लहसुन खाने के 30+ फायदे – अपनाये ये घरेलु नुस्खे

लहसुन के फायदे और इसके घरेलु नुस्खे 

भारतीय व्यंजनों में लहसुन का इस्तेमाल चटपटी चीजों का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है | लेकिन जितना उपयोग लहसुन का खाने का स्वाद बढाने का होता है उससे अधिक इसका प्रयोग सेहत के लिए किया जा सकता है | आज हम आपको लहसुन के एसे 50 फायदे या घरेलु नुस्खों के बारे में बताएँगे जिनको अपना कर आप अपने रोग को ठीक कर सकते है |

लहसुन के फायदे

लहसुन की प्रकर्ति गरम होती है लेकिन लहसुन शरीर में तब तक गर्मी पैदा करता है जब तक की रोग उपस्थित है | अगर शरीर से रोग चला जाए तो लहसुन खाने से गर्मी नहीं होती |

इन नुस्खो से मिलेगा लहसुन का पूरा फायदा 

  1. बिच्छु काटने पर – एक गांठ लहसुन का रस तीन चम्मच शहद में मिलाकर पियें एवं आधा चम्मच नमक, छ: कली लहसुन छिला हुआ दोनों को पिस कर बिच्छु के काटे स्थान पर लेप करे | जल्द ही बिच्छु का जहर उतर जाएगा | लहसुन दाहक होता है अर्थात जलाने वाला होता है इसलिए काटे हुए स्थान पर अधिक देर तक लगा हुआ न रखें |
  2. खांसी – लहसुन की एक गाँठ गीले कपडे में लपेट कर सकें | फिर इसे छिल कर बिना कुछ मिलाये ही खा जाएँ | खांसी में तुरंत रहत मिलेगी |
  3. गर्धसी (Sciatica) – भोजन करते समय कच्चे लहसुन की पांच कलि नित्य चबा – चबा कर खाए | कच्चे लहसुन की चटनी भी खाएं | जब तक दर्द दूर न हो खाते रहे |
  4. शक्तिवर्द्धक – एक गाँठ लहसुन की छिलकर प्रत्येक कली के छोटे-छोटे टुकड़े करले | इसे एक चम्मच घी में सेके | सेकते हुए जब लहसुन का रंग बादामी रंग का हो जाए तब उसमें बुरा (देशी खांड ) मिलाकर नित्य सेवन करे | इस प्रकार से लहसुन का इस्तेमाल करने से शारीरिक शक्ति में इजाफा होता है और मर्दाना ताकत भी बढती है |
  5. आधे सर का दर्द – आधे सिर का दर्द अर्थात अर्धावबेधक जो सूर्य के साथ बढ़ता और घटता हो , इस प्रकार के दर्द में दर्द वाली जगह पर लहसुन को पीसकर इसके कल्क का लेप करने से राहत मिलती है | इस लेप को 15 मिनट तक लगा रहने दे |
  6. दांत दर्द – दांतों में कीड़े लगने या काले होकर खोखले हो गए हो एसी स्थति में लहसुन की एक कलि को थोडा गरम कर के उसी दांत के निचे दबा ले , जल्द ही दांत में होने वाली पीड़ा में राहत मिलेगी |
  7. आमवात – जोड़ों के दर्द में एक चम्मच लहसुन का रस निकाल ले और इसे देशी गाय के घी के साथ पिने से जल्द ही जोड़ों के दर्द में राहत मिलेगी |
  8. इसिनोफिलिया – सबसे पहले बीस कलि लहसुन की छिल कर बीस ग्राम गुड के साथ 250 ग्राम पानि में उबाल ले | जब पानी आधा रह जाए तब इसे छान कर लहसुन निकाल ले | निकाले हुए लहसुन को अच्छी तरह चबा – चबा कर खा जाये और ऊपर से इसका बचा हुआ पानी गरम गरम ही पीलें | इसिनोफिलिया में आराम मिलेगा |
  9. गैस की समस्या में लहसुन के फायदे – उट – पटांग खाना खाने और अजीर्ण या अपच की समस्या में पेट में गैस की उत्पति हो जाती है | पेट में पड़ा मल भी शरीर में गैस पैदा करता है | लहसुन के सेवन से गैस बाहर निकलती है और आंते साफ़ होती है | जब भी आप भोजन करे उस समय भोजन के बिच में 4 – 5 लहसुन की कच्ची कलि खाले | गैस खत्म होगी | अगर लहसुन की कलियों को अदरक के रस में डुबो कर खाया जाए तो गैस में तुरंत आराम मिलता है |
  10. शरीर पर कंही घाव हो जाए – आधा चम्मच लहसुन का रस और एक चम्मच सादा पानी दोनों को मिलाकर घाव की जगह बंधने से घाव जल्दी ठीक होता है | घाव होने पर लहसुन खाना भी अच्छा रहता है | क्योंकि लहसुन खाने से घाव जल्दी भरते है |
  11. अपच की परेशानी में – अगर कभी आप भी अपच की समस्या से गर्षित हो तो बस लहसुन की चटनी बना कर सेवन करे जल्द ही अपच दूर हो जाएगी | अधिक अपच की समस्या में के गाँठ लहसुन, एक चम्मच निम्बू का रस, अदरक, धनियाँ या पोदीना, काली मिर्च, काला नमक  और जीरा इन सभी को मिलाकर पानी डालकर पिसलें | तैयार मिश्रण का सेवन करने से अपच ठीक हो जाता है |
  12. उदरकृमि – पेट में कीड़े हो तो आधा चम्मच लहसुन का रस एक गिलास छाछ में मिलाकर भोजन के बाद नित्य सेवन करने से उदरकृमि ख़त्म हो जाते है | लहसुन के फायदे |
  13. आंव – आधा चम्मच घी में पांच कलि लहसुन की मिला कर चबाने से आंव आना बंद हो जाता है |
