गोदंती भस्म के उपयोग एवं बनाने की विधि (अपडेटेड)

Deal Score0
Deal Score0

गोदंती भस्म Godanti Bhasma in Hindi आयुर्वेद चिकित्सा की महत्वपूर्ण एंटीफीवर दवा है | यह बुखार, जीर्ण ज्वर (पुराना बुखार), मलेरिया आदि में महत्पूर्ण आयुर्वेदिक दवा साबित होती है | इसके अलावा योनिविकार जैसे श्वेतप्रदर एवं रक्तप्रदर, हाई ब्लड प्रेशर, सिरदर्द, श्वास – कास एवं कैल्शियम की कमी आदि में भी प्रमुखता से प्रयोग करवाई जाती है |

यह गोदंती अर्थात गाय के दांत के समान दिखाई देने के कारण कहा जाता है | दर:शल गोदंती भस्म जिप्सम {CaSO4 2H2O} से निर्मित होती है , जिप्सम जब टुकड़ो में रहता है तो गाय के दांत के समान दिखाई देता है | तभी इससे बनने वाली दवा को गोदंती भस्म कहा जाता है |

गोदंती भस्म

गोदंती भस्म बनाने की विधि

भस्म का निर्माण करने के लिए सबसे पहले शुद्ध जिप्सम को लिया जाता है | अब इसे चूर्ण रूप करके घृत कुमारी स्वरस की भावना दी जाती है | भावना देने के पश्चात इसकी छोटी – छोटी टिकिया बना ली जाती है |

अब इन टिकियों को मिटटी के बर्तन में रख कर ऊपर से इसका मुख अच्छी तरह बंद करके कंडो की अग्नि देकर भस्म बना ली जाती है | इस प्रकार से गोदंती भस्म का निर्माण होता है |

बाजार में यह बनी बनाई बैद्यनाथ गोदंती भस्म, पतंजलि दिव्य गोदंती भस्म आदि आसानी से उपलब्ध हो जाती है | इसे हरताल गोदंती भस्म भी कहा जाता है |

गोदंती भस्म के उपयोग या फायदे

निम्न रोगों में गोदंती भस्म का उपयोग किया जाता है | यह विभिन्न रोगों में आयुर्वेदिक चिकित्सको द्वारा प्रमुखता से उपयोग में ली जाती है |

  • ज्वर अर्थात बुखार
  • जीर्ण ज्वर {पुराना बुखार}
  • टाइफाइड बुखार में उपयोगी है |
  • शारीरिक दर्द |
  • कैल्शियम की कमी |
  • श्वांस – कास एवं जुकाम में फायदेमंद |
  • जोड़ो के दर्द |
  • श्वेत प्रदर |
  • रक्त प्रदर |
  • गर्भाशय रक्त स्राव |
  • योनि विकार |
  • मलेरिया |
  • विषम ज्वर |
  • ऑस्टियोपोरोसिस

गोदन्ती भस्म का सेवन कैसे करें

इसका सेवन भोजन करने के पश्चात 125mg से 250mg तक की मात्रा में किया जा सकता है | अनुपान के रूप में शहद, जल या तुलसी स्वरस, मिश्री के साथ किया जा सकता है | महिलाओं में सफ़ेद पानी की समस्या में इसके साथ प्रवालपिष्टी मिलाकर सेवन किया जाता है |

अत: विभिन्न रोगों में सेवन करने का तरीका भी भिन्न हो सकता है | आयुर्वेदिक वैद्य के परामर्श से सेवन किया जाना चाहिए |

सावधानियां

गोदन्ती भष्म का सेवन वैद्य निर्देशित समय तक के लिए 125mg से 250mg तक सेवन करना नुकसान रहित है | लेकिन इससे अधिक मात्रा एवं नियमित महीने भर से अधिक सेवन करने पर लिवर के लिए नुकसान दायक हो सकती है |

धन्यवाद |

Avatar

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0