भस्त्रिका प्राणायाम – करने की विधि , लाभ और सावधानियां

भस्त्रिका प्राणायाम / Bhastrika Pranayam in Hindi

इस भस्त्रिका का अर्थ होता है “धौंकनी” | जिस प्रकार लुहार की धौंकनी निरंतर तीव्र गति से हवा फेंकती रहती है और लोहा गरम होता रहता है उसी प्रकार से भस्त्रिका प्राणायाम में श्वास – प्रश्वास की गति तीव्र बलशाली और सशक्त रखनी पड़ती है | इस प्राणायाम को करते समय एक प्रकार की ध्वनि निकलती है जिसकी तुलना हम लोहार की धौंकनी से कर सकते है |

भस्त्रिका लाहकाराणां यथाक्रमेण सम्भ्रमेत्।
तथा वायुं च नासाभ्यामुभाभ्यां चालयेच्छनै:।।
एवं विंशतिवारं च कृत्वा कुर्याच्च कुम्भकम्।
तदन्ते चालयेद्वायुं पूर्वोक्तं च यथाविधि।।
त्रिवारं साधयेदेनं भस्त्रिकाकुम्भकं सुधी:।
न च रोगो न च क्लेश आरोग्यं च दिने दिने।।

भस्त्रिका प्राणायाम

अर्थ – जैसे लोहार धोंकनी द्वारा वायु भरता है उसी प्रकार नासिका द्वारा वायु को उदर में भर शनै: शनै: पेट में चलायें | इस तरह बीस बार करके कुम्भक द्वारा वायु धारण करे फिर लोहार की धोंकनी से जैसे वायु निकलती है , वैसे ही नासिका द्वार से वायु निकालें यह भस्त्रिका कुम्भक कहलाता है | इस प्रकार यह क्रिया तीन बार पुरे नियम से करे | इस प्रकार से यह प्राणायाम करने से किसी भी प्रकार के रोग नहीं होते और व्यक्ति सभी रोगों से हमेशां के लिए आरोग्य प्राप्त कर लेता है |

कैसे करे भस्त्रिका प्राणायाम ? इसकी विधि

भस्त्रिका प्राणायाम को आप दो प्रकार से कर सकते है |

प्रथम विधि 

  • सबसे पहले पद्मासन में बैठ जाएँ |
  • अपनी गर्दन , मेरुदंड और पीठ को बिलकुल सीधा रखे |
  • अब अपने दाहिने नासिका द्वार को बंद कर के बांये नाक से तेज गति से श्वास को अन्दर ले और उसी गति से श्वास को बाहर फेंके |
  • ध्यान दे श्वास इतनी गति से ले की नाक से श-श की आवाज आये | श्वास छोड़ते समय भी इतनी आवाज हो |
  • अब दोबारा यही क्रिया बांयी नासिका द्वार को बंद करके दांये नासिका से करे |
  • इसी क्रम में लगभग 15-20 बार करे |
  • श्वास लेते समय पेट का फूलना और पिचकाना समान तरीके से करे |
  • इस प्रकार यह एक चक्र कहलायेगा |
  • कम से कम तीन चक्र पुरे करे |
  • इन सब के बाद मुलबंध और जालन्धर बंध का प्रयोग करे |

दूसरी विधि 

  • इस विधि में भी सबसे पहले साफ़ और समतल जगह पर चटाई बिछा कर सुखासन या पद्मासन में बैठ जाए |
  • अब अपने दोनों नासिका द्वार से आवाज करते हुए श्वास – प्रश्वास की क्रिया करनी है |
  • इस विधि में भी श्वास लेते समय पेट फुलाना और श्वास छोड़ते समय पेट को पिचकाना होता है | कहने का अर्थ है की तीव्रता से श्वास अन्दर लेने से पेट स्वाभाविक ही फूलना चाहिए और श्वास छोड़ते समय पेट स्वाभाविक ही पिचकेगा |
  • इस प्रकार यह क्रिया कम से कम 20 बार करनी है |
  • सामर्थ्य अनुसार अंत: कुम्भक करे | अर्थात श्वास को अंदर रोके रखे |
  • इसके बाद में जालन्धर बंध और मुलबंध का अभ्यास करे |
  • यह एक चक्र कहलायेगा | इस प्रकार तीन चक्र पूर्ण करे |