  14. फ्लू – फ्लू होने पर लहसुन और अदरक की मिलकर बनायीं गई चटनी का सेवन करें |
  15. उल्टी या जी मचलाना – उल्टी होती हो या जी मचलाता हो तो लहसुन की दो कलियों को कच्चा ही चबा ले | उलटी होने और जी मचलाने में आराम मिलेगा |
  16. उच्च या निम्न रक्त चाप – 500 ग्राम लहसुन को छीलकर 5 दिन तक धुप में सुखाले | अच्छी तरह सूखने के बाद किसी चीनी मिटटी के बर्तन में डालकर ऊपर से इतना शहद भर दे की लहसुन पूरा डूबा रहे | इस मर्तबान को 15 दिन तक धुप में रखे | इसके बाद सुबह, शाम दो बार दो कलि नित्य खा कर ऊपर से एक कप दूध पीलें | ऊच्च रक्तचाप या निम्न रक्तचाप  दोनों में लाभ मिलेगा |
  17. कब्ज – नित्यखायी जाने वाली सब्जी में लहसुन का इस्तेमाल अवश्य करे | इससे कब्ज नही होती |
  18. कानों में आवाज आना – यदि कान में तरह – तरह की आवाजे आती हो तो अदरक और लहसुन का रस सामान मात्रा में निकाल कर इसे हल्का गरम करे | अब जिस कान में आवाज आती हो उसी कान में दो बूंद रात को सोते समय डालें | तीन-चार दिन तक डालने के आवाज होना बंद हो जाता है |
  19. काली खांसी – दो कलि लहसुन की सेक कर पिस कर आधा चम्मच शहद में मिलकर दिन में दो बार सेवन करने से काली खांसी जल्द ही ठीक हो जाती है |
  20. गठिया रोग में – एक गाँठ लहसुन की 50 ग्राम तेल में डालकर गरम करे | लहसुन जल जाने पर इस तेल की नित्य गथियाग्र्स्त अंगो पर मालिश करने जोड़ों में होने वाले दर्द से छुटकारा मिलता है और नित्य पांच कलि लहसुन की खाने से गठिया रोग में आराम मिलता है |
  21. सुजन – चोट लगने पर कई बार सुजन आ जाती है | एसी स्थिति में दस कलि लहसुन और आधी गांठ हल्दी दोनों को पिस कर एक चम्मच तेल में फार्म करके सूजी हुई जगह पर लेप करके रुई लगा कर पट्टी बांधे | लहसुन के फायदे से जल्द ही सुजन दूर हो जायेगी |
  22. जलोदर रोग में – लहसुन और किशमिश समान मात्रा में पीसकर चटनी बना ले | दोनों समय रोटी के साथ चटनी खाएं | चोथाई कप गर्म पानी में दस बूंद लहसुन का रस मिला कर दो बार नित्य पिने से आराम मिलता है |
  23. वात रोग में लहसुन के फायदे – एक गांठ लहसुन की छीलकर रात को एक कप पानी में डालकर रखदें | प्रात: पीस कर उसी पानी में घोल कर पिजावे | इसके बाद एक चम्मच मक्खन खाए | इस प्रकार एक सप्ताह ले | एक सप्ताह बाद दो गाँठ इसी प्रकार दुसरे सप्ताह में , तीसरे सप्ताह में , तीन गाँठ नित्य इसी प्रकार ले | लहसुन के फायदे से वात रोग में लाभ मिलेगा |
  24. शीघ्रपतन में लहसुन के फायदे – सबसे पहले 21 दिन का पूर्ण ब्रह्मच्रिया रखे | इन्ही 21 दिनों में नित्य 15 बूंद लहसुन के रस का सेवन करे | शीघ्रपतन की समस्या ख़त्म हो जाएगी |
  25. प्रसुत ज्वर – बच्चे के जन्म के बाद अगर माँ को ज्वर हो गया हो तो 15 बूंद लहसुन का रस एक कप पानी में मिलकर पिलायें | नित्य इस प्रकार चार बार पिलाये |
  26. लकवा – नित्य सुबह – शाम दो बार दस – दस कलि लहसुन पीसकर गर्म घी में मिलाकर खा जाए | इस प्रयोग को लगातार दो महीने तक करे एवं लकवा मारे अंगो की सूखे हाथो से मालिश भी करते रहे |
  27. पायरिया में लहसुन खाने के फायदे – दो चम्मच नमक में आठ कलि लहसुन डालकर चटनी की तरह पिसले | इस चटनी को छाया में सुखा ले | सूखने के बाद रोग मंजन की जगह इस मिश्रण से मंजन करे | इस प्रकार से प्रयोग करने पर जल्द ही पायरिया की परेशानी से छुटकारा मिलता है |
  28. पेशाब में रूकावट – चाय में एक चौथाई चम्मच लहसुन का रस मिला कर पिने से पेशाब खुलकर आता है और पेशाब में रूकावट की समस्या दूर हो जाती है |लहसुन के फायदे और लाभ 
  29. फोड़े – फुंसी – चौथाई चम्मच लहसुन का रस चौथाई कप गर्म पानी में मिलाकर सेवन करे | रोजाना यह प्रयोग दिन में तीन बार इस्तेमाल करे जल्द ही फोड़े – फुंसियों से छुटकारा मिलेगा |
  30. मधुमेह में – एक चौथाई त्रिफला चूर्ण और पांच कली लहसुन को पीसकर दोनों को मिलकर नित्य सेवन करने से मधुमेह नियंत्रण में रहता है |
  31. मासिक धर्म – मासिक धर्म के दिनों में चार कलि लहसुन की दो कप पानी में तेज उबाल कर | इस पानी को गर्मा-गरम ही पीजावे और ऊपर से लहसुन की कलियों को चबलें | जितने दिन का आपका मासिक धर्म है उतने दिन तक इस प्रयोग को करते रहे | इस नुस्खे का इस्तेमाल करने से मासिक धर्म से सम्बंधित सभी समस्याएँ ठीक हो जाती है | लहसुन के फायदे

