हरिद्रा खंड (Hridra Khand) – बनाने की विधि, फायदे एवं स्वास्थ्य उपयोग

हरिद्रा खंड Haridrakhand in Hindi

आयुर्वेद की शास्त्रोक्त औषधि है | खुजली में इस आयुर्वेदिक दवा का विशेष उपयोग किया जाता है | शीतपित, त्वचा के चकते, एनीमिया, एलर्जी, विस्फ़ोट एवं कृमिरोग में भी इसके सेवन से लाभ मिलता है | त्वचा एलर्जी के दौरान अचानक उठने वाले चकतों एवं खुजली में इसके सेवन से चमत्कारिक लाभ मिलता है | सर्दियों में अधिकतर इसका सेवन किया जाता है | बाजार में बैद्यनाथ, पतंजलि, एवं डाबर कंपनी के “हरिद्रा खंड वृहत” नाम से मिलता है | बाजार में मिलने वाले सभी हरिद्रा खंड चूर्ण या ग्रेनुल्स रूप में ही मिलते है |

लेकिन अगर इसे घर पर शास्त्रोक्त विधि से बना कर सेवन किया जाये तो अधिक फायदेमंद साबित होता है | हरिद्रा खंड को बनाने की विधि जानने से पहले आयुर्वेद की खंड कल्पना को समझना आवश्यक है |

हरिद्रा खंड

खंड कल्पना क्या है  :- आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में विभिन्न औषधियों के निर्माण की कई विधियाँ होती है | खंड पाक कल्पना भी उन्ही में से एक है | इस कल्पना में गुड या शक्कर को औषधियों के क्वाथ में मिलाकर पाक किया जाता है | अच्छी तरह पाक होने पर खंड पाक कल्पना से औषधि का निर्माण माना जाता है | इस प्रकार की दवाएं खाने में रुचिकारक एवं स्वास्थ्य के लिए गुणकारी होती है |

हरिद्रा खंड के घटक द्रव्य

इसके निर्माण में मुख्य घटक हरिद्रा (हल्दी) होती है इसीलिए हरिद्रा खंड के नाम से जाना जाता है |


मुख्य घटक


  1. हरिद्रा (हल्दी) = ४ पल या 240 ग्राम
  2. गौघृत           = ३ पल या 144 ग्राम
  3. गोदुग्ध         =  लगभग 2 किलो
  4. शर्करा (पाक के लिए) = 1.165 किलोग्राम

प्रक्षेप द्रव्य 


  1. शुंठी चूर्ण – 24 ग्राम
  2. पिप्पली चूर्ण – 24 ग्राम
  3. कालीमिर्च  – 24 ग्राम
  4. सुक्ष्मैला चूर्ण – 24 ग्राम
  5. पत्र चूर्ण   –  24 ग्राम
  6. त्वक चूर्ण – 24 ग्राम
  7. विडंग चूर्ण – 24 ग्राम
  8. त्रिवृत चूर्ण – 24 ग्राम
  9. आंवला चूर्ण – 24 ग्राम
  10. विभितकी चूर्ण – 24 ग्राम
  11. हरीतकी चूर्ण – 24 ग्राम
  12. नागकेशर चूर्ण – 24 ग्राम
  13. लौह भस्म – 24 ग्राम
  14. मुस्ता चूर्ण – 24 ग्राम
  15. जल – आवश्यकतानुसार

हरिद्रा खंड बनाने की विधि 

सबसे पहले उपर बताई गई मात्रा में औषध द्रव्यों को लें | अब कच्ची हल्दी के ऊपर के छिलकों को हटाकर उसका कल्क (मिक्सी में पीसकर चटनी स्वरुप) बना लें | इस कल्क को घी में अच्छी तरह भुने | अच्छी तरह भूनने से तात्पर्य कल्क से घी अलग दिखाई देना चाहिए | जब हल्दी के कल्क से घी अलग हो जाये तब इसका अग्निपाक करें |

एक कडाही में शक्कर, दूध और जल मिलाकर शर्करापाक (चासनी) तैयार करें और इसमें घी में भुनी हुई हल्दी को डालदें और मंद आंच पर अग्निपाक करें | अच्छी तरह पाक होने पर ऊपर बताये गए प्रक्षेप द्रव्यों को मिलाएं |

थोड़ी देर और मंद आंच पर चलाने के बाद अच्छी तरह पाक होने पर इसे आंच से निचे उतार ले और ठंडा करके कांच के मर्तबान में सहेजें |

