विटामिन बी 12 की कमी के लक्षण एवं होने वाले रोग | Vitamin b12 Deficiency in Hindi

विटामिन्स हमारे शरिर के लिए महत्वपूर्ण तत्व है | इनकी कमी होना मतलब रोग की सम्भावना | विटामिन बी के समूह में आने वाले सभी विटामिन्स Water Soluble Vitamins (जल में घुलने वाले) होते है | इस समूह में Vitamin B12 सबसे महत्वपूर्ण विटामिन है |

शरीर को स्वस्थ रहने के लिए इस विटामिन की बहुत आवश्यकता होती है | आज इस लेख में हम आपको Vitamin B-12 की कमी के कारण, लक्षण एवं इसकी कमी से होने वाले रोगों के बारे में |

इसका रासायनिक संगठन C63H88N14O14PCo है | Vitamin B-12 को सबसे अंत, सन 1948 में ब्रिटेन के वैज्ञानिक स्मिथ और पार्कर (Smith and Parker) ने खोजा था | यह सभी विटामिन्स में सबसे अंत में खोजा गया विटामिन्स है |

इसकी कमी से कई बीमारियाँ शरीर में हो जाती है | विटामीन B-12 की कमी से नर्वस सिस्टम से सम्बंधित बीमारियाँ हो जाती है | बुढ़ापे में भूलने की बीमारी डिमेंशिया जैसे खतरनाक दिमागी रोग, हड्डियों की कमजोरी एवं पेर्निसियस रक्ताल्पता (Pernicious Anemia) आदि बीमारियाँ इसकी कमी से होती है |

विटामिन बी 12
Vitamin B 12

चलिए जानते है इसकी कमी के लक्षणों के बारे में

विटामिन बी 12 की कमी के लक्षण | Symptoms of Vitamin B 12 Deficiency

जिन लोगों के शरीर में vitamin b 12 की कमी हो जाती है उनमे बहुत से लक्षण प्रकट होते है | इन्ही लक्षणों को हमने यहाँ निचे बताया है | अगर आपके शरीर में भी लक्षण दिखाई पड़ते है तो हो सकता है कि आपके शरीर में भी इस vitamin की कमी हो | आपको अपना Check-Up करवाना चाहिए |

  • vitamin b 12 की कमी से मुंह में छाले पड़ जाते है | जीभ पर कई दरारें आ जाती है एवं जीभ में जलन होने लगती है |
  • Bone Merrow के बाह्य स्वरुप में परिवर्तन आ जाता है |
  • शरीर अर्थात खून में RBC (Red Blood Cells) की कमी हो जाती है |
  • विटामिन बी 12 की कमी से आरबीसी के सामान्य आकार में बढ़ोतरी हो जाती है |
  • व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार होकर कमजोर एवं आलसी हो जाता है |
  • पाचन ठीक नहीं रहता एवं भूख कम लगती है |
  • रक्त में हिमोग्लोबिन की मात्रा भी अत्यंत कम हो जाती है | यह 1.5 से 2.5 million per mm3 रह जाते है |
  • Vitamin B-12 की कमी से ग्रसित व्यक्ति की त्वचा का रंग पीला पड़ जाता है |
  • रोगी के हाथ पैर सुन्न रहने लगते है |
  • शरीर में थकान बनी रहती है |
  • सिरदर्द एवं चक्कर आना भी vitamin b 12 की कमी के लक्षण हो सकते है |
  • व्यक्ति व्यग्रता एवं चिडचिडेपन से ग्रसित रहता है |

विटामिन बी 12 की कमी से होने वाले रोग | Vitamin B12 Deficiency Diseases in Hindi

इसकी कमी से शरीर में निम्न रोग हो सकते है | इसके उपचार के लिए नजदीकी चिकित्सक से मिलना चाहिए | यहाँ हमने इसकी कमी से होने वाले रोगों के बारे में बताया है |

पेर्निसिउस रक्ताल्पता (Pernicious Anemia): यह रोग मुख्यत: शरीर में खून की कमी से जाना जाता है | इसमें RBC की अपरिपक्वता के कारण रक्त में RBC एवं Hemoglobin की संख्या में अत्यंत कमी आजाती है | एसे में शरीर में कई गंभीर रोग पनपते है | पर्निसियस रक्ताल्पता के लिए Vitamin बी 12 जिम्मेदार होता है |

डिमेंशिया: भूलने की बीमारी भी इस विटामिन की कमी के कारण होती है | vitamin b12 की कमी होने से दिमाग पर बहुत बुरा असर पड़ता है | व्यक्ति की सोचने समझने की क्षमता कमजोर हो जाती है एवं रोगी भूलने की बीमारी से ग्रसित हो जाता है |

जोड़ो में दर्द: इस vitamin की कमी के कारण व्यक्तियों की हड्डियों में प्रभाव पड़ता है | यह रोगी के लिए हाथ पैर के जोड़ो में दर्द एवं सुजन से देखा जाता है | कमर दर्द एवं हड्डियों में दर्द की समस्या vitamin बी 12 की कमी के कारण हो सकती है |

त्वचा विकार: इसकी कमी से त्वचा पिली पड़ जाती है | रोगी के हाथ पैर सुन्न पड़ने लगते है | रोगी को तीव्र थकान होती है एवं त्वचा में विकार पैदा हो जाता है |

इम्युनिटी होती है कमजोर: Vitamin B12 शरीर के लिए आवश्यक vitamin है | अगर इसकी कमी से शरीर में होती है तो रोगी के शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता भी कमजोर पड़ जाती है एवं कई बीमारियाँ होने का खतरा रहता है |

नाड़ी में विकार: शरीर में विटामिन b 12 की कमी से नाड़ियों में विकार पैदा हो जाता है | नाड़ी तंतुओं में घाव हो जाते है | सुष्मना नाड़ी के श्वेत पदार्थ के बाह्य आवरण का नाश होने लगता है |

हीमोग्लोबिन की कमी: इस विटामिन की कमी से रक्त में उपस्थित हीमोग्लोबिन की मात्रा में अत्यंत अल्पता आ जाती है एवं यह कमी कई रोगों का कारण बनती है |

मानसिक रोग: शरिर में अगर vitamin b 12 की कमी है तो यह मस्तिष्क के लिए बहुत ही घातक होता है | इसकी कमी से कई मानसिक रोग पनपते है | जैसे भूलना, सिरदर्द, चक्कर आना आदि | अत: अगर आप इसे गंभीरता से नहीं ले रहें है तो सावधान हो जाएँ एवं चिकित्सक से उपचार लें |

धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *