पत्थरी कीलर औषधीय पौधा – पाषाणभेद (Pashanbhed)

Deal Score0
Deal Score0

भारत में काश्मीर, नेपाल एवं हिमालय के मध्य भाग में होने वाली औषधीय वनस्पति है | इसका क्षुप (झाड़ी) नुमा पौधा होता है | पत्थरीले क्षेत्रों में अधिकतर होती है , इसीलिए इसे पाषाणभेद कहा जाता है |

पाषाणभेद
image – wikipedia.org

पाषाणभेद का पौधा – के पते मोटे, हरे व्रण के एवं आगे से कटीले आकर के होते है | आयुर्वेद चिकित्सा में पाषाणभेद के मूल (जड़) का प्रयोग चिकित्सार्थ किया जाता है | यह पत्थरी, यौनीगत विकार, मूत्रकृच्छ, गुल्म, हृदय रोग, प्रमेह एवं प्लीहा रोगों आदि में प्रयोग की जाती है |

इसे पत्थरी किलर कहा जा सकता है, क्योंकि पाषाणभेद के सेवन से पत्थरी कट – कट कर शरीर से बाहर आ जाती है | नित्य 5 ग्राम पाषाणभेद चूर्ण का सेवन करने से अश्मरी की समस्या से छुटकारा मिलता है |

पाषाणभेद के बारे में अधिक जानने के लिए इसके औषधीय गुणों के बारे में जानना आवश्यक है | इसलिए यहाँ हम इसके औषधीय गुणों के बारे में बता रहें है |

पाषाणभेद के औषधीय गुण

अश्मभेदो हिमस्तिक्त: कषायो बस्ती शोधन:|
भेद्नो हन्ति दोषार्शोगुल्मकृछ्राश्मह्र्य्दुज ||
योनिरोगान प्रमेहान्स्च प्लीहशूलव्रणान च |

यह रस में कषाय एवं तिक्त, गुणों में लघु एवं स्निग्ध होती है | पाषाणभेद शीत वीर्य अर्थात ठंडी तासीर की होती है | पचने के पश्चात इसका विपाक कटु होता है | अपने इन्ही गुणों के कारण यह त्रिदोष शामक औषधि साबित होती है | मूत्रविरेचन एवं भेदन जैसे कर्मों से युक्त आयुर्वेदिक औषधीय द्रव्य है |

रोग्घ्नता – मूत्रकृछ, अश्मरी, गुल्म (आफरा), हृदय रोग, योनिगत रोग, प्रमेह, प्लीहा रोग, शूल (दर्द) एवं व्रण (घाव) आदि में उपयोगी औषधि है |

पाषाणभेद / Pashanbheda के फायदे

1 . शूल – दर्द होने पर इसके चूर्ण को गुनगुने पानी के साथ सेवन करने से लाभ मिलता है | इस चूर्ण के साथ थोड़ी मात्रा में सैन्धव लवण मिलाकर सेवन किया जाए तो पेट दर्द जैसी समस्या दूर होती है |

2. गुल्म (वायु गोला) – पेट में गैस बनना या गुल्म अर्थात आफरा की शिकायत हो तो पाषाणभेद के पंचांग से निर्मित चूर्ण का प्रयोग करने से गुल्म की समस्या से राहत मिलती है |

3. मूत्रकृछ – पेशाब में जलन या रूकावट की समस्या में भी पाषाणभेद का सेवन फायदेमंद रहता है | इसके साथ गोखरू एवं सोंठ मिलाकर पाषाणभेद का क्वाथ बना लें | इसमें यवक्षार मिलाकर सेवन करें मूत्रकृछ में लाभ मिलेगा |

4. हृदय रोग – पाषाणभेदादी चूर्ण का सेवन करने से हृदय विकारों में अत्यंत लाभ मिलता है | पाषाणभेद के साथ अर्जुन क्वाथ का काढा बना कर सेवन करने से हृदय विकारों में लाभ मिलता है | यह रक्तवाहिनियों को खोलने का कार्य करती है |

5. योनीगत रोग – योनी रोगों में पाषाणभेद चूर्ण का सेवन फायदेमंद रहता है | सुजन एवं दाह में इसके क्वाथ या चूर्ण का सेवन उपयोगी सिद्ध होता है |

6. पत्थरी – अश्मरी की शिकायत में यह अत्यंत लाभदायक सिद्ध होता है | गुर्दे की पत्थरी एवं अन्य अश्मरी की शिकायत में इसके क्वाथ या चूर्ण का सेवन करने से पत्थरी कट कर बाहर निकल जाती है |

आयुर्वेद चिकित्सा में इसके सहयोग से पाषाणभेदादी घृत एवं पाषाणभेदादी चूर्ण आदि का इस्तेमाल किया जाता है |

सेवन का तरीका – चूर्ण का सेवन सुबह शाम 3 से 6 ग्राम तक किया जाना चाहिए | वहीँ इससे निर्मित क्वाथ (काढ़ा) का प्रयोग 50 से 100 मिली तक किया जाना चाहिए |

धन्यवाद

आपके लिए अन्य स्वास्थ्यप्रद जानकारियां

  1. हिंग्वाष्टक चूर्ण के फायदे
  2. अविपत्तिकर चूर्ण के फायदे
  3. पेटदर्द में अपनाये ये नुस्खे
  4. ऊँट कटारा का वानस्पतिक परिचय
  5. उष्ट्रासन योगासन के फायदे
Avatar

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0
      Open chat
      Hello
      Can We Help You