💪 नसों की कमजोरी कैसे दूर करें? – जानें 5 प्रमाणित आयुर्वेदिक नुस्खे

नसों की कमजोरी कैसे दूर करें – काफी लोग नसों की कमजोरी से पीड़ित हमें मेसेज करते हैं कि नसों की कमजोरी दूर करने वाले कुछ प्रमाणित नुस्खे या आयुर्वेदिक उपाय हमें बताएं ताकि हम घर पर ही आहार एवं विहार को अपनाकर अपनी नसों को मजबूत कर सकें । तो चलिए आज के इस लेख में हम आपको नसों की कमजोरी को दूर करने के लिए आयुर्वेद के 5 प्रमाणिक उपायों से अवगत करवाते हैं । इन नुस्खों को अपनाकर आप आसानी से अपनी कमजोर नसों को मजबूती दे सकते हैं ।

परन्तु इन नुस्खों को जानने से पहले आपको जान लेना चाहिए कि आखिर नसें कमजोर क्यों हो जाती हैं । क्या कारण है जो नसों को कमजोर करते हैं एवं नसें कमजोर होने से आपको किस प्रकार की पीड़ा का सामना करना पड़ सकता है ।

नसों की कमजोरी से क्या तात्पर्य है ?

नसों की कमजोरी से तात्पर्य है कि आपके शरीर के किसी हिस्से के तंत्रिका तंत्र का प्रभावित होना । मेडिकल भाषा में इसे न्यूरोपैथी कहा जाता है । जब यह विकार होता है तो यह आपके शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित करता है और वहां की नसों को कमजोर बना देता है । कमजोर नसें शरीर में पीड़ा उत्पन्न करती हैं । अगर आप लम्बे समय से नसों की कमजोरी से ग्रसित है तो आपको यह समस्या स्थाई भी हो सकती है । इसके लिए सबसे अच्छा यह है की आप आयुर्वेद के उपायों को अपनाकर नसों की कमजोरी को घरेलु तौर पर ठीक करने की कोशिश करें । अगर इससे भी आराम न मिले तो फिर आपको नजदीकी चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए ।

नसों की कमजोरी कैसे दूर करें

चलिए अब जानते हैं नसों की कमजोरी के लक्षण और कारण आदि के बारे में –

नसें कमजोर होने के कारण (Causes of Nerve Weakness)

नसें कमजोर होने के निम्न कारण जिम्मेदार हो सकते हैं –

  1. डायबिटीज न्युरोपथी के कारण नसें कमजोर हो सकती हैं ।
  2. मष्तिष्क तक संकेत भेजने वाली नसों की बीमारियाँ जिसे मोटर न्यूरोन बीमारी कहते है के कारण नसें कमजोर हो जाती है ।
  3. मल्टीप्ल स्क्लेरोसिस, लुपस, आईबीडी जैसी स्वप्रतिरक्षी बीमारी के कारण
  4. शरीर में पोषक तत्वों की कमी के कारण
  5. हड्डी के बढ़ने के कारण होने वाले दबाव से नस कमजोर हो जाती है
  6. अनुवांशिक कारण
  7. नसों को प्रभावित करने वाले दवाओं का अधिक सेवन
  8. कोई आघात या चोट के कारण
  9. अस्वस्थ आहार एवं विहार
  10. अधिक तनाव एवं उम्र
  11. नसों को स्वस्थ रखने वाले विटामिन्स और मिनरल्स की शरीर में कमी

नसों के कमजोर होने के लक्षण (Symptoms of Nerve Weakness)

अगर आपकी नसें कमजोर हैं तो आपको निम्न लक्षण प्रकट होंगे –

  • प्रभावित स्थान पर चुभन और पीड़ा का अनुभव होगा
  • दर्द
  • रोगप्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाएगी
  • सूंघने, देखने या सुनने की क्षमता में गिरावट महसूस होगी
  • चिंता
  • व्यव्हार में भी परिवर्तन देखने को मिलता है
  • जल्दी थकान एवं मांसपेशियां कमजोर महसूस होंगी
  • झटके लगना जैसी समस्या महसूस होगी

अब ये उपरोक्त कारण एवं लक्षण आपने पढ़े और इन्हें समझा, चलिए अब जानते हैं की नसों की कमजोरी कैसे दूर करें और इसके लिए आहार – विहार, कमजोरी दूर करने ने आने वाली जटिलताएं आदि के बारे में

नसों की कमजोरी को दूर करने के लिए अपनाएं ये 5 आयुर्वेदिक उपाय

आयुर्वेद शरीर के हर एक पहलु पर काम करता है । अगर आप नसों की कमजोरी कैसे दूर करें के बारे जानना चाहते हैं तो आयुर्वेद में इसके लिए भी बहुत से उपचार एवं दवाएं उपलब्ध है । जिनको आप अपने नजदीकी आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श लेकर सेवन कर सकते हैं । परन्तु यहाँ हम नसों की कमजोरी कैसे दूर करें (Naso ki Kamjori kaise dur karen) के लिए 5 प्रमुख आयुर्वेदिक आसान उपाय आपको समझा रहें हैं जिनको आजमाकर आप आसानी से नसों की कमजोरी को दूर कर सकते हैं ।

1. पुदीने या सरसों के तेल से आयुर्वेदिक मसाज

आयुर्वेद में मसाज एक चिकित्सा का प्रकार है । विभिन्न रोगों के उपचार में आयुर्वेदिक मसाज जिसे अभ्यंग भी कहते हैं को पूर्व कर्म के रूप में इस्तेमाल किया जाता है । अगर आपकी नशें कमजोर हैं तो आप पुदीने या सरसों का तेल ले लीजिये और इसे थोडा गरम कर लीजिये ।

इस तेल को प्रभावित स्थान पर लगा कर हल्के हाथों से 15 से 20 मिनट मसाज करें । अगर आप स्वयं करने में असमर्थ हैं तो किसी निपुण व्यक्ति से भी यह करवा सकते हैं । सरसों और पोदीने का तेल नसों को मजबूती देता है । अगर नियमित 10 से 15 दिन इस तेल से मालिस की जाये तो नसों की कमजोरी दूर होकर नशें मजबूत बनती हैं ।

2. संतुलित आहार नसों की कमजोरी को दूर करने के लिए

संतुलित आहार किसी भी रोग को ठीक करने के लिए दवा से अधिक जरुरी समझा जाता है । नसों को मजबूत करने के लिए आहार में विटामिन सी, मिनरल्स, प्रोटीन आदि को भरपूर मात्रा में लिया जाना चाहिए । इसके लिए आपको संतरा, पाइनएप्पल, किन्नू, मौसमी और foods में ओटमिल, ब्रोकली, गोभी, एवाकाडो, दालें, दूध एवं दही आदि को भरपूर एवं संतुलित मात्रा में सेवन करना चाहिए ।

3. सेंधा नमक के पानी से सेक करें

नसों की कमजोरी कैसे दूर करें के लिए आपको सेंधा नमक का सहारा भी लेना चाहिए । क्योंकि सेंधा नमक के पानी का सेक इसमें बहुत अधिक फायदेमंद माना जाता है । प्रभावित स्थान को सेंकने के लिए थोड़ी मात्रा में सेंधा नमक लेकर इसे पानी में डालकर का मिला लीजिये । इस पानी को हलकी आंच पर हल्का गरम करके प्रभावित स्थान पर सेंक करें । इस प्रकार करने से नसें मजबूत होने लगती हैं ।

दूसरा सेंधा नमक की पोटली बना कर इसे तवे पर गरम करके भी आप सेक कर सकते हैं । इसके लिए सेंधा नमक को पीसकर लीजिये । अब इसे एक सूती वस्त्र में भरकर ऊपर से बंद कर लीजिये और इसकी पोटली बना लीजिये । इसे तवे पर रखकर हल्का गरम करें और प्रभावित स्थान का सेक करें । इस प्रकार करने से भी नसों की कमजोरी दूर होती है ।

4. आयुर्वेदिक चूर्ण का सेवन करके बनाये नसें मजबूत

अश्वगंधा, शतावरी, बहीपत्र एवं बेर की गुठली – इन सभी का महीन चूर्ण बना लें । मात्रा के रूप में सभी को समान मात्रा में लेना है । जैसे अगर अश्वगंधा 50 ग्राम ले रहें है तो बाकि सभी जड़ी – बूटियां शतावरी, बहीपत्र और बेर की गुठली ये सभी भी 50 – 50 ग्राम ही लेनी हैं । इनका महीन चूर्ण बनाकर इस चूर्ण को नित्य 3 से 5 ग्राम की मात्रा में सुबह – शाम दूध के साथ 15 से 20 दिन सेवन करें । इस प्रकार इस चूर्ण का सेवन करने से आपकी कमजोर नसें मजबूत हो जाएँगी ।

यह नुस्खा आसानी से नसों की मजबूती करता हैं । क्योंकि इसमें अश्वगंधा, शतावरी जैसी जड़ी बूटियां है जो तनाव को दूर करके नसों को प्राकृतिक रूप से मजबूती प्रदान करती हैं ।

5. मक्खन, मिश्री, किशमिस और गाय का दूध

नसों की कमजोरी दूर करने के लिए इन चारों चीजों को आप एक साथ सेवन कर सकते हैं । गाय का दूध नित्य सेवन करें और इसमें मक्खन और मिश्री मिलाकर सेवन करें साथ में किशमिश का सेवन भी करें । इनका सेवन करने से निश्चित ही नसें मजबूत होती हैं । गाय के दूध में कैल्शियम और अन्य खनिज पदार्थ विद्यमान होते हैं साथ ही किशमिश और मक्खन भी इसमें अच्छा परिणाम दिखाते हैं । इन सभी को नित्य सेवन करने से कमजोर नसें मजबूत होने लगती हैं ।

नसों की कमजोरी को दूर करने के लिए अन्य इलाज

ये उपरोक्त नसों की कमजोरी कैसे दूर करें के लिए आसान घरेलु आयुर्वेदिक उपचार हैं जिन्हें आप आसानी से अपना सकते हैं और इनके सेवन से आपको किसी भी प्रकार की हानी नहीं होती । इसके अलावा नसों की कमजोरी दूर करने के लिए निम्न उपचार उपलब्ध हैं जिनके द्वारा नसों की कमजोरी को दूर किया जाता है ।

  • अगर नसें मधुमेह के कारण कमजोर हैं तो आपको अपने दैनिक दिनचर्या और आहार में परिवर्तन करना चाहिए । शुगर को कण्ट्रोल करके रखें । नित्य व्यायाम करें और शराब आदि का त्याग करें ।
  • अगर आप लम्बे समय से किसी ड्रग का सेवन कर रहें और उसके कारण नसें कमजोर है तो उसका त्याग करें और उसकी जगह अन्य प्राकृतिक औषधि का उपयोग करें ।
  • विटामिन बी 12 की कमी के कारण भी नसें कमजोर हो जाती हैं इसलिए विटामिन बी 12 से युक्त आहार का सेवन करें या विटामिन बी 12 युक्त औषधियों का सेवन चिकित्सक के बताये अनुसार करें ।
  • अक्युपन्चर के द्वारा उपचार लेकर भी आप आसनी से नसों की कमजोरी को दूर कर सकते हैं ।
  • नियमित ध्यान योग एवं व्यायाम के द्वारा भी अपनी कमजोर नसों को मजबूत बना सकते हैं ।
  • फिजियोथेरेपी के द्वारा भी कमजोर नसों का उपचार किया जाता है । इसके लिए आपको नजदीकी फिजियोथेरेपिस्ट से उपचार लेना चाहिए ।
  • नसों की कमजोर में आपको साबुत अनाज, दूध, ब्रेड, सब्जियां, अंडा आदि का सेवन फायदेमंद होता है । इसलिए इनका सेवन करना चाहिए ।

धन्यवाद |

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *