भूमि आंवला (भू धात्री) की पहचान, सेवन विधि एवं फायदे

भूमि आंवला (भुई आमला) की पहचान, सेवन विधि एवं फायदे

परिचय – प्राय: सम्पूर्ण भारत में उगने वाला एक औषधीय पौधा है | यह वर्षा ऋतू अर्थात सावन के महीने में अपने आप ही खाली पड़ी जमीन, जंगल एवं सड़क किनारे उग आता है | वैसे ग्रामीण क्षेत्रों में इसे एक प्रकार की खरपतवार माना जाता है , लेकिन यह सिर्फ अज्ञानता का परिणाम है | हम सभी भी हमारे आस – पास उगने वाले इन पौधों पर ध्यान देने की कोशिश नहीं करते, जिससे ज्ञान एवं स्वास्थ्य लाभ नहीं उठा पाते |

जो लोग औषधीय पौधों का ज्ञान रखते है उन्हें इसकी पहचान होती है | साथ ही वे इसके स्वास्थ्य उपयोग भी जानते है | अत: इसे खरपतवार या व्यर्थ पौधा समझने की भूल नहीं करते |

लीवर की समस्याओं में यह पौधा एक चमत्कारिक रसायन का कार्य करता है | आयुर्वेद चिकित्सा शास्त्र में पुरातन समय से ही भू धात्री के उपयोग का वर्णन मिलता है | बहुत से रोगों में इसका आमयीक प्रयोग करवाया जाता है | आज कल बाजार में भी भुई आमला के इस्तेमाल से तैयार की गई लीवर टॉनिक की भरमार है |

पहचान – इसकी पहचान के लिए निचे हमने इसकी कुछ इमेज उपलब्ध करवाई है, जिन्हें देख कर आसानी से पहचाना जा सकता है | इसका पौधा 1 से 2 फीट तक लम्बा हो सकता है | पतियाँ बिल्कुल आंवले की तरह ही सरल रेखा पर लगती है जो आंवले के पतों के सदर्श होती है | इन्ही पतियों के निचे इस पौधे के फल लगते है जिनको देखने से आंवले के फल की याद आती है | इसके फल आकार में छोटे एवं गोल होते है जो शुरुआत में हरे रंग के एवं बाद में हल्के पितहरे हो जाते है | फलों एवं पतियों को देखने से ही इसे भूमि आंवला या भू धात्री कहा जाता है |

भूमि आंवला

भूमि आंवला के विभिन्न भाषाओँ में पर्याय

संस्कृत – भूम्याअमल्की, तामलकी, भूधात्री |

हिंदी – भूमि आंवला, भुई आंवला, जंगली आंवला, क्षेत्रामलकी आदि |

भूमि आंवला की फ़ोटो 

भूमि आंवला भूमि आंवला के फल

भुई आंवला के गुण धर्म

आयुर्वेद चिकित्सा के अनुसार यह कड़वा, कषैला, मधुर रस का होता है | गुणों में यह गृह्यी, तीक्षण गुण युक्त होता है | इसका वीर्य शीत अर्थात यह शीतल प्रकृति का होता है | वातकारक, तृष्णा, कास (खांसी), रक्तपित, कफ , गर्भप्रदायी एवं पांडूरोग (एनीमिया) नाशक माना जाता है |

सेवन विधि

आयुर्वेद एवं प्राचीन चिकित्सा पद्धति में इसके पंचांग का प्रयोग किया जाता है | लीवर की समस्या, कफज विकार, एवं पाचन से सम्बंधित रोगों में इसकी जड़ का क्वाथ बना कर सेवन किया जाता है | क्वाथ की मात्रा 10 से 20 मिली. तक एवं पंचांग का काढ़ा भी इसी मात्रा में सेवन किया जाता है | भूम्याअमल्की से निर्मित चूर्ण को 5 ग्राम तक की मात्रा में प्रयोग किया जा सकता है |

भूमि आंवला के औषधीय योग

इस प्राकृतिक जड़ी बूटी के प्रयोग से आयुर्वेद में भूम्यामलकी चूर्ण, भूम्यामलकी क्वाथ एवं भूम्यामलकि रसायन आदि का निर्माण विभिन्न आयुर्वेदिक फार्मेसी जैसे – डाबर, पतंजलि, बैद्यनाथ एवं धूतपापेश्वर आदि करती है | इन औषधियों का सेवन लीवर की समस्या, पीलिया, एनीमिया आदि में करवाया जाता है |

भूमि आंवला के फायदे एवं कुछ उपयोगी घरेलु नुस्खें

  • इस औषधि को सर्वरोग हर माना जाता है | अत: चूर्ण आदि का सेवन करने से रोग का नाश होता है |
  • जिनका लीवर ख़राब हो या पाचन ठीक न हो उन्हें इसके पंचांग को सुखाकर काढ़ा बना कर प्रयोग में लेना चाहिए |
  • लीवर से जुडी परेशानियों में यह अमृत तुल्य फलदायी मानी जाती है | बाजार में भूमि आंवले से युक्त विभिन्न लीवर टॉनिक बेचे जाते है |
  • कफज विकार जैसे श्वास – कास में भी इसका सेवन लाभदायक होता है | पंचांग का चूर्ण या क्वाथ का प्रयोग करना चाहिए |
  • मुंह आदि में अगर छाले हो और ठीक न होते हो तो इसके पतों को दिन में 4 से 5 बार चबाएं | छाले ठीक हो जायेंगे |
  • त्वचा के बाहरी इन्फेक्शन में गाँवों में आज भी इसका लेप बना कर लगाया जाता है |
  • पेट दर्द या पाचन ठीक न होने पर इसके काढ़ा बना कर सेवन करने से तुरंत लाभ मिलता है |
  • किडनी की सुजन में भी भूम्यामलकी का क्वाथ सेवन फायदेमंद साबित होता है | यह सुजन को दूर कर किडनी को सुचारू काम करने में मदद करता है |
  • आयुर्वेद में इसे बेहतरीन लीवर डीटोक्शीफायर, क्लीनर एवं लीवर को स्ट्रेंग्थ देने वाला द्रव्य माना जाता है |

निवेदनकृपया इस जानकारी को अपने मित्रों एवं परिवारजनों के साथ भी शेयर करें | आपका एक शेयर हमारे लिए असीम उर्जा का कार्य करता है |

धन्यवाद ||

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You