कामोत्तेजना बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय एवं दवाएं [2021 अनुसार]

लिंग में कम उत्तेजना होना या काम्मोतेजना का कम होना आज के समय की एक आम समस्या हो गई है | 40 की उम्र के ऊपर अधिकतर लोगों को काम्मोत्तेजना बढ़ाने के उपाय खोजते हुए देखा गया है | आखिर क्या कारण है कि व्यक्ति काम्मोतेजना की कमी महसूस करता है |

यह समस्या अनुचित आहार – विहार, गलत आचरण, दिन भर की भागदौड भरी जिंदगी एवं शारीरिक श्रम की कमी के कारण अधिक पनपती है |

इस आर्टिकल में हम काम्मोतेजना बढाने के उपाय में घरेलु औषध योग, दवा एवं नुस्खों के बारे में आपको बताएँगे | तो चलिए सबसे पहले जानते है काम्मोतेजना बढाने के उपाय

काम्मोतेजना के लिए निम्न औषध उपाय का करें प्रयोग

यहाँ वर्णित औषध योग का प्रयोग आयुर्वेदिक वैद्य के दिशा निर्देशों में किया जाना चाहिए | निर्माण की द्रष्टि से ये योग आसान है लेकिन फिर भी वैद्य सलाह सर्वोपरि है |

काम्मोतेजना वर्द्धक पोटली : इसे बनाने के लिए सुखा केंचुआ, बिर्बहुती, अकरकरा, जायफल, लौंग, बुरादेदानकिल (एक हिकमत दवा) और जावित्री – ये सभी चीजें 10 – 10 ग्राम प्रत्येक लेकर केशर 1 ग्राम एवं काले तिलों का तेल 60 ml लें | इन सभी जड़ी – बूटियों को पीसकर इस तेल में डालदें | रोज रात को कपडे की पोटली बनाकर इस औषधीय तेल लगाकर गरम करें और मालिश करें |

सभी प्रकार की काम्मोतेजना की कमी एवं नपुंसकता में अच्छे परिणाम मिलते है |

उत्तेजना बढाने वाला चूर्ण : गिलोय सत्व, कालीमुसली एवं मिश्री इन तीनो को लेकर मिश्री को 4 गुणा लें | तीनो को खरल में डालकर अच्छी तरह घोंटे | बिलकुल बारीक़ चूर्ण बनने पर कपडे से छानकर सहेज कर रखें | इसके सेवन लिंग में कम्मोतेजना की कमी, शीघ्रपतन एवं स्वप्नदोष जैसी समस्याओं से मुक्ति मिलती है |

वीर्य पुष्ट चूर्ण से बढ़ाये काम्मोतेजना : सबसे पहले गिलोय, शतावरी, अश्वगंधा, तालमुली और विदारीकन्द इन सभी को 50 – 50 ग्राम ले | अब घी 100 ग्राम एवं शक्कर 1 किलों | अब गिलोय से लेकर विदारीकन्द तक सभी जड़ी-बूटियों का महीन चूर्ण बना लें |

एक कडाही में घी गर्म करके मंद आंच पर इस चूर्ण को सेंक ले | अब थोड़े जल में शक्कर को डालकर घोलकर छान लें | इसकी एक तार की चासनी बनाकर घी में भुनी हुई सभी जड़ी – बूटियों को डालकर ठंडा होने दें | इस पाक के सेवन से वीर्य पुष्ट होता है | वीर्य के पतलेपन से मुक्ति मिलती है एवं स्थिल पड़े लिंग में जान आती है |

काम्मोतेजना बढाने के उपाय में अपनाएं ये आयुर्वेदिक दवाएं

ऊपर बताये गए उपाय भले ही कारगर है लेकिन वर्तमान में समय की कमी एवं अन्य असमर्थता के कारण इनका निर्माण करना मुस्किल लगता है | इसलिए हमने यहाँ पर काम्मोतेजना बढाने वाली कुच्छ प्रशिद्ध आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में बताया जो पूर्णत: सेफ है एवं इनका सेवन करने पर काम्मोतेजना में कमी की समस्या से मुक्ति मिलती है |

काम्मोतेजना बढाने के उपाय के लिए यहाँ पर बताई गई दवाएं कारगर एवं रिजल्ट पर आधारित है | सभी दवाओं के अलग – अलग गुण है एवं अलग – अलग आयुर्वेदिक कंपनियों द्वारा निर्मित की जाती है | देखें दवाओं की सूचि

