जमालघोटा / Jamalghota – परिचय , फायदे और सावधानियाँ |

जमालघोटा / jamalghota (Croton Tiglum)

परिचय – जमालगोटा एक आयुर्वेदिक हर्बल औषधि है जिसका इस्तेमाल कब्ज , गंजेपन , जलोदर आदि में किया जाता है | मुख्य रूप से यह एक तीव्र विरेचक औषधि है , जो पुराने कब्ज को तोड़ने का काम करती है | इसका पौधा हमेशा हरा – भरा रहता है | भारत में इसके क्षुप (पेड़)  बंगाल , आसाम , पंजाब एवं दक्षिणी भारत में आसानी से मिल जाते है | जमालघोटा को हमारे यहाँ जयपाल के नाम से भी जानते है |

जमालघोटा

इसके क्षुप की लम्बाई 4 से 6 मीटर तक होती है | जो सदाबहार होते है | जमालघोटा के पत्र 2 से 4 इंच लम्बे – चौड़े होते है , जो आकर में अंडाकार , आगे से कुछ नुकीले एवं कुंगेरदार होते है | इसके फुल हरिताभ पीत वर्ण के होते है अर्थात पीले होते है | ये मंजरियों के रूप में लगते है | इसके फल तीन भागों में विभक्त होते है जिनपर कुच्छ बैगनी रंग की हलकी आभा होती है | ये फल 1 इंच तक लम्बे होते है | इसके बीज एरंड के समान मांसल और बादामी रंग के होते है | इसके बीजो को ही आयुर्वेद में औषध प्रयोग में लिया जाता है |

जमालघोटा / Jamalghota का रासायनिक संगठन 

इसके बीजो में एक स्थिर तेल होता है | जिसका प्रयोग अनेक आयुर्वेदिक औषधियों में किया जाता है | इसके अलावा इसमें टिगालिक एसिड , ओलीइक , पेनिटिक क्षोभ उत्पादक तत्व एवं एक विस्फोटजनक तत्व पाए जाते है |

जमालघोटा के गुण-धर्म एवं रोग प्रभाव 

यह कटु रस का होता है | गुणों में स्निग्ध, तीक्ष्ण एवं गुरु होता है | इसका वीर्य उष्ण एवं पचने के बाद विपाक कटु होता है | यह तीव्र विरेचक गुणों से युक्त होता है | इन्ही गुणों के कारण इसका इस्तेमाल जलोदर, शोथ , आमवात , कब्ज एवं उदर कृमि आदि रोगों में किया जाता है |  आयुर्वेद में जमालघोटा के इस्तेमाल से नाराच रस , जलोदरारिरस , इछाभेदी रस एवं बिंदुघृत आदि विशिष्ट योग उपलब्ध है |

