रस सिन्दूर के फायदे एवं रोगानुसार अनुपान (उपयोग)

यह एक उष्णवीर्य रसायन है | रक्त की गति बढ़ाना, रक्त का शोधन एवं हृदय की शक्ति बढाने के लिए बहुत गुणकारी औषधि है | रस सिन्दूर (Ras Sindoor) पारद एवं गंधक का कल्प होता है | कफ़ एवं श्वास विकारों में इसका सेवन बहुत फायदेमंद रहता है | यह बहुत प्रभावी उत्तेजक होता है | इसकी सहायता से दूषित कफ को शरीर से बाहर निकाला जा सकता है |

रस सिंदूर
डाबर रस सिंदूर

इस लेख में हम रस सिन्दूर से जुडी निम्न बातों को जानेंगे :-

  • रस सिन्दूर क्या है ?
  • इसे बनाने की विधि एवं घटक द्रव्य |
  • किन किन रोगों में उपयोगी है Ras Sindoor
  • इसका उपयोग कैसे करें |
  • यह कितने प्रकार का होता है?
  • रस सिन्दूर के फायदे क्या हैं ?
  • क्या इसके कोई साइड इफेक्ट्स (दुष्परिणाम) हैं ?
  • पतंजलि रस सिन्दूर एवं बैद्यनाथ में से कोनसा बेहतर है ?
  • Patanjali Ras Sindoor Price Baidyanath Comparision

रस सिन्दूर क्या है, बनाने की विधि एवं घटक द्रव्य |

यह पारद एवं गंधक के योग से निर्मित एक आयुर्वेदिक औषधि है | रस सिन्दूर बहुत ही उत्तम बलवर्धक योग है | यह आमवात, श्वास विकार, कफ विकार, वाजीकरण, धातु वृधि एवं हृदय बलकारी उत्तम रसायन है |

कैसे बनाते हैं एवं घटक क्या क्या हैं ?

इसे बनाने के लिए निम्न घटक द्रव्यों की आवश्यकता होगी :-

  • शुद्ध पारद
  • एवं शुद्ध गंधक

अब जानते हैं रस सिन्दूर बनाने की विधि के बारे में :-

  • शुद्ध गंधक एवं पारद लें (16 तोला)
  • दोनों को पत्थर के खरल में डाल कर अच्छे से घोटकर इसकी कज्जली बना लें |
  • ध्यान रखें कज्जली बहुत महीन होनी चाहिए |
  • अब इस कज्जली को काले रंग की मजबूत बोतल में भर लें |
  • बोतल को मिट्टी की हंडी में रख दें और हंडी को बोतल के गले तक मिट्टी से भर दे |
  • इस हंडी को बालुका यंत्र में रख कर 3 घंटे तक मंद आंच दे |
  • इसके बाद आंच को तेज कर दें व 3 – 4 घंटे तक देते रहें |
  • इस तरह से उत्तम एवं गुणकारी रस सिन्दूर तैयार हो जाता है |

रस सिन्दूर के प्रकार (Types of Ras Sindoor)

यह निम्न प्रकार का होता है :-

  • तलस्थ (अंतर्धुम )
  • अर्धगंधकजारित
  • द्विगुणगंधकजारित
  • षडगुण बलिजारित

रस सिन्दूर के फायदे (Benefits of Ras Sindoor)

उष्ण वीर्य वाली यह औषधि बहुत गुणकारी है | यह अनेकों रोगों को नष्ट करने की क्षमता रखती है | रोगानुसार इसका अनुपान अलग अलग तरह से करना होता है | कफ जन्य रोगों में इसका सेवन बहुत फायदेमंद होता है | रस सिन्दूर दूषित कफ को शरीर से बाहर कर सकता है |

आइये जानते हैं किन किन रोगों में फायदेमंद है रस सिन्दूर :-

  • रक्त की गति को बढाता है एवं दोष मुक्त करता है |
  • हृदय को बल प्रदान करता है |
  • यह उत्तेजक है, शरीर के सभी अंगो की क्रिया को बढाता है |
  • कफ जन्य विकारों को बहुत शीघ्र दूर करता है |
  • न्यूमोनिया, इन्फ्लुएंजा, श्वास विकार एवं कास में बहुत उपयोगी है |
  • मांसगत रोगों में बहुत फायदेमंद है |
  • यह उत्तम वाजीकर है |
  • शीघ्रपतन में भी इसका सेवन फायदेमंद रहता है |

रोगानुसार अनुपान एवं उपयोग

रस सिन्दूर का उपयोग अनेकों रोगों को दूर करने के लिए किया जा सकता है | रोगानुसार इसका उपयोग अलग अलग मात्रा एवं अन्य औषधियों के साथ करना होता है | आइये जानते हैं रोगानुसार उपयोग कैसे करें :-

