अंजीर के आयुर्वेदिक गुण, फायदे एवं स्वास्थ्य उपयोग

Deal Score+1
Deal Score+1

अंजीर कैल्शियम, फाइबर एवं विटामिन्स भरपूर फल है | स्वास्थ्य लाभों की दृष्टि से यह फल अत्यंत फायदेमंद है | बाजार में सुखाया हुआ फल आसानी से मिल जाता है | इसमें प्रोटीन 0.579 ग्राम, फाइबर 2 ग्राम के लगभग, फैट 0.22 एवं विटामिन्स, मिनरल्स, सोडियम आदि उपयोगी तत्व होते है |

इसके सूखे फल में 83% के लगभग शुगर की मात्रा होती है अत: यह अत्यंत मीठा फल है | इसका फल तृप्ति दायक एवं पुष्टिकारक होता है | यहाँ इस आर्टिकल में हमने अंजीर से सम्बंधित सभी जानकारियों को आपके समक्ष प्रस्तुत किया है |

अंजीर का सामान्य परिचय

लेटिन नाम – Ficus Carica

कुल – Moraceae

अंग्रेजी नाम – Common Fig

संस्कृत – काको, दुमब्रिका, फल्गु, राजोद्रुमब

उपयोगी अंग – फल

मात्रा – 1 से 2 नग

वानस्पतिक परिचय :- अंजीर का पेड़ 20 से 30 फ़ीट तक ऊँचा होता है |(यहाँ निचे इसकी फोटो देखिये) यह अरब, ईरान, टर्की, अफ्रीका एवं भारत में होता है | हमारे देश में अब यह अधिकतर सभी प्रांतो में उगाया जाने लगा है | इसके पते वट वृक्ष के पत्तों के समान होते है | अंजीर के फल प्राय गूलर के फल के आकार के होते है | कच्चे फल हरे रंग के और पके हुए फल पिले या बैंगनी रंग के होते है | इसको काटने पर यह अंदर से काफी लाल रंग का होता है |

अंजीर
अंजीर का पेड़

स्वरुप – वृक्ष मध्यम प्रमाण का 20 से 30 फ़ीट ऊँचा होता है |

पत्र – वट वृक्ष के पत्र के समान चौड़े, गोल एवं हृदयकृति के होते है | ये ऊपर से चिकने एवं निचे की तरफ से रोमश अर्थात हलके रोमों युक्त होते है |

पुष्प – इसके फूल दीर्घवृन्त के हरे रंग के स्त्री पुष्पासन होते है |

फल – गूलर के समान होते है |इसके फल बाजार में पका कर सुखाये हुए डोरी में पिरोये हुए मिलते है |

अंजीर के औषधीय गुण

आयुर्वेदिक मत से यह अत्यंत शीतल, तत्काल रक्तपित नाशक, सिर व खून की बीमारी में तथा नकसीर में लाभकारी होता है | यूनानी मतानुसार यह पहली दर्जे में गर्म और दूसरे दर्जे में तर है | इसकी जड़ पौष्टिक तथा धवल रोग जिसे श्वेत कुष्ठ कहा जाता के लिए फायदेमंद है | यह दाद एवं खुजली की समस्या में भी फायदेमंद होती है |

इसका फल मीठा, ज्वरनाशक, पौष्टिक, रेचक, कामोद्दीपक, विषनाशक, सूजन में लाभदायक, पथरी को दूर करने वाला ओर कमजोरी, लकवा, प्यास, यकृत एवं तिल्ली की बीमारी व सीने के दर्द के लिए फायदेमंद है |

गुण धर्म

रस – मधुर

गुण – गुरु एवं स्निग्ध

वीर्य – शीत अर्थात इसकी तासीर ठंडी होती है |

विपाक – मधुर

त्रिदोष प्रभाव – वात एवं पित्त शामक |

अंजीर के फायदे या स्वास्थ्य उपयोग

यह फल तृप्तिदायक एवं पुष्टिकारक होता है | पेट की रुक्षता को दूर करके मलबद्धता को ख़त्म करता है | अंजीर पीलिया, यकृत रोग, अर्श, प्लीहावृद्धि, खांसी, श्वास एवं रक्त विकार में फायदेमंद रहता है | इसके सूखे फल अधिक कारगर साबित होते है | अत स्वास्थ्य उपयोग की दृष्टि से सूखे फलों का ही अधिक इस्तेमाल किया जाता है |

पुष्टिकारक

आयुर्वेद के अनुसार अंजीर शारीरिक पुष्टि प्रदान करने वाला औषधीय फल है | इसमें पाए जाने वाले तत्व जैसे – फाइबर, कैल्शियम, प्रोटीन, सोडियम, फैटी एसिड एवं सैचुरेटेड फैट आदि शरीर को बल प्रदान करने का कार्य करती है |

पुष्टि के लिए अंजीर 1 एवं बादाम 5 – 10 दूध में उबाल कर नियमित सुबह सेवन करने से शरीर को बल एवं पुष्टि की विरद्धि होती है |

