वासावलेह / Vasavaleha – बनाने की विधि, फायदे एवं स्वास्थ्य लाभ

वासावलेह / Vasavaleha in Hindi 

श्वास, अस्थमा, खांसी, ज्वर, रक्तपित एवं पार्श्वशूल के उपचार के लिए वासावलेह का प्रयोग किया जाता है | अस्थमा एवं टीबी की समस्या में आयुर्वेदिक चिकित्सक इसका प्रमुखता से प्रयोग करते है | सभी प्रकार के कफज विकारों में यह चमत्कारिक एवं प्रशिद्ध आयुर्वेदिक दवा है |

आयुर्वेदिक ग्रन्थ “भा.प्र. राजयक्ष्मा 55-57” में इसका वर्णन किया गया है | यह एक अत्यंत गुणकारी आयुर्वेदिक दवा है | किसी भी प्रकार की खांसी हो या बुखार हो , साँस फूलता हो तो इसे सप्ताह भर सेवन करने से चमत्कारिक लाभ मिलता है |

वासावलेह

वासावलेह का मुख्य घटक द्रव्य वासा (अडूसा) होता है | इसके अलावा इसमें निम्न घटक द्रव्य पड़ते है |

वासावलेह के घटक द्रव्य 

इसके निर्माण में निम्न आयुर्वेदिक घटक पड़ते है –

  • वासापत्र स्वरस – 768 ग्राम
  • सीता मिश्री चूर्ण – 384 ग्राम
  • पिप्पली चूर्ण –      96 ग्राम
  • गोघृत          –     96 ग्राम
  • मधु (शहद)   –     384 ग्राम

वासावलेह बनाने की विधि 

इसके निर्माण की विधि अत्यंत सरल है | सबसे पहले अडूसा के साफ़ एवं स्वच्छ पतों का रस निकाल लिया जाता है | इस स्वरस में सीता चूर्ण को अच्छी तरह से मिलाया जाता है | अब तैयार मिश्रण को धीमी आंच पर पकाया जाता है |

जब मिश्रण गाढ़ा होने लगे तब इसमें पिप्पली का चूर्ण एवं गाय का घी मिलाकर ठंडा किया जाता है | अब इस ठन्डे मिश्रण में शहद मिलाकर छोड़दिया जाता है | यह तैयार गाढ़ा अवलेह – वासावलेह कहलाता है | भले ही इसकी विधि अत्यंत सरल है फिर भी इसका निर्माण आयुर्वेदिक फार्मासिस्ट या चिकित्सक से ही करवाना चाहिए | यही फलदायी होता है |

वासावलेह के सेवन की विधि एवं मात्रा 

इसका सेवन 5 से 10 ग्राम आयुर्वेदिक चिकित्सक के निर्देशानुसार करना चाहिए | इस औषधि का स्वाद थोड़ा अलग होता है | इसलिए अनुपान के रूप में गरम दूध, जल या शहद का प्रयोग बताया गया है |

मधुमेह के रोगी इसका सेवन चिकित्सक के परामर्श से ही करें | वैसे इस आयुर्वेदिक औषधि के कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है लेकिन फिर भी चिकित्सक द्वारा सुझाई गई मात्रा में ही सेवन करें | अधिक मात्रा में सेवन करना फायदेमंद नहीं है |

Vasavaleha के फायदे या स्वास्थ्य लाभ 

  • निरंतर या रुक – रुक कर आने वाली खांसी में इसका सेवन फायदेमंद होता है |
  • सभी प्रकार के कफज विकारों में लाभदायक है |
  • ब्रोंकईटिस, अस्थमा एवं श्वांस फूलने में इसका सेवन बताया गया है |
  • हृदय की पीड़ा एवं पार्श्वशूल में भी इसका सेवन फायदेमंद होता है |
  • रक्तपित्त एवं ज्वर का नाश करती है |
  • राजयक्ष्मा अर्थात टी.बी. के रोग में इसका सेवन शास्त्रोक्त बताया गया है |
  • जुकाम के कारण होने वाली एलर्जी आदि में भी फायदेमंद है |
  • खांसी एवं जुकाम में यह अत्यंत फायदेमंद औषधि है |

वासावलेह के आमयिक प्रयोग 

  • राजयक्ष्मा
  • श्वास
  • अस्थमा
  • पार्श्वशूल
  • हृद्यशुल
  • रक्तपित्त
  • ज्वर
  • कास

इस लाभकारी औषधि का निर्माण कई प्रशिद्द कंपनिया जैसे पतंजलि , डाबर, बैद्यनाथ आदि करती है | अत: आप बाजार से इस दवा को आसानी से खरीद सकते है |

धन्यवाद |

Related Post

शास्त्रोक्त विधि से बनाये च्यवनप्राश – बढाए ... च्यवनप्राश / Chywanprash च्यवनप्राश आयुर्वेद की सबसे अधिक बिकने वाली औषधि है | रोगप्रतिरोधक क्षमता बढाने , रसायन व वाजीकरण के लिए इस औषध योग का सेवन ...
एलर्जी की 10 प्रशिद्ध आयुर्वेदिक दवाइयां एवं सरल घ... एलर्जी की 10 प्रशिद्ध आयुर्वेदिक दवाइयां एवं सरल घरेलु इलाज नाक से छींके आना व खुजली, आँखों में खुजली के साथ पानी पड़ना एवं स्वांस लेने में दिक्कत होन...
सितोपलादि चूर्ण – बनाने की विधि, सेवन मात्रा... सितोपलादि चूर्ण आयुर्वेद में श्वसन तंत्र से सम्बंधित समस्याओं जैसे - अस्थमा, जुकाम, खांसी, कफज बुखार आदि में इसका प्रचुरता से उपयोग किया जाता है | पा...
बायोटिन – क्या है ? इसके कार्य और शरीर पर प्... बायोटिन  बायोटिन को Vitamin - H भी कहा जाता है | यह सामन्यतय विटामिन b-complex का ही हिस्सा है जो वसा में घुलनशील है | यह विटामिन शरीर में कार्बोज और...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.