  • रक्त प्रदर में :- 4 रत्ती पीपल की लाख के चूर्ण के साथ 1 रत्ती रस सिन्दूर |
  • ज्वर में :- गोदंती हरिताल भस्म के साथ तुलसी स्वरस से दें |
  • प्रमेह में :- कच्ची हल्दी स्वरस या गिलोय सत्व के साथ शहद में मिलाकर |
  • अर्श में :- छोटी हरड के साथ सेवन करें |
  • अपस्मार में :- बच के चूर्ण के साथ मांस्यादी क्वाथ से दें |
  • श्वास रोग में :- बहेड़े के छिलके के चूर्ण के साथ |
  • पीलिया रोग में :- इसे स्वर्ण माक्षिक भस्म एवं कसीस भस्म के साथ मिलाकर दारुहल्दी क्वाथ के साथ सेवन करें |
  • मूत्रविकार में :- शिलाजीत एवं छोटी इलायची के साथ |
  • वाजीकरण के लिए :- सेमल कंद एवं मूसली चूर्ण के साथ दें |
  • बलवर्धन के लिए :- गिलोय सत्व, प्रवाल भस्म एवं मक्खन के साथ सेवन करें |
  • स्वपन दोष में :- जायफल, लोंग, कपूर, अफीम एवं रस सिन्दूर का सेवन करें |

धातुवृधि के लिए रस सिन्दूर का उपयोग एवं फायदे |

धात की कमजोरी आज नवयुवकों में बहुत बड़ी समस्या बन गयी है | इससे व्यक्ति शारीरिक रूप से तो कमजोर होता ही साथ ही यौन शक्ति भी कम हो जाती है | रस सिन्दूर का अन्य औषधियों के साथ उपयोग करके धातु की कमी को दूर किया जा सकता है |

धातु वृद्धि के लिए 1 रत्ती रस सिन्दूर, बंग भस्म (1 रत्ती) एवं स्वर्ण भस्म चतुर्थांश रत्ती को मिलाकर मलाई के साथ सेवन करें | या लोंग , केसर, जावित्री, पीपल, कपूर, भांग, अफीम एवं नाग भस्म को मिलाकर चूर्ण बना लें | इस चूर्ण को रस सिन्दूर के साथ सेवन करें |

नुकसान या दुषपरिणाम (Side Effect)

सामान्यतः इसके कोई दुष्प्रभाव नहीं हैं | लेकिन पित्त प्रकृति के व्यक्ति के लिए इसका सेवन लाभदायी नहीं होता है क्योंकि यह उष्ण वीर्य वाला रसायन है | अगर पित्त प्रकृति का व्यक्ति इसका सेवन करे तो उसे साथ में प्रवाल पिष्टी जैसी शीत वीर्य वाली औषधियों का सेवन साथ में करना चाहिए |

Patanjali Ras Sindoor Price, Benefits, Uses

पतंजलि हमारे देश की अग्रणी आयुर्वेद दवाइयां बनाने वाली कंपनी है | आइये जानते है पतंजलि द्वारा निर्मित इस उत्पाद के बारे में :-

  • प्रोडक्ट नाम :- Ras Sindoor
  • मात्रा (Quantity) :- 1 ग्राम
  • कीमत (Price) :- 14 रूपए
  • उपयोग एवं फायदे (Uses and Benefits) :- मूत्र विकार, ह्रदय बलकारी, श्वास विकार, इम्युनिटी बढाने के लिए

Baidyanath Ras Sindoor Price, Benefits and Uses

बैद्यनाथ आयुर्वेद जगत में बहुत ही प्रतिष्ठित कंपनी है | इसके उत्पाद बहुत विश्वसनीय होते हैं |

Baidyanath रस सिंदूर
Baidyanath रस सिंदूर
  • प्रोडक्ट नाम :- Ras Sindoor
  • मात्रा (Quantity) :- 2.5 ग्राम
  • कीमत (Price) :- 85 रूपए
  • उपयोग एवं फायदे (Uses and Benefits) :- वाजीकरण, मूत्र विकार, ह्रदय बलकारी, श्वास विकार, इम्युनिटी बढाने के लिए

इसके अलावा आप डाबर एवं उंझा का रस सिदूर (Dabur Ras Sindoor) भी उपयोग में ले सकते हैं | ये उत्पाद भी विश्वसनीय हैं |

आपके लिए हमारे अन्य रोचक आयुर्वेदिक लेख |

रामबाण रस से करें अंदरूनी विकार दूर |

बवासीर की 10 रामबाण आयुर्वेदिक औषधियों की जानकारी |

सभी यौन समस्याओं का काल – कामसुधा योग

पतंजलि की कामशक्ति बढाने वाली दवाएं |

यहाँ पर दी गयी जानकारी सिर्फ आपके सूचनार्थ है इसे चिकित्सकीय सलाह न मानें |

धन्यवाद

One thought on “रस सिन्दूर के फायदे एवं रोगानुसार अनुपान (उपयोग)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You