुसार इस प्रकृति को सबसे उत्तम प्रकृति माना जाता है | द्विदोषज या एकल प्रकृति किसी एक दोष को प्रधान रख कर निर्मित होती है |
आयुर्वेद चिकित्सा में इन्ही प्रकृतियों के अनुसार रोगों की चिकित्सा के लिए औषध का निर्धारण किया जाता है |
धन्यवाद |
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You