सर्वकल्प क्वाथ के स्वास्थ्य उपयोग | Patanjali Sarvakalp kwath uses in hindi

sarvakalp kwath uses in hindi | सर्वकल्प क्वाथ के उपयोग | सर्वकल्प क्वाथ के फायदे | सर्वकल्प क्वाथ के नुकसान | Sarvakalp Kwath Ingredients in Hindi में जानने के लिए इस आर्टिकल को पढ़ें | यहाँ हमने पतंजलि कंपनी की इस दिव्य क्वाथ का सम्पूर्ण विवरण उपलब्ध करवाया है |

दवा का नाम सर्वकल्प क्वाथ | Sarvakalp Kwath
निर्माता पतंजलि
पैकिंग 100 ग्राम
उपयोग यकृत रोग, सामान्य बुखार, सुजन आदि
घटक द्रव्य मकोय, भूम्यामलकी, पुनर्नवा
मूल्य 28 रूपए
सेल्फ लाइफ 24 महीने

सर्वकल्प क्वाथ पतंजलि फार्मेसी की पेटेंट दवा है | इसका उपयोग लीवर की समस्या में प्रमुखता से किया जाता है | फैटी लीवर, लीवर की अन्य समस्याएँ एवं यकृत शोधन के लिए किया जाता है | यह मकोय, भूमिआंवला एवं पुनर्नवा जैसे घटक द्रव्यों से बनने वाली औषधि है |

यह दवा यकृत की वृद्धि, पीलिया रोग, पेशाब न लगना एवं भूख की कमी जैसी समस्याओं में भी प्रभावी परिणाम देती है | इसके घटक इसे उत्तम यकृत रोग उन्मूलन दवा के रूप में परिभाषित करते है |

चलिए अब इसके घटक द्रव्यों के बारे में आपको बताते है |

Ingredients of Patanjali Sarvakalp Kwath in Hindi | पतंजलि सर्वकल्प क्वाथ की घटक जड़ी – बूटियां

  1. भूमि आंवला
  2. मकोय
  3. पुनर्नवा
  4. अमलतास

भूमि आंवला – यह औषधीय जड़ी बूटी यकृत शोधन एवं इसके विकारों में बहुत उपयोगी साबित होती है | सामान्यत: खरपतवार के रूप में उगने वाली यह जड़ी – बूटी सर्वकल्प क्वाथ का एक मुख्य घटक है | यह सुजन, मूत्र विकार, पाचन एवं प्रजनन अंगों पर कार्य करती है | भूमि आमला के बारे में अधिक पढ़ें यहाँ से

मकोय – मकोय औषधीय जड़ी बूटी भी यकृत विकारों एवं कमजोर पाचन में प्रभावी साबित होती है | यह बुखार, सुजन, बढे हुए यकृत, पाचन की कमजोरी एवं हेपेटाईटिस रोग में कार्य करती है | यह बुखार को उतारने वाली, मूत्रल एवं यकृत की रक्षा करने वाली जड़ी बूटी है | मकोय के बारे में यहाँ से पढ़ें

पुनर्नवा – यह आयुर्वेद चिकित्सा की प्रमुख एवं प्रशिद्ध जड़ी बूटी है जिसका उपयोग सभी यकृत विकारो में प्रमुखता से किया जाता है | यह फैटी लीवर, सुजन, भूख न लगना, पीलिया एवं यकृत के अन्य विकारों पर प्रमुखता से उपयोग होने वाली औषधीय जड़ी बूटी है | पुनर्नवा की सम्पूर्ण जानकारी यहाँ से पढ़ें

Uses of Patanjali Sarvakalp Kwath in Hindi | सर्वकल्प क्वाथ के चिकित्सकीय उपयोग

पतंजलि फार्मेसी की यह पेटेंट दवा निम्न रोगों में उपयोग की जाती है | चलिए जानते है सर्वकल्प क्वाथ uses in hindi के बारे में विस्तृत रूप से |

