महारास्नादि काढ़ा (क्वाथ) के फायदे, बनाने की विधि, प्राइस एवं स्वास्थ्य लाभ

Deal Score+1
Deal Score+1

महारास्नादि काढ़ा / Maharasnadi Kwath in Hindi 

Update - 2020.09.20
आयुर्वेद में क्वाथ कल्पना से तैयार होने वाली औषधियों का अपना एक अलग स्थान होता है | महारास्नादि काढ़ा भी क्वाथ कल्पना की एक शास्त्रोक्त औषधि है जिसका वर्णन आयुर्वेदिक ग्रन्थ शारंगधर संहिता के मध्यम खंड 2, 90-96 में किया गया है |

यह सर्वांगवात, संधिवात, जोड़ों का दर्द, आमवात, अर्धान्ग्वात, एकान्ग्वात, गृध्रसी, लकवा, आँतो की व्रद्धी, वीर्य विकार एवं योनी विकार आदि में प्रयोग किया जाता है | इस काढ़े को गर्भकर माना जाता है | जिन माताओं – बहनों को गर्भ न ठहर रहा हो , उन्हें चिकित्सक अन्य आयुर्वेदिक दवाओ के साथ महारास्नादि काढ़े का प्रयोग करना बताते है | इसके सेवन से शरीर में स्थित दोषों का संतुलन होता है , बढ़ी हुई वात शांत होती है एवं इसके कारन होने वाले दर्द से छुटकारा मिलता है |

महारास्नादि काढ़ा

आयुर्वेद की क्वाथ औषधियां शरीर पर जल्द ही अपना असर दिखाना शुरू कर देती है | यहाँ हमने इस काढ़े के घटक द्रव्य, स्वास्थ्य लाभ, सेवन का तरीका, बनाने की विधि एवं फायदों के बारे में शास्त्रोक्त वर्णन किया है | तो चलिए जानते है सबसे पहले इसके घटक द्रव्य अर्थात इसके निर्माण में कौन कौन सी जड़ी – बूटियां पड़ती है ?

महारास्नादि काढ़ा के घटक द्रव्य

इस आयुर्वेदिक क्वाथ में लगभग 27 आयुर्वेदिक जड़ी – बूटियों का सहयोग होता है | इनके संयोग से ही इसका निर्माण होता है | आप इस सारणी से इनका नाम एवं मात्रा को देख सकते है –



महारास्नादि काढ़े को बनाने की विधि

  • भगवान् ब्रह्म के निर्देशानुसार महारास्नादी काढ़ा का निर्माण किया जाना चाहिए |
  • क्वाथ कल्पना का प्रयोग संहिता काल से ही होता आया है |
  • क्वाथ निर्माण के लिए सबसे पहले इन औषधियों की बताई गई मात्रा में लेना चाहिए एवं इसके पश्चात इनका प्रथक – प्रथक यवकूट चूर्ण करके आपस में मिलादेना चाहिए |
  • निर्देशित मात्रा में जल लेकर इसमें महारास्नादि क्वाथ को डालकर गरम किया जाता है |
  • जब पानी एक चौथाई बचे तब इसे ठंडा करके छान कर प्रयोग में लिया जाता है |
  • इस प्रकार से महारास्नादि काढ़े का निर्माण होता है | सभी प्रकार के क्वाथ का निर्माण इसी प्रकार से किया जाता है | पानी को 1/4 या 1/8 भाग बचने तक उबला जाता है |

महारास्नादि काढ़ा के फायदे / लाभ / Maharasnadi Kwath Benefits in Hindi

  • सर्वांगवात अर्थात सभी प्रकार की प्रकुपित वात में इसका सेवन लाभ देता है |
  • अर्धांगवात एवं एकांगवात में इसका सेवन लाभकारी होता है |
  • यह आंतो की व्रद्धी में भी फायदेमंद है |
  • जोड़ो के दर्द, घुटनों के दर्द एवं अन्य सभी प्रकार के वातशूल में लाभ देता है |
  • शरीर में बढे हुए आम दोष का शमन करता है |
  • वीर्य विकारों में भी इसका सेवन करवाया जाता है |
  • योनी विकारों को दूर कर के गर्भ ठहराने में फायदेमंद है |
  • लकवा एवं गठिया रोग में भी इसका सेवन फायदा पहुंचता है |
  • फेसिअल पाल्सी, आफरा एवं घुटनों के दर्द में इसका आमयिक प्रयोग किया जाता है |
  • घुटनों के दर्द में योगराज गुग्गुलु के साथ इसका अनुपान स्वरुप प्रयोग करना लाभदायक होता है |
  • बाँझपन में भी इसका सेवन करवाया जाता है |
  • कुपित वात का शमन करता है एवं शरीर में स्थित दोषों का हरण करता है |
  • महिलाओं के योनीगत विकारों में प्रयोग करवाया जाता है |

