वायविडंग परिचय – औषधीय गुण धर्म , फायदे एवं स्वास्थ्य उपयोग

वायविडंग (vaividang) / Embelia Ribes Hindi 

वायविडंग क्या है :- वायविडंग एक आयुर्वेदिक औषधीय द्रव्य है | भारत में अधिकतर हिमालय के प्रदेशों, दक्षिणी भारत के पर्वर्तीय परदेशो एवं इसके साथ – साथ नेपाल , चीन और पाकिस्तान तक इसके वृक्ष पाए जाते है |  श्रीलंका एवं सिंहपुर के क्षेत्रों में भी इसके वृक्ष देखने को मिलते है | विडंग को बेहतरीन कृमिनाशक माना जाता है | उदर कृमि, अग्निमंध्य, आद्मान, गृहणी , शूल एवं प्रमेह जैसे रोगों में विशिष्ट उपयोगी औषधि है |

वायविडंग
img creadit – indiamart

औषधीय उपयोग में अधिकतर इसके फल का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन कई जगह जड़ का प्रयोग भी किया जाता है | फल गुच्छों के रूप में कालीमिर्च के सामान गोल और छोटे होते है, जो पकने पर लाल और सूखने पर काले हो जाते है | फल कालीमिर्च के सामान होने के कारण ये कालीमिर्च का आभास करवाते है |

इसके पते 3 इंच तक लम्बे और 1.5 इंच तक चौड़े होते है | ये आगे से नुकीले एवं अंडाकार आकृति के होते है | विडंग के फुल सफेद या हरिताभ शाखाओं के अग्रिम प्रान्तों में गुच्छो के रूप में लगे रहते है |

फलों में एन्बेलिक एसिड , एम्बेलिन एवं उड़नशील तेल पाया जाता है |

वायविडंग के गुण धर्म 

रस – तिक्त एवं कटु

गुण – तीक्ष्ण , रुक्ष एवं लघु |

वीर्य – उष्ण |

विपाक – कटू |

रोग्प्रभाव एवं सेवन की मात्रा 

वायविडंग का सेवन 1 से 6 ग्राम तक चिकित्सक के निर्देशानुसार सेवन किया जा सकता है | आयुर्वेदिक औषधीय उपयोग में इसके फल का इस्तेमाल किया जाता है | विडंग द्रव्य के इस्तेमाल से विडंगादी चूर्ण, विडंगाडी लौह, विडंगारिष्ट, हरितक्यादी योग, कृमिमुद्गर रस आदि का निर्माण किया जाता है |

वायविडंग के उपयोग या फायदे 

आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में विडंग का निम्न रोगों के उपचार में प्रयोग किया जाता है |

  • पेट के कीड़ों के लिए आयुर्वेद में वायविडंग का इस्तेमाल प्रमुखता से किया जाता है | इसके प्रयोग से सभी प्रकार के कृमि (कीड़े) जैसे गोलकृमि, धागाकृमि एवं टेपवर्म आदि का आसानी से उपचार किया जा सकता है |
  • रक्तशोधक गुणों से युक्त होने कारण रक्त की अशुद्धियों को दूर करने के साथ – साथ शरीर से टोक्सिनस को बाहर निकालने में भी उपयोगी है |
  • विडंगादी चूर्ण के इस्तेमाल से पाचन ठीक होता है एवं अग्निमंध्य की समस्या से छुटकारा मिलता है |
  • वायविडंग में एंटीफंगल एवं एंटीबैक्टीरियल गुण होते है जो इसे त्वचा विकारों में फायदेमंद साबित करते है |
  • कफ जनित कृमि के उपचार में विडंग का इस्तेमाल लाभदायक होता है |
  • मधुमेह के उपचार में भी यह फायदेमंद साबित होता है |
  • सभी प्रकार की वातव्याधि में इसका प्रयोग किया जाता है |
  • अजीर्ण एवं अरुचि में लाभदायक है |
  • विडंग शिरोविरेचन गुणों से युक्त होता है अर्थात इसके इस्तेमाल से सिर के दोषों का नाश होता है | आयुर्वेद के षड्बिन्दु तेल और अणुतेल में विडंग सहायक औषध द्रव्य होता है |
  • वायविडंग के पतों का इस्तेमाल मुंह के छालों और गले के विकारों में किया जाता है |
  • यह शरीर की अतिरिक्त फैट को भी घटाता है | इसलिए मेदोहर औषधि के रूप में इसका इस्तेमाल किया जाता है |
  • अस्थमा एवं क्षय रोग में भी विडंग का इस्तेमाल फायदेमंद होता है |

धन्यवाद |

Related Post

द्राक्षारिष्ट – बनाने की विधि एवं इसके स्वास... द्राक्षारिष्ट / Draksharishta  आयुर्वेद में इसे उत्तम बलशाली औषधि माना जाता है | यह सामान्य विकृति के साथ श्वसन सम्बन्धी सभी विकारों में बेहद लाभदायक...
सिंहनाद गुग्गुलु – जाने इसके फायदे, निर्माण ... सिंहनाद गुग्गुलु (Singhnad Guggulu) - आयुर्वेद की यह दवा वातदोषों के उपचारार्थ उपयोग में ली जाती है | इसका प्रयोग आमवात , वातरक्त, रुमाटाइड पेन एवं सं...
खांसी होने पर अपनाये एक्यूप्रेशर और ये घरेलु उपचार... खांसी सर्दियोें मे होने वाली एक आम समस्या है। भले ही शुरूआती स्टेज में यह कोई बड़ा रोग प्रतित न हो लेकिन उपचार में देरी और आहार में लापरवाही के कारण भं...
पुंसवन कर्म – मन माफिक पुत्र या पुत्री की प्... पुंसवन कर्म  " गर्भाद भवेच्च पुन्सुते पुन्स्त्वस्य प्रतिपादनम " अर्थात स्त्री गर्भ से पुत्र प्राप्ति हो इसलिए पुंसवन संस्कार किया ज...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.