Mail : treatayurveda@gmail.com

मधुमेह को रखिये बेडरूम से दूर || जानें मधुमेह की 5 आयुर्वेदिक दवाएं

मधुमेह को रखिये बेडरूम से दूर

‘आजकल पत्नी हमेशा परेशान रहती है डॉक्टर। क्या इसका कोई उपाय है?’ रामबाबू पूछ रहे थे । ‘लेकिन वह परेशान क्यों है?’ यह सवाल पूछने पर रामबाबू ने तुरंत कहा, ‘क्या करू डॉक्टर? आजकल उसके करीब जाने का मेरा मन ही नहीं करता। जब से डायबिटीज हुवा है, मुझमें कोई ताकद ही नही रही । पचास के आसपास की उम्र के  रामबाबू ने  बेडरूम की पिच पर अपना विकेट खो दिया था। कई अन्य मधुमेह रोगियों की तरह, उनका यौन जीवन भी असमय खत्म हो गया था। क्यों होता है ऐसा?

कई मधुमेह जटिलताओं में लैंगिक समस्या ऐसी होती है जो मनुष्य के जीवन को बुरी तरह प्रभावित करती है। हालांकि महिलाओ के मामले में इरेक्शन का कोई सवाल ही नहीं है, लेकीन डायबिटीज महिला की सेक्स लाइफ को भी प्रभावित कर सकती है। मधुमेह कई जोड़ों के यौन जीवन को नष्ट कर सकता है। इसलिए इस विषय को ठीक से समझलेना चाहिए। लेकिन भारत में इस विषय पर कभी भी खुलकर चर्चा नहीं की जाती है। मरीजों को इसके बारे में कोई वैज्ञानिक ज्ञान नहीं है। वास्तव में प्रत्येक मधुमेह व्यक्ति को इस विषय में उचित जानकारी होनी चाहिए।

मस्तिष्क में सेक्स केंद्र उत्तेजित होने पर ही मन में कामेच्छा उत्पन्न होती है । किसी प्रिय व्यक्ति की याददाश्त, दृष्टि या स्पर्श और अन्य कामुक चीजें आमतौर पर इस केंद्र को उत्तेजित करती हैं और व्यक्ति कामेच्छा की लहर महसूस करने लगता है। हालांकि एक डायबिटिक आदमी के शरीर में, प्रोलैक्टिन हार्मोन का स्तर बढ़ने लगता है जबकि सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन में गिरावट शुरू हो जाती है। मस्तिष्क में सेक्स सेंटर पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जिसके परिणामस्वरूप आदमी की सेक्स ड्राइव घटने लगती है।

मनुष्य के लिंग में तीन मुख्य रक्त वाहिकाएँ होती हैं। जब रक्त उन में जोर से बहता है, तो आदमी को इरेक्शन हो जाता है। मानव शरीर में मौजूद नॉस  नामक एक रसायन रक्तवाहिकाओं को विस्फारित करने का काम करता है। लेकिन मधुमेह व्यक्ति के शरीर में इसका स्तर बहुत कम होने लगता है। तो रक्तवाहिकाएं संकुचित होने लगती हैं। बड़ी मात्रा में उनमें रक्त नहीं जा सकता। इसलिए व्यक्ति अच्छा इरेक्शन पाने में विफल रहता है। कुछ मधुमेह रोगियों में कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर भी होता है। यह कोलेस्ट्रॉल रक्त वाहिकाओं के अंदर जमा होने लगता है। यह भी रक्त वाहिकाओं को संकीर्ण करता है। परिणामस्वरूप उनमें रक्त का प्रवाह कम हो जाता है और आदमी को उचित इरेक्शन नहीं मिल पाता है।

मधुमेह के व्यक्तियों के शरीर में अक्सर ऑक्सीडेंट का स्तर ज्यादा होता है। इसका अर्थ यह भी है कि उनके शरीर में मुक्त कणों (फ्री रंडीकल्स) का प्रमाण अधिक होता है। ये फ्री रेडिकल रक्त वाहिकाओं की दीवारों पर हमला करते हैं और उन्हें घायल करते हैं। नतीजा, वाहिकाओं में अवरोध निर्माण होते है जो इरेक्शन को बाधित करते हैं।

कई मधुमेह रोगियों की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं। इसलिए वे अक्सर बछड़ों, जांघों और लकड़ी के क्षेत्र में दर्द से पीड़ित होते हैं। तंबाकू, सिगरेट और शराब के आदी व्यक्तियों, पाचन तंत्र की परेशानी या जबरदस्त मानसिक तनाव वाले लोगों की मांसपेशियां बहुत तेजी से कमजोर होती हैं। जब मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं, तो इरेक्शन प्रभावित हो जाता है।

लिंग की नोक की त्वचा पर (जिसे प्रीपस कहा जाता है) अक्सर मधुमेही पुरुषों में सूजन हो जाती है। इससे पेनाइल टिप की जलन और दर्द जैसी समस्याएं होती हैं। फिर संभोग आदमी के लिए दर्दनाक हो जाता है। मूत्रमार्ग के संक्रमण भी मधुमेह रोगियों में बहुत आम हैं। यह अक्सर संभोग के माध्यम से एक साथी से दूसरे में वो स्थानांतरित हो जाता है। यह युगल के मन में संभोग के लिए अनिच्छा पैदा करता है।

महिलाओं में भी मधुमेह के कारण अवांछनीय परिवर्तन हो सकते हैं और उनके कामजीवन को बाधित कर सकते हैं। नॉस की कमी और कोलेस्ट्रॉल और मुक्त कणों (फ्री रंडीकल्स) की वृद्धि महिलाओं मेंभी रक्तप्रवाह को भी बाधित कर सकती है। योनि को रक्त की आपूर्ति में गिरावट से योनि की दीवार में सूखापन आ जाता है और म्यूकोसा पतला होता है। इसलिए ऐसी महिला के लिए संभोग दर्दनाक होने लगता है। पुरुषों में शिश्न की सूजन की तरह महिलाओं में वैजिनाइटिस और गर्भाशयग्रीवाशोथ आम हैं। मूत्रमार्ग और योनि अक्सर संक्रमित हो जाते हैं जो उसके मन में संभोग के लिए मजबूत अनिच्छा पैदा करते हैं। अगर महिला युवा है, तो उसे गर्भाधान में समस्या का सामना करना पड़ता है।

इस तरह मधुमेह पुरुषों और महिलाओं के यौन जीवन को नष्ट कर सकता है। इसे रोकने के लिए, रोगियों और उनके डॉक्टरों को सतर्क रहना चाहिए। यदि वे प्रारंभिक अवस्था से ही सतर्क रहते हैं, तो वे इस तरह के संकटों से बच सकते हैं। आयुर्वेद इस संबंध में महत्वपूर्ण साबित हो सकता है।

मधुमेह में आयुर्वेद कैसे मदद करता है?

meditation
Photograph: Nickolai Kashirin/Creative Commons meditation

एक बार पैदा होने के बाद उन्हें ठीक करने के बजाए आयुर्वेद ने हमेशा समस्याओं को रोकने में विश्वास किया है। यहां तक ​​कि मधुमेह के रोगियों को तब तक इंतजार नहीं करना चाहिए जब तक वे किसी प्रकार की जटिलताओं में नहीं उतरते। उन्हें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उन्हें जीवन में जटिलताओं का सामना न करना पड़े। आयुर्वेदिक दिनचर्या और ऋतूचर्या का पालन करना बहुत महत्वपूर्ण है। महत्वपूर्ण बिंदु इस प्रकार हैं:

मधुमेह के रोगियों को अपनी मांसपेशियों को फिट रखने और कोलेस्ट्रॉल को सीमित रखने के लिए नियमित रूप से शारीरिक व्यायाम और योग करना चाहिए। नियमित व्यायाम भोजन के उचित पाचन और मल के उचित उन्मूलन को सुनिश्चित करते हैं। वे यकृत को स्वस्थ और रक्त वाहिकाओं को किसी भी प्रकार की रुकावटों से मुक्त रखते हैं। वे मानसिक तनाव के नकारात्मक प्रभावों को भी कम करते हैं। मधुमेह रोगी जो नियमित रूप से योग और अन्य व्यायाम करते हैं, उन्हें किसी भी मधुमेह की जटिलताओं का सामना करने की संभावना नहीं है।

अधिक वजन वाले मधुमेह के रोगियों को उद्वर्टन (पाउडर मालिश) करना चाहिए और भाप स्नान करना चाहिए। ये उपचार रक्त वाहिकाओं से अवरोधों को दूर करते हैं और शरीर के सभी हिस्सों में रक्त परिसंचरण में सुधार करते हैं।

बरसात के मौसम में बस्ती चिकित्सा (मेडिकेटेड एनीमा) लेने से वात दोष नियंत्रण में राहता है और जननप्रणाली को भी साफ करता है।

