महारास्नादि काढ़ा (क्वाथ) के फायदे, बनाने की विधि, प्राइस एवं स्वास्थ्य लाभ

महारास्नादि काढ़ा / Maharasnadi Kwath in Hindi 

आयुर्वेद में क्वाथ कल्पना से तैयार होने वाली औषधियों का अपना एक अलग स्थान होता है | महारास्नादि काढ़ा भी क्वाथ कल्पना की एक शास्त्रोक्त औषधि है जिसका वर्णन आयुर्वेदिक ग्रन्थ शारंगधर संहिता के मध्यम खंड 2, 90-96 में किया गया है |

यह सर्वांगवात, संधिवात, जोड़ों का दर्द, आमवात, अर्धान्ग्वात, एकान्ग्वात, गृध्रसी, लकवा, आँतो की व्रद्धी, वीर्य विकार एवं योनी विकार आदि में प्रयोग किया जाता है | इस काढ़े को गर्भकर माना जाता है | जिन माताओं – बहनों को गर्भ न ठहर रहा हो , उन्हें चिकित्सक अन्य आयुर्वेदिक दवाओ के साथ महारास्नादि काढ़े का प्रयोग करना बताते है | इसके सेवन से शरीर में स्थित दोषों का संतुलन होता है , बढ़ी हुई वात शांत होती है एवं इसके कारन होने वाले दर्द से छुटकारा मिलता है |

महारास्नादि काढ़ा

आयुर्वेद की क्वाथ औषधियां शरीर पर जल्द ही अपना असर दिखाना शुरू कर देती है | यहाँ हमने इस काढ़े के घटक द्रव्य, स्वास्थ्य लाभ, सेवन का तरीका, बनाने की विधि एवं फायदों के बारे में शास्त्रोक्त वर्णन किया है | तो चलिए जानते है सबसे पहले इसके घटक द्रव्य अर्थात इसके निर्माण में कौन कौन सी जड़ी – बूटियां पड़ती है ?

महारास्नादि काढ़ा के घटक द्रव्य

इस आयुर्वेदिक क्वाथ में लगभग 27 आयुर्वेदिक जड़ी – बूटियों का सहयोग होता है | इनके संयोग से ही इसका निर्माण होता है | आप इस सारणी से इनका नाम एवं मात्रा को देख सकते है –



महारास्नादि काढ़े को बनाने की विधि

  • भगवान् ब्रह्म के निर्देशानुसार महारास्नादी काढ़ा का निर्माण किया जाना चाहिए |
  • क्वाथ कल्पना का प्रयोग संहिता काल से ही होता आया है |
  • क्वाथ निर्माण के लिए सबसे पहले इन औषधियों की बताई गई मात्रा में लेना चाहिए एवं इसके पश्चात इनका प्रथक – प्रथक यवकूट चूर्ण करके आपस में मिलादेना चाहिए |
  • निर्देशित मात्रा में जल लेकर इसमें महारास्नादि क्वाथ को डालकर गरम किया जाता है |
  • जब पानी एक चौथाई बचे तब इसे ठंडा करके छान कर प्रयोग में लिया जाता है |
  • इस प्रकार से महारास्नादि काढ़े का निर्माण होता है | सभी प्रकार के क्वाथ का निर्माण इसी प्रकार से किया जाता है | पानी को 1/4 या 1/8 भाग बचने तक उबला जाता है |

महारास्नादि काढ़ा के फायदे / लाभ

  • सर्वांगवात अर्थात सभी प्रकार की प्रकुपित वात में इसका सेवन लाभ देता है |
  • अर्धांगवात एवं एकांगवात में इसका सेवन लाभकारी होता है |
  • यह आंतो की व्रद्धी में भी फायदेमंद है |
  • जोड़ो के दर्द, घुटनों के दर्द एवं अन्य सभी प्रकार के वातशूल में लाभ देता है |
  • शरीर में बढे हुए आम दोष का शमन करता है |
  • वीर्य विकारों में भी इसका सेवन करवाया जाता है |
  • योनी विकारों को दूर कर के गर्भ ठहराने में फायदेमंद है |
  • लकवा एवं गठिया रोग में भी इसका सेवन फायदा पहुंचता है |
  • फेसिअल पाल्सी, आफरा एवं घुटनों के दर्द में इसका आमयिक प्रयोग किया जाता है |
  • घुटनों के दर्द में योगराज गुग्गुलु के साथ इसका अनुपान स्वरुप प्रयोग करना लाभदायक होता है |
  • बाँझपन में भी इसका सेवन करवाया जाता है |