इस प्रकार से घर पर ही हरिद्रा खंड को शास्त्रोक्त तैयार किया जा सकता है | इस योग में हरिद्रा मुख्य घटक होने एवं शर्करापाक होने से इसको हरिद्राखंड नाम से जाना जाता है | बाजार में यह विभिन्न कम्पनियों जैसे पतंजलि, बैद्यनाथ एवं डाबर आदि का आसानी से उपलब्ध हो जाता है | ये कम्पनियां इन्हें चूर्ण रूप में ही बनाती है क्योंकि चूर्ण लम्बे समय तक उपयोग किये जा सकते है एवं जल्दी ख़राब नहीं होते |

हरिद्रा खंड की सेवन विधि 

इसका सेवन सर्दियों में विशेषकर किया जाता है | हरिद्रा खंड को 10 ग्राम की मात्रा में गरम दूध या गरम जल के साथ सेवन करना चाहिए | दूध के साथ सेवन करने से अधिक लाभ मिलता है | चिकित्सक के परामर्शानुसार सुबह एवं शाम सेवन किया जा सकता है | किसी भी औषध का सेवन चिकित्सक के परामर्श से करना अधिक लाभदायक होता है |

हरिद्रा खंड के फायदे / Health Benefits of Haridrakhanda in Hindi 

इस आयुर्वेदिक दवा का उपयोग त्वचा की एलर्जी, शीतपीत्त एवं कृमिरोग में प्रमुखता से किया जाता है | सर्दियों में इसका सेवन करने से त्वचा में निखार आता है | अगर महीने भर तक चिकित्सक के परामर्शानुसार सेवन किया जाये तो सभी प्रकार के त्वचा विकारों में लाभ मिलता है |

  1. खुजली एवं त्वचा के चकतों में हरिद्रा खंड के सेवन से फायदा मिलता है |
  2. यह एलर्जी में कारगर शास्त्रोक्त आयुर्वेदिक दवा है |
  3. सुजन में भी आयुर्वेदिक चिकित्सक इसका प्रयोग करवाते है |
  4. खून की कमी को दूर करती है |
  5. कोष्ठों की शुद्धि करने में सहायक है |
  6. वात एवं कफ का शमन करती है |
  7. सर्दियों में इसे खाने से जुकाम एवं खांसी की समस्या नहीं होती |
  8. वातशूल (प्रकुपित वायु के कारण होने वाले शारीरिक दर्द) में भी आराम मिलता है |
  9. सम्पूर्ण स्वास्थ्य दायक आयुर्वेदिक योग है |

कृपया इस आर्टिकल को अपने सोशल अकाउंट पर भी शेयर करें ताकि अन्य लोगों तक जानकारी पहुँच सके | आप हमारे फेसबुक पेज से जुड़कर नित्य स्वास्थ्यप्रद जानकारियां प्राप्त कर सकते है | 

आपके लिए अन्य लाभदायक सूचनाएं 

चेहरे को सौन्दर्य के लिए योग 

स्वप्नदोष का पका इलाज – एक देशी योग 

गोक्षुरादि गुग्गुल के फायदे एवं स्वास्थ्य उपयोग 

 

धन्यवाद | 

Related Post

फटे पैरों के उपचार के लिए आसान घरेलू नुस्‍खे... फटे पैरों के उपचार के लिए आसान घरेलू नुस्‍खे  अगर पैरों की देखभाल अच्छे तरीके से न किया जाए तो पैर फट जाते हैं। नंगे पैर चलने के कारण या फ...
धनुरासन – करने की विधि, लाभ और सावधानियां... धनुरासन धनुरासन का अर्थ होता है धनुष के समान। धनुर और आसन शब्दों के मिलने से धनुरासन बनता है। यहां धनुर का अर्थ है धनुष। इस आसन में साधक की आकृति धनु...
पान खाने के ऐसे फायदे जिन्हें आप नहीं जानते –... पान - पान के फायदे   पान का इस्तेमाल भारतीय जीवन शैली में प्राचीन समय से ही होता आया है | भारत में पान का इस्तेमाल पूजा - पाठ , टोने - टोटकों और खाना...
योग क्या है – इसका परिचय, परिभाषा, प्रकार, ल... योग / Yoga (कृपया पूरा लेख पढ़ें आप योग को भली प्रकार से समझ सकेंगे) - योग विश्व इतिहास का सबसे पुराना विज्ञानं है , जिसने व्यक्ति के अध्यात्मिक और शार...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.