रास्नासप्तक क्वाथ (Rasnasaptak Kwath) – फायदे एवं घटक द्रव्य ||

रास्नासप्तक क्वाथ परिचय – यह एक आयुर्वेदिक प्रशिद्ध क्वाथ है जिसका उपयोग गंभीर आमवात की समस्या में किया जाता है | आयुर्वेद चिकित्सा में क्वाथ औषधियों का उपयोग प्राचीन समय से ही होता आया है | क्वाथ शरीर पर जल्दी असर दिखाते है एवं रोग का शमन भी जल्दी करने लगते है |

रास्नासप्तक क्वाथ

लम्बे समय से चली आ रही आम की दिक्कत , शरीर में वातव्रद्धी होना एवं जोड़ो के दर्द की समस्या में इसका प्रयोग करने से तीव्रतम लाभ मिलता है | यह व्यक्ति के पाचन को सुधार कर कब्ज जैसी समस्या का अंत भी करने में सक्षम औषधि है |

रास्नासप्तक काढ़े में विभिन्न प्रकार की जड़ी – बूटियों का समावेश होता है |

रास्नासप्तक क्वाथ के घटक द्रव्य

  1. रास्ना
  2. गोक्षुर
  3. एरंड
  4. देवदारु
  5. पुनर्नवा
  6. गुडूची (गिलोय)
  7. आरग्वध (अमलतास)
  8. शुंठी चूर्ण

इन सभी औषध द्रव्यों को समान मात्रा में लिया जाता है एवं इनके यवकूट चूर्ण को बराबर मात्रा में मिलाने से रास्नासप्तक क्वाथ का निर्माण होता है |

रास्नासप्तक काढ़े का निर्माण कैसे करें ?

काढ़े का निर्माण करने के लिए 10 या 15 ग्राम रास्नासप्तक क्वाथ को 200 मिली. पानी में डालकर खूब उबाला जाता है , जब पानी एक चौथाई बचे तब इसे आग से निचे उतार कर ठंडा करलें | ठन्डे होने पर छान कर उपयोग में लेना चाहिए | इस काढ़े का उपयोग चिकित्सक की देख रेख में या दिन में दो बार भूखे पेट लिया जाता है |

रास्नासप्तक क्वाथ के फायदे या चिकित्सकीय उपयोग

इस आयुर्वेदिक काढ़े का प्रयोग निम्न रोगों में किया जाता है –

  1. गंभीर आमवात
  2. जंघाग्रह (जंघाओं का दर्द)
  3. कमर दर्द
  4. पार्श्वपीड़ा – पसली में दर्द होने पर
  5. उरुशूल
  6. प्रष्ठशूल (पीठ का दर्द)
  7. उरुपीड़ा एवं
  8. दु: साध्य आमवात की समस्या में रास्नासप्तक क्वाथ का प्रयोग करने से लाभ मिलता है |
  9. वातशुल में भी इसके सेवन से लाभ मिलता है |
  10. पाचन को सुधार कर कब्ज को ठीक करने में फायदेमंद है |

आपके लिए अन्य महत्वपूर्ण स्वास्थ्य जानकारियां 

 

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.