कुलथी के गुणधर्म, फायदे एवं 7 बेहतरीन स्वास्थ्य लाभ

कुलथी क्या है – दक्षिण भारत में कुलथी का प्रयोग बहुतायत से किया जाता है | इसकी दाल बनाकर एवं अंकुरित करके अधिक प्रयोग में लेते है | आयुर्वेद में कुलथी को मूत्र विकार नाशक एवं अश्मरीहर माना जाता है | इसका पौधा तीन पतियों वाला होता है | जिसमे सितम्बर से नवम्बर में फुल एवं अक्टोबर से दिसम्बर में फल लगते है | वैसे इसके फलों का उपयोग पशुओं के लिए भी किया जाता है लेकिन दक्षिणी भारत में इस औषध द्रव्य से विभिन्न पकवान भी बनाये जाते है |

कुलथी

इस औषध द्रव्य में प्रचुर मात्रा में विटामिन , प्रोटीन एवं कार्बोहायड्रेट उपलब्ध होता है | मूत्रविकारों एवं पत्थरी की समस्या में इसका उपयोग करने से लाभ मिलता है | अगर निर्देशानुसार उपयोग में ली जावे तो पत्थरी को काटने में उत्तम औषधि साबित होती है | वैसे इस औषध का निर्देशित मात्रा से अधिक सेवन भी नहीं करना चाहिए क्योंकि यह शरीर में अम्लपित की समस्या पैदा कर सकती है |

कुलथी के औषधीय गुणधर्म

यह कटु रस वाली , कसैली, पित्तरक्त कारक, पचने में हलकी , दाह्कारी होती है | इसका वीर्य उष्ण होता है अर्थात कुलथी की तासीर गर्म होती है | उष्ण वीर्य होने के कारण यह श्वास, कास, कफ एवं वात का शमन करने वाली होती है | साथ ही हिक्का (हिचकी), अश्मरी, शुक्र, आफरा, पीनस, मेद ज्वर तथा कृमि को दूर करने में भी उत्तम कार्यकारी औषधि साबित होती है |

कुलथी उत्तम मूत्रल, मोटापा नाशक और पत्थरी नासक औषधि है |

कुलथी के फायदे या स्वास्थ्य लाभ 

निम्न रोगों में उपयोग करने से स्वास्थ्य लाभ मिलते है | यहाँ कुच्छ रोग एवं उनमे कुलथी के नुस्खे का वर्णन किया है | अतिरिक्त जानकारी के लिए अपने निजी चिकित्सक से परामर्श कर सकते है |

पत्थरी में – पत्थरी की समस्या में कुलथी का उपयोग बहुत फायदेमंद होता है | यह गुर्दे में स्थित पत्थरी को काटने का कार्य करती है | उपयोग करने के लिए सबसे पहले कुलथी क 40 ग्राम बीजों को 4 कप पानी में डालकर उबालें | जब पानी एक कप रह जाये तब इसे उतार कर ठंडा कर के छान ले | इस पानी का उपयोग आधा सुबह एवं आधा शाम में करें | नियमित 15 दिन के उपयोग से पत्थरी गल कर निकलने लगेगी |

मूत्र विकारों में – मूत्र के सभी विकार जैसे मूत्र में रूकावट, जलन , जलन के साथ बूंद – बूंद करके मूत्र आना, बुखार के कारण मूत्र में कमी व जलन होना आदि व्याधियों को दूर करने के लिए यह उत्तम औषधि साबित होती है | इस प्रयोग के लिए कुलथी और मकई के रेशे 10 – 10 ग्राम लेकर एक गिलास पानी में उबाले | जब एक कप पानी शेष रह जाए तब इसे छान कर ठंडा करलें | अब इस पानी के तीन भाग करके दो – दो घंटे के अन्तराल से पीने पर रुका हुआ मूत्र खुलकर होने लगता है |

शुक्राणुओं की कमी में –  इसमें कैल्शियम , फास्फोरस एवं एमिनो एसिड होते है जो इसे और अधिक उपयोगी बनांते है | शुक्राणुओं की कमी में इसकी दाल का सेवन करने से काफी लाभ मिलता है |

प्रसवोत्तर शोथ – कुलथी पुरुषों के साथ – साथ महिलाओं के लिए भी इतनी ही फायदेमंद होती है | महिलाओं में प्रसव उपरांत गर्भाशय में सुजन की समस्या हो जाती है | इस समस्या में भी अगर कुलथी का काढ़ा बना कर सेवन किया जाए तो जल्द ही गर्भाशय की सुजन दूर होती  है |

कब्ज एवं पेटदर्द में – इसमें उत्तम लाक्सेतिव गुण होते है | अत: कब्ज की समस्या से पीड़ित भी इसके उपयोग से लाभ उठा सकते है | कुलथी का सेवन करने से कब्ज दूर होती है | जिन्हें पेट दर्द की शिकायत रहती है वे भी कुलथी के बीजों का चूर्ण बना कर 5 ग्राम की मात्रा में दही के साथ उपयोग करने से पेट दर्द की समस्या से मुक्त होते है |

मोटापा दूर – मोटे व्यक्तियों को भी इसका सेवन लाभ देता है | नियमित कुलथी की दाल का सेवन करने से मोटापा कम होने लगता है | इसमें उपस्थित कार्बोहायड्रेट उर्जा उपलब्ध करवाती है लेकिन फैट को बढ़ने नही देती |

बुखार एवं जुकाम – बुखार में अगर पूरा शरीर तपता हो और अवसाद जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाए तब इसके बीजो से निर्मित चूर्ण का लेप करने से लाभ मिलता है | जुकाम एवं कफज विकारों में इसके बीजों को पानी में उबाल कर सेवन करने से लाभ मिलता है | कुलथी उष्ण वीर्य होने के कारण कफ एवं वात को दूर करने का कार्य करती है |

Buy Kulathi at Amazon

धन्यवाद |

Related Post

विटामिन सी / Vitamin ‘C’ – लाभ ,... विटामिन सी / Vitamin 'C' विटामिन सी से तो सभी भली भांति परिचित है | बुजुर्ग हो या छोटा बच्चा सभी को इस विटामिन के बारे में थोड़ा बहुत ज्ञान तो अवश्य ह...
कस्तूरी / kasturi : शुद्ध कस्तूरी की पहचान , प्रका... कस्तूरी / kasturi कस्तूरी के बारे में सभी ने कुछ न कुछ जरुर सुना होता है | भारत में प्राचीन समय से ही कस्तूरी के उपयोगों का ज्ञान था | कस्तूरी ...
लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि – इसके स्वास्... लवण भास्कर चूर्ण / Lavan Bhaskar Churna in Hindi आयुर्वेद में रोगों के इलाज के लिए सबसे अधिक चूर्ण का इस्तेमाल किया जाता है | लवण भास्कर चूर्ण भी आयु...
अस्थमा रोग से छुटकारे के लिए योग एवं प्राणायामों क... अस्थमा के लिए योग एवं प्राणायाम  अस्थमा की समस्या आज दिन प्रतिदिन बढती जा रही है | शहर हो या गाँव आज सब जगह इस रोग से पीड़ितों की संख्या में आये दिन इ...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.