धन्यवाद |

Credits – Dr. Ganeshnarayan Chouhan

Related Post

सोरायसिस (Psoriasis) क्या है ? इसके कारण, लक्षण और... सोरायसिस क्या है ? (What is Psoriasis in Hindi) सोरायसिस - यह रोग त्वचा का बहुत ही सामान्य रोग है जो लगभग 10 साल से ऊपर के लोगों में अधिक देखने को मि...
शहद के 15 चमत्कारिक नुस्खें – इन्हें अपनाएं ... शहद के 15 चमत्कारिक नुस्खें भारतीय घरों में शहद भी एक आवश्यक सामग्री में गिना जाता है | प्राचीन समय से ही हमारे यहाँ शहद से उपचार एवं मिठास के लिए प्...
प्रोस्टेट ग्रंथि का बढ़ जाना (BPH) Benign Prostatic... प्रोस्टेट ग्रंथि का बढ़ना (BPH) प्रोस्टेट ग्रंथि पुरुषों के प्रजनन अंगो में एक महत्वपूर्ण अंग है | इसका मुख्य कार्य प्रोस्टेट फ्ल्युड्स को उत्सर्जित क...
चर्म रोग : फोड़े -फुंसियो का घरेलु उपचार (pimple ha... चर्म रोग  खून में खराबी होने से चर्म रोग हो जाते है | यह खराबी अनियमित भोजन तथा प्रदूषित वातावरण में रहने के कारण होती है | अपने स्वभाव के...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.