1. अमृतम बी – फेरल गोल्ड माल्ट एवं कैप्सूल

काम्मोतेजना बढाने के लिए यह आयुर्वेदिक दवा विश्वनीय है | इसमें शिलाजीत, वंग भस्म, स्वर्ण भस्म, अश्वगंधा, कौंच आदि जड़ी – बूटियों का समावेश है | नियमित सेवन से वीर्य को पुष्ट करती है एवं लिंग की नशों में उत्तेजना पैदा करती है | दवा का सेवन 1-1 कैप्सूल एवं एक चम्मच की मात्रा में किया जाना चाहिए |

काम्मोतेजना बढाने के उपाय

मात्रा – 400 ग्राम / 30 कैप्सूल

मूल्य – Rs 3000

2. कामसुधा योग – एक्सट्रेक्ट बेस्ड असली वाजीकरण दवा

सुपचार हेर्बल्स कंपनी की यह शुद्ध आयुर्वेदिक दवा कामेच्छा की कमी, सहवास में समय की कमी एवं धातु रोग आदि समस्याओं के लिए अमृत समान उपयोगी साबित होती है | दवा में कुल 21 वाजीकरण जड़ी-बूटियों के एक्सट्रेक्ट का समावेश किया गया है जो इसे अधिक प्रभावी बनाते है | अपने समकक्ष दवाओं में यह सबसे विश्वनीय फार्मूला है |

कामसुधा योग का सेवन 1 – 1 कैप्सूल की मात्रा में सुबह – शाम दूध के साथ किया जाना चाहिए | इस आयुर्वेदिक रसायन के कोई साइड इफेक्ट्स नहीं एवं रिजल्ट में सबसे अव्वल है |

क्लिक इमेज फॉर मोर डिटेल्स

मात्रा – एक्सट्रेक्ट बेस्ड 60 कैप्सूल

मूल्य – Rs 1499

3. अजाक्स कैप्सूल – केरला आयुर्वेद

केरला आयुर्वेद कंपनी की यह दवा भी काम्मोतेजना बढ़ाने की दवाओं में सम्मिलित है | इसमें कौंच, अश्वगंधा, शतावरी, गोखरू एवं तालमूली जैसी आयुर्वेदिक जड़ी – बूटियां जो इसे यौन विकारों में उपयोगी बनाती है |

मात्रा – 50 कैप्सूल (पाउडर बेस्ड)

मूल्य – Rs 1050

4. कोट्टकल स्पेर्मकोट ग्रानुलेस फॉर काम्मोतेजना बढाने के उपाय

यह काम्मोतेजना वर्द्धक आयुर्वेदिक दवा ग्रेनुल्स में आती है | आर्य वैद्य साला कोट्टकल द्वारा इसका निर्माण किया जाता है | यौन कमजोरियों के लिए यह बेहतरीन आयुर्वेदिक औषधि है | इसका प्रयोग टाइमिंग बढ़ाने के उपाय के रूप में कर सकते है |

मात्रा – 150 ग्राम

मूल्य – 290 रूपए

5. डॉ वैद्य हेर्बो 24 टर्बो कैप्सूल

डॉ वैद्य फार्मेसी की यह दवा यौन कमजोरियों में सेवन की जा सकती है | यह काम्मोतेजना बढाने के उपाय के रूप में, शीघ्रपतन एवं धातु आदि समस्याओं में प्रयोग की जाती है | दवा कैप्सूल फॉर्म में आती है एवं मूल्य लगभग 750 रूपए है |

मात्रा – 30 कैप्सूल

मूल्य – Rs 750

ध्यान दें : यहाँ पर बताई गई दवाओं के रिजल्ट एवं उपयोगिता पूर्णत: सत्य है | क्योंकि आयुर्वेद चिकित्सा क्षेत्र में लम्बे समय तक रहने के कारण समय – समय पर इनकी प्रमाणिकता देख चुकें है | लेकिन फिर भी प्रत्येक दवा व्यक्ति की प्रकृति एवं रोग की स्थिति के आधार पर निर्धारित होती है | अत: आयुर्वेदिक वैद्य के सलाह से दवाओं का सेवन करें |

धन्यवाद ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आप जानते है कौनसी जड़ी-बूटी क्या काम आती है ?
क्या आप जानते है कौनसी जड़ी-बूटी क्या काम आती है ?
Open chat
Hello
Can We Help You