बच्चों की खांसी की आयुर्वेदिक दवा – खांसी नाशिनी वटी (घरेलु)

बच्चों की खांसी की आयुर्वेदिक दवा

सर्दियों के मौसम में खांसी आदि कफज विकारों का प्रकोप अधिक रहता है | खासतौर पर बच्चे इस मौसम में सबसे अधिक खांसी की समस्या से पीड़ित रहते है | सर्दी लगने, जुकाम, दमे एवं कफज बुखार आदि के कारण अधिकतर बच्चे खांसी की समस्या से ग्रषित रहते है | बच्चों में यह खांसी कई प्रकार की होती है जैसे – सुखी खांसी, गीली खांसी, कुकर खांसी आदि |

इन प्रकार की खांसी में घरेलु चिकित्सा के माध्यम से भी राहत पाई जा सकती है | हमेशां बच्चों को कफ सिरप एवं सर्दी जुकाम की अंग्रेजी दवाएं देने की जरूरत नहीं होती, लेकिन आज समय की कमी एवं तुरंत राहत पाने के लिए माता – पिता जल्द से जल्द अंग्रेजी दवाएं देने की सोचते है |

इस आर्टिकल में हमने एक बेहतरीन घरेलु योग बताया है जो सभी प्रकार की खांसी में रामबाण सिद्ध होता है | बच्चों की काली खांसी, सुखी खांसी एवं जो खांसी लम्बे समय से इलाज लेने पर भी न जा रही हो , वह भी इस घरेलु वटी के इस्तेमाल से सप्ताह भर में ठीक हो जाती है |

खांसी नाशिनी वटी बनाने के लिए आवश्यक द्रव्य एवं विधि 

  1. दालचीनी – 3 तोले
  2. वायविडंग – 3 तोले
  3. नागकेशर – 3 तोले
  4. हल्दी – 3 तोले
  5. शुद्ध हिंग – 8 रति
  6. कस्तूरी – 1 रति

बनाने की विधि – सभी 1 से 4 औषधियों को कूटकर कपडे से छान लें | फिर खरल में हिंग एवं कस्तूरी को एक साथ खरल करलें | अब इन सभी को एक साथ मिलाकर खरल में जल के साथ अच्छी तरह घोंटे, जब योग गोली बनने योग्य हो जाए तो इनकी मुंग के आकार की गोलियां बना लें |

गुण – इसके सेवन से बच्चों की काली खांसी, पुरानी खांसी, कफयुक्त खांसी एवं बहुत इलाज करवाने पर भी न ठीक होने वाली खांसी अगर न जा रही हो तो उसे इस वटी का सेवन करवाने से सप्ताह भर में खांसी गायब हो जाती है |

मात्रा एवं सेवन विधि – इस खांसी नाशिनी वटी का इस्तेमाल चौथाई रति या आधा गोली की मात्रा में माँ के दूध या गुलाब अर्क के साथ करवाना चाहिए | इस दवा का सेवन सुबह, दोपहर एवं रात्रि में सोते समय करवाया जा सकता है |

महत्वपूर्ण 

ऊपर बताये गए समयानुसार दवा का सेवन करवाने के पश्चात शुद्ध पिली सरसों के तेल में कपूर डालकर बच्चे की पीठ , कलेजे और गर्दन पर धीरे – धीरे मालिश करनी चाहिए | सरसों के तेल की जगह नारायण तेल एवं चंद्नादी तेल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है |

अगर जानकारी फायदेमंद लगे तो कृप्या इसे सोशल साईट पर भी शेयर करें | आपका एक शेयर हमारे लिए असिम उर्जा का काम करता है एवं हमें अन्य महत्वपूर्ण जानकरियां लिखने के लिए कृतभद्ध करता है |

स्वदेशी उपचार असली आयुर्वेद एवं प्रमाणिक घरेलु नुस्खों का इकलौता एसा ऑनलाइन वेबपोर्टल है जो अपने रीडर्स की स्वास्थ्य समस्याओं का ध्यान रखता है | हम समय – समय पर हमारे पास आई आपकी क्वेरी का समाधान लिखने का यथासंभव प्रयास करते है |

धन्यवाद ||

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.