Mail : treatayurveda@gmail.com
कार्बोहाइड्रेट्स का उपयोग

कार्बोहाइड्रेट्स – प्रकार , साधन और इसके कार्य

कार्बोहाइड्रेट्स

हमारे शरीर को विभिन्न गतिविधियों का संचालन करने और दैनिक क्रियाकलापों को संपन्न करने के लिए उर्जा की  आवश्यकता होती है | यह उर्जा हमारे शरीर को अधिकांश कार्बोज के द्वारा ही प्राप्त होती है | जो हम खाने में ग्रहण करते है जैसे चावल , मक्का , गेंहू, बाजरा , आलू , चुकंदर , गुड और शक्कर आदि वो सभी कार्बोज के अंतर्गत ही आते है | भारत जैसे देश में जहां बेरोजगारी और भुखमरी इतनी अधिक है , यहाँ ये पदार्थ ही हमारे शरीर की उर्जा का 90% भाग प्रदान करते है |

कार्बोहाइड्रेट्स का उपयोग
कार्बोहाइड्रेट्स

क्या होता है कार्बोहाइड्रेट्स

हमारे शरीर को 55% से 65% उर्जा कार्बोज के द्वारा ही प्राप्त होती है | कार्बोहाइड्रेट्स के मुख्य स्रोत वनस्पति जगत ही है | पेड़ पौधे प्रकाश संक्ष्लेषण की क्रिया द्वारा कार्बोज का निर्माण करते है | 8 वीं क्लास में भी आपने पढ़ा होगा की प्रकाश संश्लेषण की क्रिया कैसे होती है | अगर याद नहीं है तो हम बता देते है | दर:शल प्रकाश संश्लेष्ण की क्रिया पेड़ की हरी पतियों द्वारा होती है |  पेड़ वातावरण से  कार्बनडाई ऑक्साइड ग्रहण करते है और ओक्सिजन छोड़ते है |

पेड़ की पतियों में क्लोरोफिल नामक वर्णक उपस्थित होता है  | यह वर्णक पेड़ से जल और वातावरण से प्राप्त कार्बनडाई ऑक्साइड के साथ मिलकर सूर्य की रोशनी में कार्बोज का निर्माण करते है | इन कार्बोज को पौधे अपने तने , जड़ , फल, फुल और बीज आदि में संगृहीत करते है | जो स्टार्च और शक्कर के रूप में संगृहीत रहते है | अत: इस प्रकार कार्बोहाइड्रेट्स का निर्माण होता है |

कार्बोहाइड्रेट्स का वर्गीकरण

रासायनिक विशेषताओं के आधार पर कार्बोज को तीन भागों में बांटा जाता है – (1) मोनोसैकराईड्स (2)डाईसैकराईड्स (3) पोलीसैकराईड्स | निम्न सारणी के द्वारा  आप अच्छी तरह समझ सकते है |

मोनोसैक्राइड के भागडाईसैक्राइड केप्रकारपोलीसैक्राइड के प्रकार
ग्लूकोजसुक्रोजस्टार्च
ग्लैक्टोजमाल्टोजग्लैकोजन
फ्रुक्टोजलैक्टोजसेल्युलोज
हेमीसेल्युलोज
पेक्टिन

 

कार्बोहाइड्रेट्स के कार्य

1 . शरीर को उर्जा प्रदान करना

शरीर को उर्जा प्रदान करने एवं शरीर की समस्त गतिविधियों के सञ्चालन के लिए कार्बोहाइड्रेट्स अत्यंत आवश्यक है | विभिन्न शारीरिक गतिविधियों जैसे – चलना , फिरना , दौड़ना ,उठना, बैठना और सोना आदि कामो के लिए हमें उर्जा की आवश्यकता होती है | यह उर्जा हमें कार्बोज के द्वारा ही प्राप्त होती है | 1 ग्राम कार्बोज शरीर में प्रज्ज्वलित होकर 4.2 कैलोरी उर्जा प्रदान करती है | जब हमें भोजन ग्रहण करते है तो पाचन क्रिया के उपरांत स्टार्च ग्लूकोज में टूट जाता है | ये ग्लूकोज रक्तवाहिनियों द्वारा अवशोषित कर लिए जाते है |

2 .  प्रोटीन की बचत 

प्रोटीन का मुख्य काम शरीर की समस्त कोशिकाओं, उतकों, रक्त, मांसपेशियों, बाल, त्वचा आदि का निर्माण करना तथा टूटे-फूटे क्षतिग्रष्ट कोशिकाओं की मरम्मत करना है |प्रोटीन  शरीर की वर्द्धि और विकास के लिए अत्यंत आवश्यक है | परन्तु प्रोटीन कार्बोज एवं वसा की अनुपस्थिति में गौण हो जाता है | प्रोटीन मंहगे खाद्य पदार्थो में ही अधिकतर पाए जाते है | अत: प्रोटीन से उर्जा प्राप्त करना कोई बुद्धिमानी नहीं है | इसलिए आहार में प्रयाप्त मात्रा में कर्बोजयुक्त आहार लेना चाहिए ताकि शरीर की मांग के अनुसार कैलोरी मिलती रहे |