महारास्नादि काढ़ा के स्वास्थ्य उपयोग / Maharasnadi Kadha Uses in Hindi

यह काढ़ा / क्वाथ सभी वात जनित विकारों में अत्यंत लाभ देता है | प्रकुपित वायु के कारण शरीर में होने वाली पीडाओं में इसका विशेष महत्व है | हाथ पैरों में दर्द, कमर दर्द, गठिया, एकांगवात, सर्वांगवात आदि दर्द में आराम दिलाता है |

आमवात अर्थात गठिया रोग में इसका सेवन करने से त्रिदोष संतुलित होते है, बढ़ी हुई वायु साम्यावस्था में आती है एवं रोग में आराम मिलता है |

इसके अलावा महिलाओं में गर्भविकार, योनी विकार एवं पुरुषों के वीर्य विकारों में भी इसका सेवन फायदेमंद रहता है |

क्या है महारास्नादि काढ़ा के सेवन की विधि ?

इसका सेवन 20 से 40 मिली. तक सुबह एवं शाम दो बार चिकित्सक के परामर्शानुसार किया जाता है | अनुपान स्वरुप शुंठी, योगराज, पिप्पली, अजमोदादी चूर्ण एवं एरंड तेल आदि का सेवन किया जाता है | कड़वाहट न सहन करने वालों को इसमें शक्कर मिलाकर सेवन करना चाहिए , लेकिन मधुमेह के रोगी को इससे परहेज करना चाहिए | अगर चिकित्सक के परामर्शानुसार सेवन किया जाये तो इसके कोई नुकसान नहीं होते |

आयुर्वेदिक मेडिसिन स्टोर पर यह बैद्यनाथ, पतंजलि , डाबर आदि कंपनियो के उपलब्ध है | इनका प्राइस लगभग 100 से 150 रूपए के बीच है | आप किसी भी आयुर्वेदिक मेडिकल स्टोर से इन्हें खरीद सकते है |

वैसे महारास्नादि काढ़ा बाजार में सिरप रूप एवं महारास्नादि वटी रूप में भी उपलब्ध है, लेकिन गुणवता के लिए इसे सुखा ही खरीदना चाहिए |

आपके लिए अन्य स्वास्थ्य जानकारियां

  1. पढ़ें हरिद्रा खंड के स्वास्थ्य लाभ 
  2. एलर्जी की आयुर्वेदिक दवाओं का नाम 
  3. प्रेगनेंसी में खून की कमी होना क्या है ?
  4. चन्द्रप्रभा वटी 
  5. स्वदेशी उपचार लेकर आया है आपके लिए कामसुधा योग यह शीघ्रपतन एवं धातु रोगों की उत्तम दवा है पढ़ें इसके बारे में

धन्यवाद |

Avatar

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

5 Comments
  1. Reply Avatar
    सर्वेश अवस्थी May 26, 2020 at 5:57 pm

    महारास्नादि हम घुटनों में दर्द के लिए ले रहे हैं इसको कब तक सेवन करना चाहिए यह जानकारी भी चाहिए

    • Thanks for sharing this amazing knowledge

    • सर्वेश अवस्थी जी,
      घुटनों के दर्द या अन्य किसी वातशूल में महारास्नादी क्वाथ का सेवन किया जा सकता है | इसे रोग की स्थिति एवं रोगी की प्रकृति के अनुसार 15 से 45 दिन तक सेवन करवाया जा सकता है | अधिक जानकारी के लिए आप अपने नजदीकी आयुर्वेदिक चिकित्सक या हमें कॉल कर सकते है |
      धन्यवाद

  2. Reply Avatar
    बसंत कुमार सिन्हा June 21, 2020 at 2:48 pm

    मैंने बैध्यनाथ का काढ़ा लिया है | मगर ये पीने में मीठा लगता है | क्या सुगर के मरीज इस दवा का सेवन कर सकते है |

    • Reply Avatar
      किरण मो खोडके, male age 70 January 22, 2021 at 6:09 pm

      चिकन गुनिया का विकार 26डिसेम्बर 2020को हुआ,बुखार नही, सर्दी, खांसी बिलकुल नही थी, हाडियोंमे जकड आयी हलचलमे अभितक थोडी परेशानी हैं.महारास्नादी क्वाथ लेना उचित
      कितने समय तक लेना.बोनस्पेलिस्ट ने सुझाव दिया की चिकन गुणियाका दर्द 6महतक होता हैं

    Leave a reply

    Logo
    Compare items
    • Total (0)
    Compare
    0
    Open chat
    Hello
    Can We Help You