कैशोर गुग्गुलु – फायदे, स्वास्थ्य लाभ एवं कैसे बनता है ? की सम्पूर्ण जानकारी ||

कैशोर गुग्गुलु / Kaishore Guggulu in Hindi

आयुर्वेद चिकित्सा में गुग्गुलु कल्पना के तहत बनाई जाने वाली आयुर्वेदिक दवा है | कैशोर गुग्गुलु का प्रयोग वातरक्त , गठिया , मन्दाग्नि, शोथ एवं शरीर में यूरिक एसिड की व्रद्धी होने पर किया जाता है | गाउट, पेट सम्बन्धी विकार, कब्ज, शोथ (सुजन), कुष्ठ एवं घावों में आयुर्वेदिक चिकित्सक इसका प्रयोग करवाते है |

कैशोर गुग्गुलु

आज इस आर्टिकल में हम कैशोर गुग्गुल के घटक द्रव्य , फायदे एवं इसका निर्माण कैसे होता है कि सम्पूर्ण जानकारी देंगे | बाजार में यह डाबर, पतंजलि, बैद्यनाथ, धुतपापेश्वर एवं श्री मोहता जैसी प्रतिष्ठित कंपनियों का आसानी से उपलब्ध हो जाता है | इसका उपयोग चिकित्सक की रायनुसार ही करना चाहिए |

कैशोर गुग्गुलु के घटक द्रव्य

इसके निर्माण के लिए लगभग 15 आयुर्वेदिक औषध द्रव्यों का इस्तेमाल होता है –

  1. हरीतकी (768 ग्राम)
  2. विभितकी (768 ग्राम)
  3. आमलकी (768 ग्राम)
  4. गुडूची (768 ग्राम)
  5. क्वाथ के लिए जल – 18.432 लीटर , जो क्वाथ निर्माण के पश्चात 9.216 लीटर बचना चाहिए
  6. शुद्ध गुग्गुलु (768 ग्राम)
  7. त्रिफला -(96 ग्राम)
  8. शुंठी 24 ग्राम
  9. त्रिवृत मूल (12 ग्राम)
  10. दन्तिमुल (12 ग्राम)
  11. कालीमिर्च (24 ग्राम)
  12. पिप्पली (24 ग्राम)
  13. गिलोय (48 ग्राम )
  14. विडंग (24 ग्राम)
  15. घृत (150 ग्राम या आवश्यकतानुसार)

कैशोर गुग्गुलु बनाने की विधि

सबसे पहले हरितकी , विभितकी , आमलकी एवं गिलोय इन तीनो को यवकूट करले | अब 18.432 लीटर जल में इन्हें डालकर क्वाथ का निर्माण करें | जब जल आधा बचे तब इसे निचे उतार कर ठंडा करके छान लें |

इस छने हुए क्वाथ में गुग्गुलु डालकर मन्दाग्नि पर पाक किया जाता है | पाक करते समय जब सम्पूर्ण गुग्गुलु पिघल जाता है तब इसे छान कर फिर से मन्दाग्नि पर पाक किया जाता है | धीरे – धीरे यह घोल गाढ़ा होने लगता है |

जब अच्छी तरह घोल गाढ़ा हो जाता है तो बाकी बचे औषध द्रव्यों का कपडछान चूर्ण डालकर अच्छी तरह से मिलाया जाता है | अंत में इमाम दस्ते में घी डालकर इस योग को कूटकर मुलायम किया जाता है | अच्छी तरह मुलायम करने के पश्चात इस योग से 1 – 1 ग्राम की गोलियां बना ली जाती है | इन वटीयों को हमेशां छाया में सुखाया जाता है |

मात्रा एवं सेवन विधि

कैशोर गुग्गुलु का प्रयोग चिकित्सक के बताये अनुसार गरम जल  के साथ सेवन करना चाहिए | गर्भवती महिलाओं एवं 5 साल से कम उम्र के बच्चों को इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए |

विभिन्न रोगों के अनुसार कैशोर गुग्गुलु का अनुपान अलग – अलग होता है तभी इसके स्वास्थ्य लाभ अच्छे मिलते है , जैसे


कैशोर गुग्गुल के फायदे या स्वास्थ्य लाभ

आयुर्वेद चिकित्सा में इसका प्रयोग निम्न रोगों में किया जाता है |

  • वातरक्त या यूरिक एसिड की व्रद्धी होने पर
  • कुष्ठ
  • व्रण (घाव)
  • पेट में वायु का गोला बनना
  • प्रमेह
  • प्रमेह पीडिका
  • उदररोग
  • खांसी
  • खून की कमी
  • सुजन
  • भूख कम लगना |

धन्यवाद |

Related Post

ल्यूकेमिया (Leukemia) क्या है – लक्षण, कारण,... ल्यूकेमिया / Leukemia Detail in Hindi रक्त का कैंसर (ब्लड कैंसर) से आप सभी परिचित होंगे | ल्यूकेमिया को भी रक्त कैंसर का एक प्रकार या इसकी  शुरूआती अ...
स्वेदन कर्म / Sudation Therapy – परिचय , प्र... स्वेदन कर्म / Sudation Therapy आयुर्वेद की पंचकर्म चिकित्सा पद्धति में स्वेदन कर्म का विशिष्ट स्थान है। स्वेदन कर्म पंचकर्म का एक पूर्व कर्म है अर्था...
मेथी (Methi) – मेथी के फायदे / Methi Ke Fayd... मेथी / Methi परिचय भारतीय रसोई में मेथी की अपनी एक अलग जगह है | आयुर्वेद और घरेलु चिकित्सा में मेथी के अतुलनीय गुणों के कारण एक विशिष्ट स्थान है...
कुलथी के गुणधर्म, फायदे एवं 7 बेहतरीन स्वास्थ्य ला... कुलथी क्या है - दक्षिण भारत में कुलथी का प्रयोग बहुतायत से किया जाता है | इसकी दाल बनाकर एवं अंकुरित करके अधिक प्रयोग में लेते है | आयुर्वेद में कुलथी...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.