श्वास रोग में अंजीर का प्रयोग

श्वास एवं कास अर्थात खांसी की समस्या अधिकतर कफ की अधिकता एवं कमजोर श्वसन प्रणाली के कारण होती है | अंजीर श्वास एवं खांसी में उत्तम कार्य करती है | श्वसन विकारों के रोगी को नियमित अंजीर व् गोरखइमंलि प्रत्येक 6 – 6 ग्राम लेने से श्वांस के रोग में आराम मिलता है |

यह प्रयोग हृदयावरोध की समस्या को भी ठीक करता है | श्वांस रोग में दूसरा प्रयोग 1 अंजीर के टुकड़े को पानी में उबाल लें एवं साथ में लौंग एवं कालीमिर्च का पाउडर छिड़कर प्रयोग में लेने से भी खांसी एवं श्वांस में आराम मिलता है |

हृदयविकार

ह्रदय को बल प्रदान करने एवं हृदय विकारों से बचने में अंजीर फायदेमंद फल है | इसके पत्तों का भी प्रयोग चूर्ण बना कर हृदय विकारों में करने से लाभ मिलता है | एक अध्यन के अनुसार इसके पत्तों का एक्सट्रेक्ट लिपिड प्रोफाइल और hdl को काम करने का कार्य करती है |

  • विद्रधि की समस्या में अंजीर को चटनी की तरह पीसकर पानी मिलाकर इसकी पुल्टिस तैयार करलें | इस पुल्टिस को प्रभावित स्थान पर बांधने से विद्रधि में आराम मिलता है |
  • कंठशोथ (गले में सूजन) – गले में सूजन हो तो इसे उबाल कर गले के बाहर लेप करने से लाभ मिलता है |
  • यकृत एवं प्लीहा वृद्धि में अंजीर को जामुन के सिरके में भिगोकर प्रयोग करने से यकृत एवं प्लीहा वृद्धि में लाभ मिलता है |
  • खुनी बवासीर – अगर बवासीर की समस्या है तो दो सूखे अंजीर को रात के समय पानी में भिगो दें | इन्हे सुबह पानी से निकाल कर खा लें | इसी प्रकार सुबह दो अंजीर पानी में भिगोकर रात के समय प्रयोग में लेने से खुनी बवासीर ठीक होने लगता है |
  • सफ़ेद कोढ़ के आरम्भ में ही अंजीर के पत्तों का रस लगाने से उसका बढ़ना बंद होकर आराम मिलता है |
  • अंजीर लकड़ी पानी के अंदर घोलकर गाद के निचे बैठ जाने के बाद उसका निथरा हुआ पानी निकाल कर फिर से उसमे इसकी राख को घोल कर ऐसा लगभग 7 बार करने से एवं इस पानी को रोगी को पिलाने से रुधिर का जमाव बिखर जाता है |
  • सूखे एवं हरे अंजीर को पीसकर जल में औंटाकर गुनगुना लेप करने से गांठो व फोड़ो की सूजन नष्ट हो जाती है |
  • अंजीर और गोरख इमली का चूर्ण समान भाग लेकर प्रात: काल छह माशे की खुराक में खाने से दमे के रोग से छुटकारा मिलता है |

सामान्य सवाल – जवाब

अंजीर खाने से कौन – कौन से फायदे होते है ?

अंजीर फलों का सेवन भिगोकर नियमित रूप से करने पर हृदय विकार, अस्थमा, कब्ज, अपच, भूख की कमी, बवासीर एवं यकृत और प्लीहा के रोगों में लाभ मिलता है | यह कैल्शियम, आयरन, सोडियम, फाइबर, मैग्नेशियम एवं प्रोटीन का उत्तम स्रोत है अत: शारीरिक पुष्टि एवं बल का वर्द्धन करता है |

अंजीर कब और कैसे खाना चाहिए ?

इसका सेवन किसी भी ऋतू में किया जा सकता है वैसे आयुर्वेद के अनुसार ग्रीष्म, वर्षा एवं हेमंत ऋतू में इसका सेवन करना चाहिए क्योंकि इसकी तासीर ठंडी होती है | अंजीर को दूध में उबाल कर खाना चाहिए या रात्रि में एक गिलास पानी में अंजीर के सूखे फलों को भिगो कर सुबह खाना चाहिए |

इसके कौन – कौन सी आयुर्वेदिक दवाएं बनती है ?

आयुर्वेद चिकित्सा में अंजीर के सहयोग से जन्मघुटी एवं प्रदरनाशक योग आदि दवाओं का निर्माण किया जाता है |

धन्यवाद ||

Mr. Yogendra Lochib

Mr Yogendra Lochib is a experienced and qualified Ayurveda Nurse & Pharmacist. He was Graduated (2009-2013) from Dr Sarvepalli Radhakrishnan Rajasthan Ayurved University, Jodhpur.He has Good Knowledge about Ayurvedic Herbs, Medicine, Panchkarma Procedure & Naturopathy. The Author believes in sharing the knowledge of Ayurveda (As it was shared 5000 years ago orally) using online platforms, and he is doing well.

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0