भोजन का समय नियमित होना चाहिए और देर से भोजन करने से सख्ती से बचना चाहिए। दोपहर का भोजन दोपहर 1 बजे से पहले होना चाहिए जबकि रात का खाना 8 बजे से पहले होना चाहिए। देर रात की पार्टियों पर रोक लगनी चाहिए।

खाद्य पदार्थ जो कोलेस्ट्रॉल बढ़ा सकते हैं या रक्त वाहिकाओं को अवरुद्ध कर सकते है उनसे बचना चाहिए, जबकि एंटी-ऑक्सीडेंट से फ्री रेडिकल्स को नष्ट करने वाली वस्तुओं को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। खोवा से बनी मिठाइयाँ, समोसे जैसी तली हुई चीजे, नॉन-वेज फूड, पनीर, बेकरी प्रोडक्ट्स, सॉफ्ट ड्रिंक और शराब से बचना चाहिए, जबकि ताज़ी सब्जियां, सलाद, मौसमी फल, जौ और बाजरा जैसे अनाज और हर्बल टी का सेवन करना चाहिए।

चीनी स्तर को नियमित रूप से जांचना चाहिए और इसका रिकॉर्ड बनाए रखना चाहिए। ध्यान दिया जाना चाहिए कि चीनी का स्तर सामान्य सीमा के भीतर रहता है और उनसे अधिक नहीं होता है। शुगर के लगातार उच्च स्तर वाले रोगियों को जीवन में मधुमेह की जटिलताओं का सामना करने की संभावना होती है, जबकि जो लोग चीनी के स्तर को सीमित रखते हैं, उनका सामना करने की संभावना कम होती है।

मधुमेह के लिए आयुर्वेदिक दवाए

मधुमेह के लिए आयुर्वेदिक दवाओं को प्रारंभिक अवस्था से ही लेना बहुत उपयोगी साबित होता है। जबकि अन्य प्रणालियों की मधुमेह विरोधी दवाएं केवल रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखती हैं, मधुमेह की देखभाल के लिए अनुशंसित आयुर्वेदिक दवाएं शरीर से अवांछित विषाक्त पदार्थों को पचाने, रक्त और अन्य ऊतकों को स्वस्थ रखने और अधिक महत्वपूर्ण रूप से यह सुनिश्चित करती हैं कि रक्त वाहिकाएं खुली रहें। वे पाचन तंत्र और ऊतक स्तरों पर भी पाचकाग्नी को उत्तेजित करते हैं और शरीर के सभी चैनलों को विषाक्त पदार्थों से मुक्त रखते हैं। मधुमेह की देखभाल के लिए उपयोग की जाने वाली आयुर्वेदिक दवाएं जो यौन जीवन कीभी रक्षा करती हैं वे इस प्रकार हैं:

शिलाजीत:

मधुमेह के रोगियों के लिए शिलाजीत सबसे अच्छा रसायन माना जाता है। शरीर के वजन और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखने के अलावा, शिलाजीत यौन शक्ति को भी बढ़ाता है। आयुष विभाग द्वारा किए गए एक शोध में शिलाजित लेनेवाले मारीजोमें शुक्राणुजनन क्रिया में सुधार, शुक्राणुओं की संख्या में सुधार, शुक्राणु की गति मै सुधार और उपकला कोशिका की गिनती में महत्वपूर्ण सुधार दिखाया गया। शिलाजित की प्रभाव सिद्ध करने के लिये ये महत्त्वपूर्ण है ।

त्रिवंग भस्म:

नाग (सीसा), वंग (टिन) और जसद (जस्ता) भस्म का मिश्रण, त्रिवंग भस्म मधुमेह के खिलाफ अनुशंसित एक प्रसिद्ध उपाय है। ये शरीर के मूत्र और जननांग प्रणालियों पर उल्लेखनीय कार्य करता है और यौन शक्ति को मजबूत करता था। इसका भी शिलाजीत जैसाही प्रभाव है। नियमित रूप से इसे लेने वाले व्यक्तियों को लेख में पहले वर्णित लिंग और योनि की समस्याओं से पीड़ित होने की संभावना नहीं है।

शिलाप्रवंग वटी:

यह मधुमेह संबंधी यौन समस्याओं के लिए एक और प्रभावी दवा है। शिलाजीत और वंग भस्म के अलावा, इसमें प्रवाल, स्वर्णमाक्षिक और स्वर्ण के भस्म भी शामिल हैं। इसके सिवा इसमे मकरध्वज, गुडूची सत्व, अश्वगंधा और गोखुर जैसी कई जड़ी-बूटियाँ हैं। यह लगभग सभी यौन समस्याओं में प्रभावी साबित होता है और चयापचय में भी सुधार करता है।