  • फैटी लीवर (Fatty Liver) – यकृत की वृद्धि एक गंभीर रोग है | इस रोग में सर्वकल्प क्वाथ बेहतरीन तरीके से कार्य करता है | दिव्य सर्वकल्प क्वाथ में हेपटोप्रोटेक्टिव गुण विद्यमान होते है जो लीवर को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करते है |
  • लीवर सिरोसिस (Liver Cirrhosis) – लीवर शरिर का सबसे बड़ा एवं उपयोगी अंग है | यह भोजन में उपस्थित टोक्सिंस एवं गन्दगी को साफ़ करने का कार्य करता है | यह एक गंभीर रोग है जिसका समय पर उपचार करना अत्यंत जरुरी है | क्योंकि यह रोग धीरे – धीरे पुरे यकृत को ख़राब कर देता है एवं अंत में लीवर प्रत्यारोपण ही एक उपाय बचता है | दिव्य सर्वकल्प क्वाथ इस रोग के शुरूआती अवस्था में कारगर रूप से कार्य करती है | विभिन्न स्टडीज में इसे लीवर सिरोसिस के शुरूआती अवस्था में उपयोगी माना है |
  • पीलिया (Joundice) – यह रोग भी यकृत से जुड़ा हुआ रोग है | पीलिया रोग में भी आयुर्वेदिक चिकित्सक सर्वकल्प क्वाथ को उपयोगी बताते है | क्योंकि यह दवा यकृत के सभी सामान्य विकारों में कार्यकारी औषधि के रूप में देखी जाती है | यह यकृत को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करती है एवं य्क्रित्क में उपस्थित टोक्सिंस को शरिर से बाहर निकालने का कार्य करती है |
  • भूख की कमी (Loss of Apetite) – कमजोर पाचन एवं अजीर्ण के कारण भूख बंद हो जाती है एसे में सर्वकल्प क्वाथ भूख को बढ़ाने का कार्य करती है | यह पाचन को सुधार कर अजीर्ण रोग को ठीक करने का कार्य करती है |
  • मूत्र सम्बन्धी विकार (Urine Disease) – मुत्राल्प्ता रोग में भी मुख्य कारण यकृत की गड़बड़ी होती है | एसे में मूत्र सम्बन्धी विकारों में Divya Sarvakalp Kwath Uses अच्छे परिणाम देता है | इसमें एंटी ओक्सिडेंट गुण विद्यमान होते है | जो यकृत को सुचारू रूप से कार्य करने एवं सामान्य विकारों को दूर करने का कार्य करते है |
  • यकृत शोधक (Liver Detoxyfier) – यह दवा यकृत के लिए उत्तम टॉनिक के रूप में कार्य करती है | सामान्य विकारों को दूर करके यकृत की कोशिकाओं के डैमेज को सुधरती है | अत: Divya Sarvakalp kwath को यकृत शोधक के रूप में भी उपयोग किया जाता है |
  • त्वचा सम्बन्धी विकार – त्वचा संबधी समस्याओं में भी यह दवा लाभ देती है | यकृत शोधन होने से त्वचा ऐ निखार आता है

नोट – यहाँ उल्लेखित जानकारी महज ज्ञान वर्द्धन के लिए है | इस दवा का प्रयोग वैद्य सलाह से ही करें | क्योंकि आयुर्वेदिक चिकित्सक आपके रोग एवं रोगी की स्थिति जैसे प्रकृति, बलाबल आदि के आधार पर ही औषधि का निर्धारण करते है | वैद्य सलाह से ली गई दवा अधिक प्रभावी एवं नुकसान रहित होती है |

सर्वकल्प क्वाथ की खुराक | Doses of Sarvakalp Kwath in Hindi

100 ग्राम जल में 5 ग्राम की मात्रा में सर्वकल्प क्वाथ को मिलाकर थोड़े समय के लिए भिगो दे | कुच्छ अन्तराल पश्चात इसका काढ़ा बना लें | इसे आंच पर तब तक उबाले जब तक की एक चौथाई पानी न बचे | एक चौथाई पानी बचने पर छान कर ठंडा करके सेवन करें |

इस काढ़े का सेवन दिन में दो बार वैद्य सलाह से करना चाहिए |

दुष्प्रभाव | Potential Side Effects

इस दवा के कोई दुष्प्रभाव ज्ञात नहीं है | गर्भवती महिलाओं एवं छोटे बच्चों को वैद्य सलाह से ही सेवन करवाना चाहिए | निर्धारित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए | अधिक मात्रा में सेवन करने से सिरदर्द जैसी समस्याएं हो सकती है |

  1. https://www.frontiersin.org/articles/10.3389/fphar.2020.00288/full
  2. https://biomedpharmajournal.org/vol7no2/hepatoprotective-effect-of-sarvakalp-kwath-against-carbon-tetrachloride-induced-hepatic-injury-in-albino-rats/

धन्यवाद |

One thought on “सर्वकल्प क्वाथ के स्वास्थ्य उपयोग | Patanjali Sarvakalp kwath uses in hindi

  1. Pingback: Sarvakalp Kwath Benefits In Hindi? The 30 Correct Answer

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *