charm rog, desi nuskhe, udar rog, जड़ी - बूटियां

अजवाइन के फायदे और घरेलु नुस्खे – नोट करले !

अजवाइन

अजवाइन

भारतीय रसोई में प्रमुखता से उपयोग होने वाला एक बेहतरीन मसाला है | यह मसाला औषधीय गुणों की खान है | आयुर्वेद और घरेलु चिकित्सा पद्धति में उदर रोग , आफरे और गुल्म जैसे रोगों में इसका प्रयोग प्रमुखता से किया जाता है | हमारे भारत में अजवाइन की खेती प्राय: सभी प्रान्तों में की जाती है | अजवायन का क्षुप 1 से 3 फीट तक ऊँचा होता है | इसके क्षुप की आकृति धनिये के क्षुप में मिलती है | इसके पते भी धनिये के पते की तरह कटे – फटे और डालियों पर दूर दूर लगते है |

अजवाइन के पुष्प आकृति में छोटे होते है एवं इनका रंग सफ़ेद होता है जो क्षुप पर छत्र की तरह लगते है | सौंफ और अजवायन के पुष्पों में कोई अधिक भिन्नता नहीं होती | इसके फल छोटे – छोटे सुगन्धित और परिखाओं वाले होते है | फल की आकृति कुछ – कुछ जीरे में मिलती है लेकिन ये जीरे के फल से काफी छोटे होते है |

अजवाइन

अजवाइन

फल में एक तेज सुगन्धित उड़नशील तेल पाया जाता है इसके अलावा साईंमोन टेपरन नामक तत्व भी होता है |\

अजवाइन के गुण धर्म और रोग प्रभाव

अजवाइन का रस कटु और तिक्त होता है | गुणों में यह  लघु ,  तीक्षण , रुचिकारक , दीपन, उष्ण और अनुलोमन होती है  | इसका  वीर्य उष्ण होता है एवं पचने पर इसका विपाक कटु होता है | अजवायन वात एवं कफ शामक गुणों से युक्त होती है | दीपन और रुचिकारक होने के कारण यह उदर रोग , अनाह , गुल्म आदि रोगों में लाभदायक होती है | इसके अलावा यह प्लीहा , उदरशूल, कृमिनाशक और उत्तम  गर्भाशय शोधक होती है |

सेवन मात्रा , प्रयोज्य अंग और विशिष्ट योग

अजवाइन के फलों  को 500 mg से 1 ग्राम तक की मात्रा में सेवन किया जा सकता है | आयुर्वेद में इसके उपयोग से अजमोदादी चूर्ण , अर्क अजवायन और कर्पुर धारा आदि योग बनाये जाते है |

अजवाइन के पर्याय

भाषापर्याय
संस्कृतयवानी , दीपक और उग्रगंधा आदि |
हिंदीअजवाईन , आजमायन और अजवा आदि |
गुजरातीअजमोद |
मराठीआंवा
बंगालीअजोवान
लेटिनCarum copticum

विभिन्न रोगों में अजवाइन के फायदे और घरेलू नुस्खे

 

जोड़ो एक दर्द में अजवाइन के फायदे

जोड़ो के दर्द में अजवायन का उपयोग काफी फायदा देता है | जोड़ो में दर्द होने पर दो गिलास पानी में दो चम्मच अजवायन और दो चम्मच नमक डालकर  उबाले | जब पानी आधा रह जाए तब इसे निचे उतार कर सहन करने योग्य गरम रहते – रहते प्रभावित अंग का सेक करे | जल्द ही फायदा होगा |

मिर्गी रोग में घरेलु नुस्खे

20 ग्राम अजवाइन , 10 ग्राम कपूर  , 3 ग्राम सुहागा मिलाकर पीसले | इसे शीशी में भर ले | चौथाई चम्मच नित्य सुबह और शाम ठन्डे पानी के साथ फंकी ले | मिर्गी का दौरा पड़ना बंद हो जाएगा | इस प्रयोग को लम्बे समय तक करे |

भूख न लगने पर अजवाइन का उपयोग

अजवायन में दीपन और पाचन के गुण प्रचुर मात्रा में होते है | इसलिए इसके इस्तेमाल से अजीर्ण , अपच और उदर शूल में काफी लाभ मिलता है | जब आपको भूख  कम लगती हो तो एक चम्मच पीसी हुई अजवायन की फंकी गरम पानी के साथ लगातार 2 दिन ले | जल्द ही भूख न लगने की समस्या से छुटकारा मिलेगा |

गैस  में अजवाइन के फायदे

पेट में गैस के कारण समस्या रहती होतो थोड़ी सी अजवाइन को पानी में पीसकर इसका लेप पेट पर करने से फायदा पंहुचता है | पीसी हुई अजवायन के साथ बराबर मात्रा (आधा चम्मच) में काला नमक और अदरक का रस मिलाकर एक गिलास गरम पानी के साथ लेने से तुरंत गैस की समस्या जाती रहती है |

पेट दर्द होने पर करे अजवायन के ये घरेलु प्रयोग

उदर में दर्द होने पर एक भाग सेंधा नमक , एक भाग कालीमिर्च , दो भाग अजवायन – इन तीनो को पीसले | इस चूर्ण की आधा चम्मच की मात्रा में फंकी गरम पानी के साथ लेने से जल्द ही पेट दर्द में आराम मिलता है | अगर आपका पेट पाचन सम्बन्धी गड़बड़ी के कारण दर्द हो रहा है तो इससे अच्छी कोई औषधि नहीं है | पाचन की समस्या में यह नुस्खा रामबाण सिद्ध होता है |

कान दर्द

अगर कान दर्द है तो एक चम्मच अजवायन को दो चम्मच तील के तेल में डालकर उबाल ले | गुनगुना रहने पर इसे छानकर कान में डालने से जल्द ही कान का दर्द खत्म हो जाता है | अगर कान में कोई फुंसी हो गई है तब भी यह नुस्खा बहुत कारगर है |

खांसी होने पर अजवाइन का नुस्खा

अगर खांसी की समस्या अधिक है और रुक नहीं रही तो 15 ग्राम अजवायन और 5 ग्राम सेंधा नमक को पीसकर चूर्ण बनाले | इस चूर्ण को 50 ग्राम शहद के साथ चाटें | जल्द ही खांसी की समस्या ख़त्म हो जाएगी |

मुंहासे होने पर करे इस प्रकार प्रयोग

मुंहासो की समस्या से आजकल ज्यादातर किशोर और युवक , युवतियां परेशान रहते है | अगर आपका चेहरा भी मुंहासो के कारण बेरंग हो गया है तो अजवाइन का इस्तेमाल करे , अच्छे परिणाम मिलेंगे | 50 ग्राम अजवायन को पीसले | इसमें से 4 चम्मच चूर्ण को 3 चम्मच दही में एक घंटे के लिए भिगो दे | एक घंटे के बाद इस मिश्रण का चेहरे पर लेप करले और लगभग 2 घंटे तक लगे रहने दे | 2 घंटे पश्चात गर्म पानी से चेहरे को धोएं | मुंहासो की समस्या जल्दी ही खत्म हो  जाएगी |

 

धन्यवाद |

Avatar

About स्वदेशी उपचार

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.