भ्रामरी प्राणायाम कैसे करे ? – इसकी विधि, लाभ एवं सावधानियां |

भ्रामरी प्राणायाम / Bhramri Pranayama

भ्रामरी शब्द भ्रमर से बना है जिसका अर्थ होता है “भौंरा”| भ्रामरी प्राणायाम करते समय साधक भौंरे के समान आवाज करता है , इसलिए इसे भ्रामरी प्राणायाम कहा जाता है | मन को प्रसन्न करने , क्रोध, मोह एवं परेशानियों से बचने के लिए इस प्राणायाम को अपनाया जा सकता है | इसमें उठने वाली भ्रामरी तरंगे मष्तिष्क को शांत एवं निर्मल करती है |

भ्रामरी प्राणायाम

घेरण्ड संहिता में कहा गया है की जब अर्ध रात्रि को सभी जीव – जंतु सो जाए व कोई शब्द न सुनाई पड़े तब साधक को एकांत में जाकर इसका अभ्यास करना चाहिए | इस प्राणायाम को करने से बहुत सी धवनियाँ जैसे – झींगुर की आवाज, बाँसुरी, बादलों के गरजने की ध्वनी, झांझ की ध्वनी , भौंरे की ध्वनी , तुरही, मृदंग और निरंतर अभ्यास से अंत में अनहद नाद सुनाई पड़ता है जो साधक की अंतिम अवस्था है | इसके पश्चात साधक को एक प्रकाश पुंज दिखलाई पड़ता है, जो साक्षात् परम ब्रह्म का ही एक रूप है |

इस प्रकार घेरण्ड संहिता बताती है की भ्रामरी कुम्भक के सिद्ध होने पर साधक के समाधी की सिद्धि हो जाती है | अनहद नाद के बारे में कहा गया है कि यह जप से आठ गुना उत्तम ध्यान है , ध्यान से आठ गुना तप है एवं तप से आठ गुना उत्तम अन्ह्द नाद (ईश्वरीय संगीत), जिससे बढ़कर उत्तम कुछ भी नहीं है |

भ्रामरी प्राणायाम करने का तरीका / विधि / How to do Bhramri Pranayama

  • सबसे पहले खुले , शांत व एकांत जगह को चुने |
  • सुखासन, पद्मासन या सिद्धासन किसी एक आसन में बैठ जाए |
  • अब हल्का श्वास अन्दर ले |
  • अब अपनी तर्जनी अंगुली से अपने कानो को बंद कर ले |
  • थोड़ी देर कुम्भक करे |
  • अब एक लम्बी गहरी श्वास ले |
  • श्वास को छोड़ते हुए अपने कानों को बंद रखे या पुन: बंद एवं खोल सकते है | श्वास छोड़ते हुए भिनभिनाने की आवाज निकाले |
  • मन को शांत और ध्यान को अपने आज्ञा चक्र पर रखे |
  • यह पूरा एक चक्र हुआ , इस प्रकार 5 से 10 चक्र पूरा करे |
  • कई साधक तेज आवाज में भ्रामरी प्राणायाम करते है तो कई इसे धीमी आवाज में करते है | हालाँकि दोनों ही फलदायी है , लेकिन तेज स्वर में ज्यादा फायदा होता है |

भ्रामरी प्राणायम के लाभ / फायदे / Benefits of Bhramri Pranayama

  • भ्रामरी प्राणायाम को करने से मन शांत और प्रसन्न रहता है |
  • स्वर मधुर होता है एवं आवाज में मधुरता आती है |
  • सभी प्रकार के मानसिक रोग जैसे – तनाव, क्रोध, चिडचिडापन आदि दोषों का शमन होता है |
  • हृदय रोगी व High blood pressure आदि रोगों में लाभ मिलता है |
  • माइग्रेन जैसे रोगों में भी लाभ मिलता है |
  • मन को एकाग्र करने एवं आत्मविश्वास को बढ़ाने में यह प्राणायाम लाभकारी है |
  • अनिद्रा रोग से छुटकारा मिलता है |
  • आध्यात्मिकता में भी लाभ मिलता है |

भ्रामरी प्राणायाम करते समय ध्यान रखने योग्य जानकारी

  • गुंजन करते समय ॐ की ध्वनि निकाली जा सकती है |
  • प्राणायाम करते समय मुंह को बंद रखे लेकिन दांतों को आपस में नहीं मिलाना चाहिए |
  • इस प्राणायाम को षणमुखी मुद्रा के साथ भी कर सकते है |
  • कभी – कभी भ्रामरी प्राणायाम करते समय भूलवश कुच्छ अन्य ध्वनियाँ निकलने लगती है | अत: इनका ध्यान रखना चाहिए |
  • हृदय रोगी बिना कुम्भक के भी इस प्राणायाम को कर सकते है |
  • ध्यान दे कानो को बंद करते समय कानो की उपस्थि को ही बंद करना चाहिए एवं इसे भी अधिक जोर से नहीं बंद करे | अर्थात कानो को बंद करते समय उपस्थि को हल्के तरीके से दबा कर बंद करे |

धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You