जमालघोटा / jamalgota के विभिन्न भाषाओँ में पर्याय 


संस्कृत – जयपाल , दंतिबिज , तिन्तिदी फल |


हिंदी – जमालघोटा , जयपाल , जपोलघोटा व अजयपाल


मराठी – जेपाल


गुजराती – जैपाली


बंगला – जयपाल


अंग्रेजी – Purgative croton


लेटिन – Croton tiglum


विभिन्न रोगों में जमालघोटा / jamalgota के फायदे और उपयोग की विधि 

  1. गंजापन – अगर आपके बाल झड रहे हो तो जमालगोटा का पेस्ट बना कर गंजेपन से प्रभावित जगह पर लेप करे | जल्द ही बाल झड़ने बंद हो जायेंगे और नए बाल भी आने शुरू हो जायेंगे | निम्बू के रस में जमाल घोटे को पीसकर लेप करने से भी फायदा मिलता है |
  2. जीर्ण विबंद – जमालघोटा एक तीव्र विरेचक औषधि है | कितनी भी पुराणी कब्ज हो जमालघोटे के उपयोग से कब्ज आसानी से टूट जाएगी | जमालघोटे के एक बूंद तेल या इसके बीज के 30 से 40 मिलीग्राम चूर्ण का सेवन करने से दस्त शुरु हो जाते है | ध्यान दे यह एक तीव्र विरेचक औषधि है अगर इससे अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो यह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती है | अगर दस्त न रुके तो कत्था और निम्बू को मिलकर सेवन के लिए दे |
  3. त्वचा विकार – त्वचा विकारो में इसके बीजो का लेप बना कर प्रभावित तवचा पर लगाने से लाभ मिलता है |
  4. शीघ्रपतन – शीघ्रपतन या नपुंसकता की समस्या में जमालघोटे के तेल को लिंग पर लगा कर मालिश करने से लाभ मिलता है | यह तेल स्तम्भन शक्ति को बढ़ा देता है जिससे मर्दाना कमजोरी खत्म हो जाती है |
  5. सिरदर्द – सिरदर्द में माथे पर इसके पेस्ट का लेप करने से लाभ मिलता है |
  6. घाव – पुराने घाव पर जमालघोटा को पीसकर लगाने से घाव जल्दी भरता है |
  7. आमवात – आमवात से पीड़ित व्यक्तियो को जमालघोटे के तेल से मालिश करनी चाहिए |

जमालघोटे / jamalgota का इस्तेमाल करते समय बरते ये सावधानियां 

जमालघोटा एक तीव्र विरेचक द्रव्य है | इसके अधिक सेवन से तीव्र विरेचन और उल्टियाँ हो सकती है | अत: इसका प्रयोग हमेशा अपने निजी चिकित्सक की देख रेख में ही करना चाहिए | अगर इसके तेल की 10 बूंद एक साथ सेवन करली जाय तो यह जहरीला साबित होता है और इससे व्यक्ति की म्रत्यु तक हो सकती है | जमालगोटा के चूर्ण का सेवन भी एक उचित मात्रा में ही करना चाहिए | अधिक सेवन से पेट में जलन , अमाशय और आंतो पर विपरीत प्रभाव पड़ता है |

बच्चों और गर्भवती महिलाओं को इसका इस्तेमाल बिलकुल नहीं करना चाहिए | क्योंकि छोटे बच्चे और गर्भवती महिलाऐं इसके रोग प्रभाव को सहन नहीं कर सकते  | ध्यान दे हमेशा शुद्ध जमालघोटे का ही इस्तेमाल करना चाहिए अर्थात इसे सुध्ह कर के ही प्रयोग में ले | जमालघोटे को शुद्ध करने के लिए इसमें दूध , दही या छाछ को मिलाकर इसे शुद्ध करना चाहिए | इसकी सेवन की मात्रा 30 मिलीग्राम से 60 मिलीग्राम तक अधिकतम हो सकती है | इस मात्रा से अधिक कभी भी सेवन न करे |

धन्यवाद |

Related Post

कटेरी (kateri) / Solanum xanthocarpum – परिच... कटेरी (कंटकारी) / Solanum xanthocarpum कटेरी को कंटकारी, लघुरिन्ग्नी, क्षुद्रा आदि नामो से जाना जाता है | इसका पौधा 3 से 4 फीट ऊँचा होता है इसके सम्प...
पिप्पली – परिचय, गुणधर्म, फायदे एवं औषधीय उप... पिप्पली (Piper Longum) पिप्पली दो प्रकार की होती है | छोटी पिप्पल और बड़ी पिप्पली | हमारे देश में प्राय: छोटी पिप्पल ही पाई जाती है | बड़ी पीपल अधिकतर ...
एलर्जी की 10 प्रशिद्ध आयुर्वेदिक दवाइयां एवं सरल घ... एलर्जी की 10 प्रशिद्ध आयुर्वेदिक दवाइयां एवं सरल घरेलु इलाज नाक से छींके आना व खुजली, आँखों में खुजली के साथ पानी पड़ना एवं स्वांस लेने में दिक्कत होन...
विटामिन सी / Vitamin ‘C’ – लाभ ,... विटामिन सी / Vitamin 'C' विटामिन सी से तो सभी भली भांति परिचित है | बुजुर्ग हो या छोटा बच्चा सभी को इस विटामिन के बारे में थोड़ा बहुत ज्ञान तो अवश्य ह...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.