पारद क्या है ? इसके भेद, दोष एवं पारद शोधन की विधि

पारद खनिज पदार्थों में गिना जाता है | यह अन्य धातु मिश्रित एवं मुक्त दोनों अवस्थाओं में प्राप्त होता है | हमारे पौराणिक शास्त्रों के अनुसार यह दिव्य रसायन है जिससे सब कुच्छ संभव है |

पारद
image – en.wikipedia.com

यह मृत्यु पर विजय हासिल कर सकता है | शास्त्रों में पारद की उत्पति की कथाएं मौजूद है | शास्त्रों के अनुसार यह भगवान् शिव के वीर्य से उत्पन्न दिव्य खनिज पदार्थ है | जिसके सेवन से जरा, मृत्यु, असंभव को संभव करने जैसी शक्ति है |

निश्चित ही यह अतिउत्तम किस्म का दिव्य चमत्कारी रसेन्द्र है लेकिन शास्त्रोक्त वर्णित संस्कार एवं सिद्धि में अभी तक पूर्ण सफलता नहीं मिली है | पारद के शास्त्रोक्त वर्णित शोधन से इसे स्वास्थ्य उपयोगी बनाया जाता है |

पारद क्या है – पारद एक खनिज पदार्थ है जिसे भारतीय शास्त्रों में रसराज – रसेन्द्र आदि कहा गया है अर्थात यह सभी धातुओं में उत्तम है | यह मुक्त और मिश्रित दोनों अवस्थाओं में प्राप्त होता है |

पारद के भेद / Parad ke Bhed

आयुर्वेद में पारद के पांच भेद वर्णित है | ये सभी भेद पारद के प्राप्ति स्थान अर्थात स्थान भेद के आधार पर है | परन्तु वैसे इसका एक ही प्रकार है |

१. रस – रसनात्सर्वधातुना रस इत्यभिधीयते |

रस रत्न समुच्चय में में कहा गया है कि यह पारद सभी धातुओं का भक्षण कर लेता है अत: यह रस कहलाता है |

2. रसेन्द्र – रसोपरसराज त्वाद्रसेंद्र इति कीर्तित: |

अर्थात इसे रसों एवं उपरसों का राजा माना जाता है अत: इसे रसेन्द्र कहा जाता है | यह रसों एवं लोहों आदि को भस्म करता है इसलिए भी इसे रसेन्द्र कहते है |

३. सूत – सूते यस्मातसर्वसिद्धि तस्मात्सुत इति स्मृत: |

इससे सभी प्रकार की सिद्धियाँ जन्म लेती है | अर्थात सभी सिद्धियों को जन्म देने के कारण इसे सूत कहते है |

4. पारद – जन्म रोग, वृद्धावस्था, मृत्यु और दरिद्रता से यह मनुष्य को पार लगाता है | अत: इसे पारद कहते है |

५. मिश्रक – यह सभी कर्मों अर्थात सर्वकर्मों की योग्यता रखता है और सभी सिद्धियों को देने वाला होता है अत: इसे मिश्रक पारद कहते है |

पारद के दोष / Parad ke Dosh

बिना शोद्धित पारद बहुत ही विषैला जहर है | इसमें विभिन्न दोष पाए जाते है | आयुर्वेद के आचार्यो ने पारद के कुल १२ प्रकार के दोष बताये है |

शुद्ध पारद अत्यंत चमकीला होता है | यह रसकर्म के लिए आयुर्वेद के अनुसार ग्राह्य माना गया है |

जिस पारद का रंग पीला, धूम्रवर्ण या अन्य अनेक रंगों वाला हो तो उसे आयुर्वेद चिकित्सा में रस्कर्मार्थ प्रयोग में नहीं लिया जाता |

१. नैसर्गिक दोष – यह दोष पारद का प्राकृतिक दोष होता है | खानों में खनन के दौरान इसमें कई विष आदि मिल जाते है | इसके मुख्यत: तीन नैसर्गिक दोष होते है – १. विष, २. अग्नि और ३. मल

२. यौगिक दोष – यौगिक दोष वे दोष होते है जो पारद में अन्य किसी समान स्वाभाव वाले धातुओं आदि को मिला दिया जाता है | व्यापारी लोग अधिक मुनाफे के लिए इसमें वंग एवं नाग आदि धातुओं का मिश्रण इसमें कर देते है अत: यह दोष यौगिक दोष कहलाता है |

मुख्यत: यह दो प्रकार का होता है – १. वंग दोष एवं दूसरा २. नाग दोष

३. औपधिक दोष – पारद में ७ प्रकार के औपाधिक दोष संचित होते है | यह दोष इसमें स्वभावत: मिटटी, जल, कंकड़ एवं नाग या वंग के सम्पर्क में आने से होने वाला दोष होता है |

जैसे मिटटी में से कुच्छ दोष इसमें आ जाते है तो इसे भूमिज दोष की संज्ञा दी जाती है | इसी प्रकार पहाड़ो के कंकर आदि के दोष गिरिज दोष कहलाता है |

पारद का शोधन / Parad Shodhan / पारद शुद्ध करने की विधि

इसका शोधन मुख्यत: दो प्रकार से किया जाता है | एक साधारण शोधन एवं दूसरा विशिष्ट शोधन | अच्छी तरह से शोधन करने के पश्चात ही इसको औषधि उपयोग के लिए ग्रहण किया जाता है |

१. साधारण शोधन

पारद – 500 ग्राम

चुना – 500 ग्राम

रसोन – 500 ग्राम

सैन्धव लवण – 250 ग्राम एवं निम्बू का रस – आवश्यकतानुसार

शोधन की विधि – सबसे पहले खरल में पारद को डालें एवं अधोर मन्त्र पंचाक्षरी मंत्रो का जाप करें | अब चुने पर थोड़ा पानी डालकर इसे चूर्ण करलें | अनबुझे चुने पर जब पानी डाला जाता है तब यह गरम होकर चूर्ण रूप में हो जाता है |

चूर्ण होने के पश्चात इसे छलनी से छान लें | इस छने हुए चुने को खरल में पारद के साथ डालें एवं तीन दिनों तक 8 – ८ घंटे मर्दन करें |

इससे चुने में बहुत पारद मिल जायेंगे एवं चुने एवं इसका रंग काले रंग का हो जायेगा | अब जितना पारद चूर्ण से अलग हो उसे खरल से बाहर निकाल लें | शेष में गरम पानी डालकर इसको निकाल लें |

जल को धुप में सुखा कर निचे बचे हुए पारद को भी निकाल लें |

अब अलग निकाले गए पारद को रसोन के कल्क डालकर एवं साथ में सैन्धव मिलाकर मर्दन करें |

साथ – साथ में निम्बू का स्वरस भी डालते जाएँ एवं मर्दन करते जाएँ | इस प्रकार से इसका मर्दन लगभग तीन दिन तक करना है |

अब इस कल्क का रंग भी श्याम रंग का हो जायेगा | इसमें ऊपर से गरम पानी डालकर फिर से मर्दन करें एवं इक्कठा ऊपर का पानी किसी अन्य बर्तन में निकाल लें |

इस प्रकार कई बार करने से पारद निचे बैठा हुआ मिलेगा | यह पारद ग्राह्य होगा | लेकिन पारद का शोधन सावधानी पूर्वक करना चाहिए |

धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You