3 . विटामिन “B” समुह्ह के संश्लेषण में कार्बोहाइड्रेट्स का उपयोग 

लैक्टोज ( दुग्ध शर्करा ) विटामिन ‘B’ समूह के संश्लेषण के लिए आवश्यक होती है मनुष्य के छोटी आंत में कुछ एसे जीवाणु उपस्थित होते हैं जो विटामिन – ‘B’ समूह के संश्लेष्ण में सहायक होते है | इन जीवाणुओंके जीवित रहने तथा वर्द्धि – विकास करने के लिए उर्जा की आवश्यकता होती है | इन्हें यह उर्जा लैक्टोज से प्राप्त होती है और लैक्टोज डाईसैक्राइड कार्बोज ही होता है | लैक्टोज की घुलनशीलता अन्य शर्कराओ की अपेक्षा कम होती है | इसलिए यह देर तक आंतो में उपस्थित रहता है तथा इस इस अवधि में विटामिन बी समूह के संश्लेषण में सहायता पंहुचाने वाले जीवाणुओं की भरण – पोषण एवं वर्द्धि करता है | इस तरह कार्बोज अप्रत्यक्ष रूप से विटामिन ‘बी’ समूह के संश्लेषक में महत्वपूरण भूमिका अदा करता है |

4 . कैल्शियम का अवशोषण करता है कार्बोहायड्रेट ( Carbohydrates works in Absorption of Calcium )

कैल्शियम के अवशोषण तथा उपयोगिता बढ़ाने के लिए लैक्टोज की आवश्यकता पड़ती है | लैक्टोज शर्करा केवल दूध में ही पाया जाता है एवं दूध में ही कैल्शियम की भी भरपूर मात्रा होती है | कैल्शियम की अवशोषण क्षमता को बढ़ाने के लिए लैक्टोज आवश्यक होता है

5 . पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में कारगर 

कार्बोहायड्रेट पाचन तंत्र को दुर्रस्त रखने में भी उपयोगी सिद्ध होता है | आहार में कार्बोज की उपस्थिति  आंतो की क्रमाकुंचन गति ( Peristaltic Movement ) को बढाता है एवं भोजन को आगे की और सरकता है | इस प्रकार जो भोज्य पदार्थ ( जैसे – मैदा के कण  , चावल के कण आदि ) आंतो से चिपक जाते है वे भी आंतो से छूटकर इनके साथ मिलजाते है और मल के निर्माण में सहायक होते है | रफेज में जल अवशोषित करने की विलक्षण क्षमता होती है | इस कारण यह मल की परिणाम को बढाता है | रफेज की उपस्थित के कारण मलाशय से मल सरलतापूर्वक सुगमता से बहार निकल जाता है | यह कब्ज से बचाता है | कब्ज से बचने के लिय आहार में प्रयाप्त मात्रा में रफेज होनी चाहिए |

6 . विषाक्त पदार्थो को हानिरहित बनाना 

कार्बोज कुछ विषाक्त पदार्थो को बिलकुल हानिरहित बना देता है | उदहारण के लिए पाचन क्रिया के दौरान ग्लैकुरोनिक अम्ल उत्पन्न होता है | यह अम्ल विषाक्त होता है | इस अम्ल को कार्बोज फिनोलिक हाइड्रोक्सिल समूह के साथ मिला देता है जिससे ग्लैकरुनिक अम्ल का विषैला प्रभाव नष्ट हो जाता है | यदि यह प्रतिक्रिया नहीं हो पाती है तो शरीर में यौन हार्मोन का अत्यधिक मात्रा में स्राव होने लगता है |

7 . यकृत को स्वस्थ रखने में  कार्बोज उपयोगी है 

यकृत को स्वस्थ बनाये रखने में कार्बोज की अहम् भूमिका होती है | यकृत विषैले तथा हानिकारक जीवाणुओं का नाश ग्लैकोजन की उपस्थिति में ही करता है | यदि यकृत में ग्लैकोजन की भरपूर मात्रा नहीं होती है तो विषैले पदार्थ, हानिकारक जीवाणु आदि जैविक अंगो के मुख्य तंतुओ तक पंहुचकर उन्हें क्षतिग्रष्ट कर सकते है | फलत: व्यक्ति रोगी हो सकता है | इसलिय यकृत में उच्च ग्लैकोजन स्तर को  बनाये रखना अत्यंत आवश्यक है |

credit – Dr Vrinda Singh 

 

 

Content Protection by DMCA.com
Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Shopping cart

0

No products in the cart.

+918000733602

असली आयुर्वेद की जानकारियां पायें घर बैठे सीधे अपने मोबाइल में ! अभी Sign Up करें

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

स्वदेशी उपचार will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.