सौंफ के फायदे – गर्मियों में कीजिये सौंफ का उपयोग और रहे स्वस्थ


सौंफ / Fennel 

सौंफ के फायदे

सौंफ से हर कोई परिचित है , इसका उपयोग सभी घरो में औषधीय एवं मसाले के रूप में किया जाता है | भारत में सर्वत्र इसकी खेती की जाती है | सौंफ का क्षुप 5 से 6 फीट लम्बा एवं अत्यंत सुगन्धित होता है | इसके खेत के पास से गुजरने पर भी आपको इसकी सुगंध से पता चल जाता है की यह सौंफ की खेती है | सौंफ के पत्र छोटे और पतले पक्षवत होते है जो जगह जगह से विभक्त एवं रेखाकार होते है | इसके पुष्प छोटे पितव्रण के और गुच्छों में लगते है , फल पीताभ हरे या भूरे रंग के 6 – 7 mm लम्बे सीधे या मुड़े हुए होते है |

सौंफ के पुष्प
सौंफ के फुल

सौंफ का रासायनिक संगठन 
सौंफ के बीजो में एनिथोल नामक सुगन्धित तत्व पाया जाता है , इसके आलावा प्रोटीन , दाय्तरी फाइबर , विटामिन बी, विटामिन सी, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम आदि तत्व रहते है | इसके बीजो में 52% कार्बोह्य्द्रेड, 40% फाइबर, 15% फैट , 16% प्रोटीन और 9% जलियांश रहता है |
सौंफ के गुण-धर्म और रोगप्रभाव
सौंफ का रस मधुर और कटु एवं  गुण – लघु और स्निग्ध | यह शीत वीर्य और विपाक मधुर होता है | मधुर और स्निग्ध होने से यह पितशामक है | इसके आलावा मेध्य ( स्मरण शक्ति को बढ़ाने वाली ) , द्रष्टि वर्धक, तृष्णा हर, अनुलोमन, दीपन पाचन, कफशामक, ज्वरघ्न,मूत्रल एवं योनी शरल हर है |
सौंफ के प्रयोज्य अंग और सेवन विधि 
इसके बीज, तेल और जड़ औषध उपयोगी है | सेवन की मात्रा में बीज का सेवन 3 से 6 ग्राम, तेल का उपयोग 5 से 10 बूंद एवं अर्क का उपयोग 20 से 40 ml करना चाहिए |

सौंफ के फायदे एवं स्वास्थ्य प्रयोग 

➽ पित्त की अधिकता होने पर या शरीर में गरमी होने पर 10 ग्राम सौंफ को रात में एक मिटटी के बर्तन में भिगों दे , सुबह इस पानी में से सौंफ निकल कर सिलबट्टे पर पीस ले एवं भिगोये गए पानी के साथ मिश्री और पीसी हुई सौंफ को मिला कर पानी को पीजावे | इससे आपके शरीर में पित्त भी संतुलित होगा एवं त्वचा में निखार के साथ साथ आंखे भी तेज होंगी |
➽ अगर कब्ज की समस्या होतो सौंफ और मिश्री का चूर्ण बना ले | नित्य रात में सोते समय इस चूर्ण को 5 ग्राम की मात्रा में गुनगुने पानी के साथ सेवन करे जल्द ही कब्ज से छुटकारा मिलेगा |
➽ सौंफ के नित्य  5 ग्राम चूर्ण का इस्तेमाल मिश्री और दूध के साथ सोते समय करने से आँखों की रोशनी बढती है |
➽ मुंह में दुर्गन्ध आती हो तो सौंफ का इस्तेमाल करे |
➽ मरोड़ – आंव या दस्तों में 20 ग्राम सौंफ को तवे पर भुन ले | अब इसमें 20 ग्राम बिना बुनी सौंफ और 40 ग्राम मिश्री मिलाकर सेवन करे | इससे आंव और मरोड़ की परेशानी नहीं होगी एवं दस्त भी रुकेंगे | 
➽ गले में खराश या गला बैठा हुआ हो तो 5 ग्राम सौंफ को यूँही चबा ले | गले की खराश और बैठे हुए गले में तुरंत आराम मिलेगा |
➽ नियमित सौंफ का सेवन आपको याददास्त को बढ़ता है |
➽ बच्चों में उलटी या अपच की शिकायत हो तो दो चम्मच सौंफ का चूर्ण बना ले और इस चूर्ण को एक कप पानी में उबाल कर काढ़ा बना ले | इस काढ़े की एक चम्मच बचे को पिलाने से उसके पेट की सभी समस्याओ में राहत मिलती है 
➽ सौंफ अच्छी रक्तशोधक होती है , इसका नियमित सेवन करने से रक्त की शुद्धि होती है जिसकारण यह त्वचा में भी निखार लाती है |
➽ सुखी खांसी होने पर सौंफ को भुन कर इसमें मिश्री मिलाकर सेवन करने से खांसी जल्दी ही ठीक हो जाती है |
➽ 5 ग्राम सौंफ को एक गिलास पानी में उबाल कर इसका काढ़ा बना ले और नित्य सेवन करने से आँतों की सफाई होती है |
➽ स्मरण शक्ति को बढ़ाने के लिए सौंफ , बादाम और मिश्री सामान मात्रा में लेकर इनका चूर्ण बना ले और नित्य दूध के साथ सेवन करे | आपकी स्मरण शक्ति तेज होगी |
➽ अनियमित मासिक धर्म में महिलाओं को सौंफ के साथ सामान मात्रा में गुड़ मिलाकर सेवन करना चाहिए |
स्वास्थ्य से जुडी अन्य जानकारी पाने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज से भी जुड़ सकते है जिसका विजेट बॉक्स आपको यंही पोस्ट के निचे स्क्रोल करने से दिख जावेगा |

धन्यवाद |

Related Post

लौंग / लवंग – लौंग के फायदे और देसी नुस्खे... लौंग / लवंग / Clove / Caryophyllus aromaticus : परिचय  लौंग भारतीय रसोई घर का एक अभिन्न मसाला जिसे कौन नहीं जनता ? भारत में सभी घरो मे...
बच्चो में टीकाकरण की तालिका – Child immuniza... बच्चो में टीकाकरण की तालिका - Child immunization chart in Hindi बच्चों को खतरनाक रोगों से होने वाले जीवन जोखिम से बचाने के लिए इम्यूनाइजेशन बहुत जरुर...
चमत्कार से कम नहीं है – मकड़ी का जाला... मकड़ी के जले से निमोनिया का उपचार  आम घर की समस्या है कि उसमें मकड़ी अपना जाला डाल लेती है। लेकिन कभी आपने सोचा है कि ये मकड़ी का जाला भी हमारे बच्चों क...
आंवला – एक अमृतफल , आयुर्वेद का रसायन |... आंवला - एक अमृत फल आंवला को धात्री फल भी कहते है | यह बहुत ही पोष्टिक और गुणकारी है आयुर्वेदिक चिकित्सा में इसे ज्यादातर रोगों में काम में लिया जाता ...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.