भस्त्रिका प्राणायाम के लाभ / फायदे

  • अस्थमा या दमा के रोगी इस प्राणायाम का अभ्यास करने से अस्थमा से छुटकारा पा सकते है | श्वास , अस्थमा आदि रोगों में भस्त्रिका प्राणायाम का लगातार अभ्यास करने से जल्द ही इससे छुटकारा मिल सकता है |
  • शरीर में स्थित विजातीय तत्वों का निष्कासन होता है , जिससे रक्त शुद्ध होता है एवं रक्त संचार भी सुचारू होता है |
  • लगातार अभ्यास से फेफड़े मजबूत होते है जिससे कभी दमा की शिकायत नहीं होती |
  • शरीर में स्थित दूषित कफ को बाहर निकलता है |
  • इस प्राणायाम को करते रहने से त्रिदोष – वात, पित और कफ का शमन होता है और व्यक्ति निरोगी रहता है |
  • पाचन सम्बन्धी अंगो की क्रियाशीलता बढती है जिससे पाचन रोगों में भी लाभ होता है |
  • पेट की चर्बी को भी इस प्राणायाम के प्रयोग से कम किया जा सकता है |
  • भस्त्रिका प्राणायाम के निरंतर अभ्यास से व्यक्ति तनावमुक्त रहता है | साधक स्वस्थ तन और मन से परिपूर्ण होता है |
  • कुंडलिनी जागरण में भी यह प्राणायाम लाभदायक होता है |

भस्त्रिका प्राणायाम की सावधानियां

  • हाई ब्लड प्रेस्सर और हृदय रोग से पीड़ित व्यक्ति इस प्राणायम को तीव्र गति से न करे |
  • फेफड़ो की तीव्र कमजोरी वाले योग्य योग गुरु की राय लेकर अपनाये |
  • अल्सर, हर्निया और गर्भवती महिलाए इसे न करे |
  • अधिक थकान और कमजोरी महसूस होने पर कुछ देर के लिए रोक दे |
  • नए साधक अपने सामर्थ्य अनुसार करे |
  • भस्त्रिका प्राणायाम करने से पहले हमेशां अपनी नाक को अच्छी तरह साफ़ कर लेना चाहिए |
  • गर्मियों के मौसम में इस प्राणायम के बाद शीतली प्राणायम को अपनाना चाहिए |
  • श्वास गति को नियमित करने के लिए अनुलोम-विलोम को अपना सकते है |

धन्यवाद |

Related Post

मकरासन -विधि, लाभ , कमर दर्द एवं सर्वाइकल से मुक्त... मकरासन की विधि परिभाषा - मकर नाम मगरमच्छ का ही एक प्रयाय है। मकरासन में जलज प्राणी मगरमच्छ की तरह ही आकृति बनानी पड़ती है। तभी इसे मकरासन नाम दिया ...
हाथ की मुर्द्राओं से भगाएं रोग – हस्त मुद्रा... हस्त मुद्रा से उपचार  हमारा भौतिक शरीर 5 महाभूतों से बना है - पृथ्वी , अग्नि , जल , वायु और आकाश | हमारे दोनों हाथों की अंगुलियाँ और अंगूठे इन्ही पां...
सितोपलादि चूर्ण – बनाने की विधि, सेवन मात्रा... सितोपलादि चूर्ण आयुर्वेद में श्वसन तंत्र से सम्बंधित समस्याओं जैसे - अस्थमा, जुकाम, खांसी, कफज बुखार आदि में इसका प्रचुरता से उपयोग किया जाता है | पा...
कुचला / Strychnos nuxvomica – गुण, उपयोग, ला... कुचला / Strychnos nuxvomica in Hindi कुचला जिसे अंग्रेजी में Poison Nut भी कहते है | आयुर्वेद में इसके बीजों की गणना फल विषों में की गई है , इसके विष...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.