desi nuskhe, udar rog, Uncategorized

पेट दर्द – पेटदर्द के कारण एवं घरेलु उपचार

पेट दर्द

अधिकांश रोग गलत प्रकार के खान-पान के कारण होते है | पेट दर्द भी उन्ही में से एक है | पेट दर्द कभी भी किसी को भी हो सकता है | इस रोग से बच्चे , जवान , बूढ़े सभी परेशान रहते है | सामान्य पेट दर्द ज्यादातर लोगो को खाना खाने के पश्चात अचानक शुरू होता है , वंही कइयो को पेट दर्द की शिकायत खाना खाने से पहले भी हो जाती है | पेट दर्द का मुख्या कारण अनियमित खान – पान और गलत आहार- विहार होता है | पेट दर्द का उपचार करते समय अपने खान – पान की आदतों में भी सुधार जरुरी होता है |
पेट दर्द का घरेलु इलाज
अपच , गैस , बादी आदि कई कारणों से पेट दर्द हो सकता है | आज की इस पोस्ट में हम आपको पेट दर्द के कारण और इसके घरेलु उपचार के बारे में बताएँगे ताकि आप घर पर ही पेट दर्द का इलाज कर सके |

पेट दर्द के कारण 

पेट दर्द कई कारणों से हो सकता है | पेट दर्द का मुख्य कारण गलत  खान – पान है इसके अलावा अपच, बदहजमी, कब्ज , अधिक दस्त लगने से , अमाशय की गड़बड़ी के कारण भी पेट दर्द हो सकता है | पेट में गैस बनना , पेप्टिक अल्सर , यकृत के रोग , गुर्दे के रोग, अजीर्ण आदि रोगों में भी पेट दर्द की शिकायत देखने को मिलती है | महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान भी पेट दर्द हो सकता है | अगर सामान्य पेट दर्द को देखा जाए तो यही ऊपर वर्णित कारण है जिनसे किसी स्वस्थ व्यक्ति को पेट दर्द की शिकायत हो सकती है |

पेट दर्द के घरेलु उपचार / घरेलु नुस्खे 

पेट दर्द मनुष्य को परेशान कर देता है | पेट दर्द होने पर स्रव्प्रथम हमें अपने भोजन पर ध्यान देना चाहिए ,  सुपाच्य और हल्का भोजन ग्रहण करना चाहिए | हरी पतेदार सब्जियां, फल और अधिक रेशे वाले पदार्थो का इस्तेमाल अपने भोजन में करना चाहिए |
1. सेब का सिरका – पेट दर्द में सेब का सिरका एक बेहतरीन औषधि साबित होती है | सेब के सिरके में पेक्टिन प्रयाप्त मात्रा में होता है जो पेट में गैस , मरोड़ और दर्द को छू मंतर कर देता है | सेब का सिरका अम्लीय गुणों से युक्त होता है इसलिए यह आपके पेट के क्षारीयता और संक्रमण को दूर करता है |
2. हींग – गैस , अपच या अन्य किसी खान-पान के कारण पेट दर्द है तो हींग सबसे बढ़िया घरेलु इलाज है | हींग को पानी के साथ मिलाकर पेट और नाभि के पास लगाने से पेट दर्द में काफी आराम मिलता है |
3. दालचीनी – दालचीनी और थोड़ी से हींग को पिस ले और थोड़े से पानी के साथ घोल कर पी ले | जल्द ही पेट दर्द  शांत हो जायेगा |
4. अजवाईन – पेट दर्द में अजवाइन भी काफी फायदे मंद होती है | एक चम्मच अजवाइन को तवे पर डालकर भुन ले , अच्छी तरह भूनने के बाद इसे महीन पीसकर थोडा सा सेंधा नमक मिलाकर फंकी ले ले | तुरंत राहत मिलेगी |
5. अदरक – अदरक के एक चम्मच रस निकाल ले और इसमें थोडा सा शहद मिलाकर चाटे | दर्द जाता रहेगा
6. पुदीना – पुदीना पेट दर्द और अजीर्ण में काफी लाभ दायक होता है | पुदीने की साफ – सुथरी पतियों को सिलबटे पर पीसकर इनका रस निकाल ले | इस रस में आधा निम्बू निचोड़े और साथ में थोडा सा काला नमक मिला ले | इसका इस्तेमाल दिन में 3- 4 बार करे | पेटदर्द ठीक हो जायेगा |
7. सौंफ – पेट दर्द में सौंफ भी काफी फायदेमंद होती है | 3 चम्मच सौंफ को रात में एक गिलास पानी में भिगों दे सुबह सौंफ को पीसकर – मिश्री मिलाकर इसके पानी का सेवन करे | जल्द ही रहत मिलेगी |
8. प्याज – अगर पेट दर्द आफारे के कारण हो रहा है तो एक प्याज का रस निकाल ले और इसमें कालीमिर्च का चूर्ण मिलाकर सेवन करे | आफरे से होने वाले पेट दर्द में यह घरेलु नुस्खा काफी कारगर है |
9. गैस के कारण होने वाले पेट दर्द में एक चुटकी लौग्ग का चूर्ण पानी में घोल कर पिने से गैस पेट से बाहर निकल जाती है एवं पेट दर्द रुक जाता है |
10. सोंठ पीसी हुई – आधा चम्मच , एक चुटकी सेंधा नमक , एक चुटकी काला नमक और थोड़ी से हिंग – इन सभी को आधा गिलास पानी में मिलाकर हल्का गरम करके पी जावे |
11. जीरे को पिस कर इसमें थोडा सा शहद मिलाकर चाटने से पेट दर्द में राहत मिलती है |
12. लहसुन का आधा चम्मच रस निकाल ले और इसमें एक चुटकी काला नमक मिलाकर सेवन करे पेट दर्द में काफी लाभ देता है |
सामान्य तौर पर होने वाले पेट दर्द में आप इन घरेलु नुस्खो से आराम पा सकते है | लेकिन अगर आप अपने खान- पान और आहार – विहार का ध्यान रखेंगे तो पेट दर्द जैसे कई रोगों से बच्च सकते है | पुराने मान्यताओ अनुसार पेट ही आपके स्वास्थ्य का परिचायक होता है | अगर पेट ख़राब है तो आपको बहुत सी व्याधियां तो गिफ्ट में ही मिल जाती है |
धन्यवाद |

About स्वदेशी उपचार

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.