क्या है महारास्नादि काढ़ा के सेवन की विधि ?

इसका सेवन 20 से 40 मिली. तक सुबह एवं शाम दो बार चिकित्सक के परामर्शानुसार किया जाता है | अनुपान स्वरुप शुंठी, योगराज, पिप्पली, अजमोदादी चूर्ण एवं एरंड तेल आदि का सेवन किया जाता है | कड़वाहट न सहन करने वालों को इसमें शक्कर मिलाकर सेवन करना चाहिए , लेकिन मधुमेह के रोगी को इससे परहेज करना चाहिए | अगर चिकित्सक के परामर्शानुसार सेवन किया जाये तो इसके कोई नुकसान नहीं होते |

आयुर्वेदिक मेडिसिन स्टोर पर यह बैद्यनाथ, पतंजलि , डाबर आदि कंपनियो के उपलब्ध है | इनका प्राइस लगभग 100 से 150 रूपए के बीच है | आप किसी भी आयुर्वेदिक मेडिकल स्टोर से इन्हें खरीद सकते है |

वैसे महारास्नादि काढ़ा बाजार में सिरप रूप में भी उपलब्ध है, लेकिन गुणवता के लिए इसे सुखा ही खरीदना चाहिए |

आपके लिए अन्य स्वास्थ्य जानकारियां

  1. पढ़ें हरिद्रा खंड के स्वास्थ्य लाभ 
  2. एलर्जी की आयुर्वेदिक दवाओं का नाम 
  3. प्रेगनेंसी में खून की कमी होना क्या है ?
  4. चन्द्रप्रभा वटी 
  5. स्वदेशी उपचार लेकर आया है आपके लिए कामसुधा योग

अगर आपको यह जानकारी लाभदायक लगे तो कृपया इसे सोशल साईट जैसे फेसबुक, व्हाट्सअप्प एवं ट्विटर आदि पर शेयर जरुर करें | आपका एक शेयर हमारे लिए उर्जा है ताकि हम आपको अन्य जानकारियों से नवाजते रहें | 

धन्यवाद |

Related Post

जमालघोटा / Jamalghota – परिचय , फायदे और साव... जमालघोटा / jamalghota (Croton Tiglum) परिचय - जमालगोटा एक आयुर्वेदिक हर्बल औषधि है जिसका इस्तेमाल कब्ज , गंजेपन , जलोदर आदि में किया जाता है | मुख्य ...
प्रेगनेंसी में पहले 12 सप्ताह (Weeks) के लक्षण ... प्रेगनेंसी के शुरूआती सप्ताह के लक्षण  पुरुष एवं महिला में सहवास होने के बाद निषेचन की क्रिया होती है | जैसे - जैसे समय बीतता जाता है महिला में प्रेग...
सेमल (Bombax ceiba) – मर्दानगी, प्रदर एवं खु... सेमल (Bombax Ceiba)  परिचय : सेमल के पेड़ को कॉटन ट्री भी कहा जाता है | इसके फलों के पकने पर उसमे से मुलायम रुई प्राप्त होती है जिसका प्रयोग गद्दे या ...
धनुरासन – करने की विधि, लाभ और सावधानियां... धनुरासन धनुरासन का अर्थ होता है धनुष के समान। धनुर और आसन शब्दों के मिलने से धनुरासन बनता है। यहां धनुर का अर्थ है धनुष। इस आसन में साधक की आकृति धनु...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.