वसंत कुसुमाकर रस:

यह मधुमेह के उपचार में एक फ्रंटलाइन दवा है। कई जड़ी-बूटियों के रस के साथ-साथ स्वर्ण, रजत, नाग, वंग, लोह, अभ्रक, प्रवाल और मौक्तिक के भस्म से बना, यह मधुमेह रोगियों के लिए सबसे अच्छा कायाकल्प करने वाला यौगिक माना जाता है। यह रोगी को यौन समस्याओं सहित मधुमेह की सभी जटिलताओं से बचाता है। इसे नियमित रूप से लेने वाला रोगी वर्षों तक उत्तम स्वास्थ्य प्राप्त करता है।

प्रमेह गजकेसरी रस:

यह ऊपर के समान एक समान यौगिक है। लौह भस्म, नाग भस्म, वंग भस्म, अभ्रक भस्म, शिलाजीत, खस फूल, केसर, निम्बू रस से निर्मित, यह मधुमेह के साथ-साथ इसके कारण होने वाले यौन रोगों में भी प्रभावी साबित होता है।

जैसा कि ऊपर चर्चा से स्पष्ट होगा, आयुर्वेद में उन मधुमेह रोगियों की पेशकश करने के लिए बहुत कुछ है जो यौन समस्याओं से पीड़ित हैं और जिनकी यौन जीवन समय से पहले समाप्त हो जाती है। हालांकि यह मुख्य रूप से महत्वपूर्ण है कि मधुमेह के रोगी हमेशा अपने शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखें। इसके लिए अलोपथिक दवाओं के साथ-साथ आयुर्वेदिक मधुमेह विरोधी दवा लेने की सलाह दी जाती है। कई आयुर्वेदिक यौगिक हैं जैसे मेहदमन चूर्ण,  मधुमेहन्तक चूर्ण, मधुहर चूर्ण शक्कर के स्तर को बनाए रखने में मदद करते हैं। मरीजों को चिकित्सक के मार्गदर्शन के साथ ऐसे यौगिकों का उपयोग करना चाहिए। ऐसी सतर्कता से उन परिस्थितियों से बचा जा सकता है जिनका सामना रामबाबू को करना था। हालांकि इसके लिए जो आवश्यक है, वह है पति-पत्नी और उनके डॉक्टर के बीच खुला संवाद। इस तरह के मुद्दों के बारे में खामोश रहना कभी किसी की मदद नहीं करता है। उनके ज्ञान होने और सही समय पर उनकी चर्चा करने से संभावित समस्या को रोका जा सकता है।

द्वारा,

डॉक्टर अभिजित म्हालंक   एमडी, डीवायए   

लेखक का परिचय:  

डॉ अभिजीत म्हालंक एक सलाहकार आयुर्वेदिक चिकित्सक हैं और उन्होंने आयुर्वेदिक विकृतिविज्ञान में विशेषज्ञता हासिल की है। उनके कई लेख और किताबें अंग्रेजी, जर्मन, रशियन, मराठी और हिंदी भाषाओं में प्रकाशित हुई हैं। उनकी कुछ रचनाओं में ‘आयुर्वेदिक फूड फॉर चिल्ड्रन’, ‘आयुर्वेदिक फ़ूड फॉर एल्डरली’, ‘पैथोलॉजी नोट्स फॉर आयुर्वेद स्टूडेंट्स: पार्ट 1 और 2’, ‘वेद, सद्भाव का एक स्रोत’ और ‘आयुर्वेद, एक दीपस्तंभ’ जैसे पुस्तकें शामिल हैं ‘। उन्होंने  ‘Encyeclopaedia Ayurvedica’ नाम से कंप्यूटर सॉफ्टवेयर भी विकसित किया है, जो सॉफ्टवेयर रूप में आयुर्वेदिक दवाओं का एक फार्माकोपिया है और इसमें दस हजार से अधिक आयुर्वेदिक दवाओं के डेटा शामिल हैं। उन्होंने परामर्श और सेमिनार देने के लिए विभिन्न देशों में बड़े पैमाने पर यात्रा की है। वह भारत और विदेशों में विभिन्न समाचार पत्रों, पत्रिकाओं और वेबसाइटों के लिए स्तंभकार रहे हैं। वह टेलीविजन और रेडियो कार्यक्रमों में नियमित प्रतिभागी हैं।

Content Protection by DMCA.com

1 comment

  1. vary nice, aap ne bahut achha article likha he aap ne, i athink sabhi madhumeh rogio ko is post ko padhna chahiye
    thanks

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Shopping cart

0

No products in the cart.

+918000733602