Indukantham kashayam क्या है ? इसके उपयोग एवं फायदे

Deal Score0
Deal Score0

Indukantham kashayam in Hindi एक शास्त्रोक्त आयुर्वेदिक दवा है | यह उदर विकार जैसे भूख की कमी, पेट दर्द, गैस, अपच एवं अजीर्ण आदि में बेहतर परिणाम देती है | साथ ही शरीर को बल प्रदान करके रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास करती है |

इंदुकांतम कषायम टेबलेट्स और सिरप दोनों रूप में उपलब्ध है | वैसे इसका निर्माण क्वाथ प्रक्रिया के द्वारा ही किया जाता है | लेकिन टेबलेट्स बनाने के लिए काढ़े को प्रवाही क्वाथ में तैयार करके गाढ़ा करके टेबलेट्स का निर्माण कर लिया जाता है |

विभिन्न फार्मेसी जैसे Arya Vaidya Shala, कैराली आयुर्वेद फार्मेसी एवं नागार्जुन आदि द्वारा निर्माण की जाती है | बाजार में आसानी से उपलब्ध होने वाली आयुर्वेदिक दवा है |

इंदुकांतम कषायम को भूख की कमी, पाचन समस्या, बुखार एवं शरीर की कमजोरी में इस्तेमाल किया जाता है | साथ ही यह शरीर में वात एवं कफ को संतुलित करती है |

घटक द्रव्य / Indukantham Kashayam Ingredients

इंदुकांतम कषायम

इस दवा में मुख्य रूप से 18 आयुर्वेदिक जड़ी – बूटियों का इस्तेमाल किया जाता है | यहाँ हमने इसके निर्माण में काम आने वाली जड़ी – बूटियों की लिस्ट उपलब्ध करवाई है |

इन सभी जड़ी – बूटियों को समान मात्रा में लिया जाता है |

इंदुकांतम कषाय बनाने की विधि / How to Prepare Indukantham Kashayam

इसे बनाने के लिए सबसे पहले इन सभी घटक द्रव्यों को समान मात्रा में लेकर यवकूट कर लिया जाता है | अब 16 गुण जल में इस यवकूट क्वाथ द्रव्यों को डालकर काढ़ा बनाया जाता है | जब जल 4 भाग बचे तब इसे तैयार समझा जाता है |

इंदुकांतम कषाय के चिकित्सकीय उपयोग

  • पाचन विकृति
  • पेट दर्द
  • पेट में एंठन
  • गैस
  • आंतो के अलसर
  • गैस्ट्रिक अल्सर
  • बुखार
  • वात एवं कफ विकृति
  • अस्थमा
  • ट्यूबरक्लोसिस
  • कब्ज प्रवृति
  • शारीरिक दुर्बलता

आयुर्वेदिक गुण धर्म

यह दवा मुख्य रूप से वात दोष को शांत करती है एवं कफज दोष को कम करने का कार्य करती है | इसके घटक द्रव्यों के कारण इसे शारीरिक दुर्बलता में भी प्रयोग किया जाता है | इंदुकांतम कषाय के सेवन से शरीर कांतिवान एवं त्वचा के रंग में भी सुधार होता है |

पाचन विकृति जैसे भूख की कमी, कब्ज, गैस, पेट दर्द एवं पेट में मरोड़ आदि रोगों में भी अपने आयुर्वेदिक गुणों के कारण प्रभावी दवा साबित होती है | तो चलिए अब जानते है इसकी सेवन मात्रा

इंदुकांतम कषाय की सेवन मात्रा / Doses

अगर इंदुकांतम टेबलेट्स रूप में है तो इसका सेवन दिन में तीन बार तक पानी के अनुपान के साथ सेवन किया जा सकता है |

एवं यदि यह सिरप फॉर्म में है तो एक वयस्क को 10 से 20 मिली. की मात्रा में आयुर्वेदिक चिकित्सक के परामर्शानुसार सेवन करना चाहिए |

चिकित्सक द्वारा निर्देशित मात्रा में सेवन करने पर इस दवा के कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है | वैसे यह पूर्णत: नुकसान रहित है फिर भी चिकित्सक के परामर्शानुसार ही सेवन करना चाहिए |

धन्यवाद ||

Avatar

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

1 Comment

    Leave a reply

    Logo
    Compare items
    • Total (0)
    Compare
    0