Ayurvedic Medicine, दवाइयां, मातृत्व, स्वस्थ आहार, हेल्दी रेसपी

सौभाग्य शुंठी पाक / Saubhagya Sunthi Pak – उपयोग, लाभ एवं नुकसान |

Saubhagya Sunthi Pak एक आयुर्वेदिक औषधि है जो सूतिकारोग, भूख की कमी, आमवात, बुखार एवं खांसी आदि की समस्या में प्रयोग में ली जाती है | शास्त्रों में कहा गया है कि यह बुद्धि को बढाने वाली, तेज देने वाली, वीर्य एवं प्रसूति महिलाओं के लिए गुणकारी आयुर्वेदिक दवा है |

जैसा इसका नाम है सौभाग्य उसी प्रकार से यह महिलाओं के लिए भाग्योदय वाली औषधि साबित होती है | सूतिकावस्था में इसका सेवन करने से माताओं में दूध खुलकर आता है एवं इस समय होने वाली व्याधियाँ (जैसे योनी विकार, मासिक धर्म की समस्या, भूख की कमी, दूध न उतरना एवं प्रदर रोग) से भी बचाव होता है |

सौभाग्य शुंठी पाक

सौभाग्य शुंठी पाक चूर्ण एवं पाक दोनों फॉर्म बाजार में उपलब्ध है | अधिकतर ग्रेन्युलस अर्थात चूर्ण अवस्था में यह उपलब्ध हो जाता है | प्रसव पश्चात माताओं को आयुर्वेदिक चिकित्सक के निर्देशानुसार इसका सेवन करना चाहिए | यह माता एवं बच्चे को विभिन्न रोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान करती है |

सौभाग्य शुंठी पाक के घटक द्रव्य

इस आयुर्वेदिक दवा में शुंठी (सुखी अदरक) मुख्य घटक होता है | शुंठी के अलावा इसमें लगभग 27 अन्य आयुर्वेदिक द्रव्यों का समावेश रहता है | हमने यहाँ भैषज्य रत्नावली के स्त्रिरोगाधिकार के अनुसार इसके घटक द्रव्यों का वर्णन किया है |

कशेरुश्रंगाटवराटमुस्तं द्विजिरकं जातिफलम सकोषम |
लवंग शैलेयसनागपुष्पं पत्रं वरांग शटी धातकी च ||
एला शातःया धनिकेभपिप्पली सप्पिपली शोषणका शतावरी |
प्रत्येकमेषामिह कर्षयुग्म लौह्म तथाभ्र पलभागयुक्तम ||
महौषधाच्चर्णपलानी चष्टो पलानी त्रिंशत्सितशर्करया: |
पलानी चाष्टावपी सर्पिषश्च प्रस्थद्वयं क्षीरमिहं प्रयुक्तं ||

( भै. र. स्त्रीरोग / 396-398 )
  • कशेरु – 24 ग्राम
  • श्रंगाटक – 24 ग्राम
  • कमलगट्टा – 24 ग्राम
  • मुस्ता – 24 ग्राम
  • सफ़ेद जीरा – 24 ग्राम
  • काला जीरक – 24 ग्राम
  • जावित्री – 24 ग्राम
  • जायफल – 24 ग्राम
  • लौंग – 24 ग्राम
  • नागकेशर – 24 ग्राम
  • तेजपता – 24 ग्राम
  • शैलेय – 24 ग्राम
  • शटी – 24 ग्राम
  • सुक्ष्मैला – 24 ग्राम
  • धान्यक – 24 ग्राम
  • दालचीनी – 24 ग्राम
  • धातकी – 24 ग्राम
  • शातःया – 24 ग्राम
  • शतावरी – 24 ग्राम
  • पिप्पली – 24 ग्राम
  • कालीमिर्च – 24 ग्राम
  • गजपिप्पली – 24 ग्राम
  • पिप्पली – 24 ग्राम
  • लौह भस्म – 48 ग्राम
  • अभ्रक भस्म – 48 ग्राम
  • सौंठ – 384 ग्राम
  • गोघृत – 384 ग्राम
  • शक्कर – 1.440 किग्रा
  • गोदुग्घ – 1.536 किग्रा

सौभाग्य शुंठी पाक बनाने की विधि

Time needed: 2 hours.

सौभाग्य शुंठी पाक बनाने की विधि जानने से पहले हम आपको बताना चाहते है कि यह विधि भै. र. स्त्रीरोग के अनुसार वर्णित है | इसे अन्य विधियों से भी बनाया जाता है | जैसे विभिन्न फार्मेसी इसे अन्य शास्त्रियों योगों के आधार पर भी बनाती है | इनमे कुछ घटक द्रव्य एवं बनाने की विधि अलग हो सकती है |

  1. खोया बनाना

    सबसे पहले सौभाग्य शुंठी पाक के मुख्य द्रव्य सौंठ के महीन चूर्ण को गाय के दूध में डालकर मन्दाग्नि पर खोया का निर्माण किया जाता है | (मात्रा ऊपर बताई गई है)

  2. गाय के घी में भूनना

    अब तैयार खोया को गाय के घी में भर्जन किया जाता है | घी की मात्रा 384 ग्राम बताई गई है | जब खोया का दाना अलग – अलग दिखाई दे तब इस प्रक्रिया को रोक दें |

  3. चासनी तैयार करना

    अब 1.440 किग्रा शक्कर की चासनी तैयार करें | चासनी अच्छी तरह तैयार होने के पश्चात अगली स्टेप पर जाया जाता है |

  4. औषध द्रव्य मिलाना

    अच्छी तरह चासनी तैयार होने के पश्चात शेष औषध जड़ी – बूटियों का चूर्ण तैयार करलें | अब चासनी में भुना हुआ खोया एवं शेष जड़ी – बूटियों का चूर्ण मिलाकर ढककर रखें | इस प्रकार से Soubhagya Sunthi pak का निर्माण होता है |

सौभाग्य शुंठी पाक के फायदे / उपयोग

यह मुख्य रूप से सूतिकारोग, मन्दाग्नि, अतिसार, गृहणी, आमवात, ज्वर एवं खांसी आदि की समस्या में प्रयोग की जाती है | प्रसूता स्त्रियों को आयुर्वेदिक चिकित्सकों द्वारा मुख्यत: प्रयोग करवाई जाती है |

यह औषधि यकृत को बल देने वाली, भूख बढ़ाने वाली, कांतिदायक, प्रदर नाशक, बलदायक, एवं पुरुषों में वीर्य को बढ़ाने वाली होती है | इसके निम्न फायदे है

  • माताओं में स्तन्य को बढ़ाने में फायदेमंद है |
  • अग्निदीपक के रूप में कार्य करती है ; अत: भूख न लगने की समस्या में लाभदायक है |
  • वात एवं कफ का शमन करने वाली है ; अत: सर्दी – जुकाम एवं खांसी आदि में फायदेमंद है
  • आम का पाचन करती है ; अत: आमवात में लाभदायक औषधि है |
  • सूतिका रोगों में फायदेमंद |
  • इसे आयुर्वेदिक टॉनिक कहा जा सकता है, क्योंकि यह पुरुषों में वीर्य वर्द्धि करती है |
  • सौभाग्य शुंठी पाक बलकारक, आयुवर्द्धक एवं कान्ति दायक आयुर्वेदिक औषधि है |
  • प्रसुताओं में होने वाले योनी विकार एवं मासिक धर्म की समस्या में अमृत समान लाभदायक है |

सेवन की विधि एवं सावधानियां

सौभाग्य शुंठी पाक का सेवन 12 ग्राम तक की मात्रा में दूध के साथ सुबह – शाम किया जा सकता है | इसका सेवन करते समय खट्टी, तेलिय एवं अधिक मिर्च – मसाले वाली अर्थात पित्त को बढाने वाले खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए |

आयुर्वेदिक चिकित्सक का परामर्श अवश्य लें |

नुकसान

प्रमुखत: इस आयुर्वेदिक योग का सेवन अगर सिमित मात्रा में किया जाए तो कोई नुकसान नहीं है | यह पूर्णत: आयुर्वेदिक योग है लेकिन फिर भी रोग एवं रोगी की स्थिति के आधार पर इसका सेवन आयुर्वेदिक चिकित्सक रोक सकते है | जैसे जिन प्रसूता महिलाओं में पित्त की अधिक समस्या जैसे सीने में जलन, खट्टी डकारें आदि हो तो उनको इसका सेवन नहीं करना चाहिए |

धन्यवाद |

Mr. Yogendra Lochib

About Mr. Yogendra Lochib

Mr Yogendra Lochib is a experienced and qualified Ayurveda Nurse & Pharmacist. He was Graduated (2009-2013) from Dr Sarvepalli Radhakrishnan Rajasthan Ayurved University, Jodhpur.He has Good Knowledge about Ayurvedic Herbs, Medicine, Panchkarma Procedure & Naturopathy. The Author believes in sharing the knowledge of Ayurveda (As it was shared 5000 years ago orally) using online platforms, and he is doing well.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.