अविपत्तिकर चूर्ण को बनाने की विधि एवं इसके उपयोग / फायदे

अविपत्तिकर चूर्ण – हाइपर एसिडिटी एवं अजीर्ण रोग में आयुर्वेद पद्धति का सबसे विश्वनीय चूर्ण है | अधीक अम्लीय पदार्थो के सेवन एवं आहार में अम्लता की अधिकता के कारण शरीर में हाइपर एसिडिटी जैसी समस्या उत्पन्न हो जाती है | हाइपर एसिडिटी के कारण सीने में जलन, कब्ज, अजीर्ण एवं अपच जैसे रोगों से व्यक्ति पीड़ित हो जाता है |

अविपत्तिकर चूर्ण

भूख की कमी, भोजन ठीक ढंग से न पचना, सीने में जलन एवं कब्ज जैसे रोगों में अविपत्तिकर चूर्ण के सेवन से जल्द ही आराम मिल जाता है | बाजार में यह दिव्य अविपत्तिकर चूर्ण, बैद्यनाथ, पतंजलि एवं डाबर कंपनी के आसानी से उपलब्ध हो जाते है | लेकिन पूर्ण विश्वनीयता के लिए आप इस चूर्ण का निर्माण घर पर भी कर सकते है |

अविपत्तिकर चूर्ण के घटक द्रव्य 

इस चूर्ण के निर्माण में निम्न घटक द्रव्यों का समावेश होता है | ये सभी द्रव्य घर पर भी आसानी से मिल जाते है, अत: इसके निर्माण में अधिक जुगत की आवश्यकता नहीं पड़ती |


1. कालीमिर्च – 1 भाग

2. सोंठ – 1 भाग

3. पिप्पली – 1 भाग

4. आंवला (आमलकी) – 1 भाग

5. बहेड़ा (विभितकी) – 1 भाग

6. हरड (हरीतकी) – 1 भाग

7. नागरमोथा – 1 भाग

8. वायविडंग – 1 भाग

9. विड लवण – 1 भाग

10. इलायची – 1 भाग

11. तेजपत्र – 1 भाग

12. लौंग – 10 भाग

13. निशोथ – 40 भाग

14. मिश्री – 60 भाग

अविपत्तिकर चूर्ण बनाने की विधि

इस चूर्ण के निर्माण के लिए ऊपर बताये गए सभी द्रव्यों को आवश्यकता में ले लीजिये | अब सबसे पहले इन सभी घटक द्रव्यों को थोड़ी धुप देकर इमाम दस्ते में अच्छे से कूट पीसकर महीन चूर्ण बनालें | सभी चूर्णों को आपस में मिलाले | आपका अविपत्तिकर चूर्ण तैयार है | इस चूर्ण को किसी कांच की शीशी में सहेज लें |

सेवन कैसे करें ?

अविपत्तिकर चूर्ण लेने का सही समय खाना खाने से पहले सुबह एवं शाम करना चाहिए | इसे 3 से 6 ग्राम की मात्रा में गरम जल , शहद या दूध के साथ लेना चाहिए | सेवन से पहले चिकित्सक से परामर्श अवश्य लेना चाहिए |

अविपत्तिकर चूर्ण के फायदे या चिकित्सकीय उपयोग 

  • हाइपर एसिडिटी या अम्लपित की समस्या में इसका सेवन लाभदायक होता है |
  • भूख की कमी
  • अजीर्ण एवं अपच
  • कब्ज में अविपत्तिकर चूर्ण के प्रयोग से लाभ मिलता है |
  • यह शरीर में बढे हुए पित्त को संतुलित करके पाचन को सुधारने का कार्य करता है |
  • गैस के कारण होने वाले दर्द  से आराम मिलता है |
  • सीने की जलन में यह चमत्कारिक – नुकसान रहित आयुर्वेदिक औषधि है |
  • खट्टी डकारों से राहत मिलती है |
  • मूत्र विकारों में भी लाभदायक है |

अविपत्तिकर चूर्ण यहाँ से ख़रीदे –

Related Post

कैशोर गुग्गुलु – फायदे, स्वास्थ्य लाभ एवं कै... कैशोर गुग्गुलु / Kaishore Guggulu in Hindi आयुर्वेद चिकित्सा में गुग्गुलु कल्पना के तहत बनाई जाने वाली आयुर्वेदिक दवा है | कैशोर गुग्गुलु का प्रयोग व...
हिचकी / Hiccough – हिचकी रोकने के उपाय, कारण... हिचकी (हिक्का) रोग / Hiccough - रोकने के उपाय हिक इति कृत्वा कायति शब्दायते इति हिक्का | अर्थात शरीर के द्वारा ( उदान , प्राणवायु, यकृत , प्लीहा औ...
लहसुन खाने के 30+ फायदे – अपनाये ये घरेलु नु... लहसुन के फायदे और इसके घरेलु नुस्खे  भारतीय व्यंजनों में लहसुन का इस्तेमाल चटपटी चीजों का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है | लेकिन जितना उपयोग लहसुन क...
ताड़ासन (Tadasana Yoga) योग – कैसे करे, इसके ... ताड़ासन / Tadasana Yoga in Hindi शरीर की लम्बाई बढ़ाने और मांसपेशियों को लचीला बनाने के लिए इस आसन का प्रयोग किया जाता है | ताड़ासन का संधि विच्छेद करने...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.