चंद्रप्रभा वटी के घटक द्रव्य एवं बनाने की विधि और जाने इसके फायदे

चन्द्रप्रभा वटी / Chandraprabha vati in Hindi

परिचय – आयुर्वेद चिकित्सा में चंद्रप्रभा वटी को उत्तम रसायन औषधि माना जाता है | मूत्र विकारों एवं शुक्रदोषों के लिए यह एक चमत्कारिक आयुर्वेदिक वटी है | इसका उपयोग 20 प्रकार के प्रमेह रोगों के साथ – साथ मूत्रकृच्छ, अश्मरी, विबंध, अनाह (आफरा), शूल (दर्द) एवं आंत्रव्रद्धी में किया जाता है |

चंद्रप्रभा वटी
click here to buy

चंद्रप्रभा वटी का निर्माण 35 प्रकार की आयुर्वेदिक जड़ी – बूटियों के सहयोग से किया जाता है | वीर्य विकार, मर्दाना कमजोरी और मधुमेह जैसे रोगों में यह बल्य, वृष्य और रसायन रूप में उपयोगी होती है | इसके सेवन शरीर में कान्ति और बल की व्रद्धी होती है | आयुर्वेदिक चिकित्सक चंद्रप्रभा वटी को मूत्र विकारों एवं वीर्य दोषों की चमत्कारिक औषधि मानते है |

चंद्रप्रभा वटी के घटक द्रव्य 

इस आयुर्वेदिक औषधि के निर्माण के लिए लगभग 35 प्रकार की आयुर्वेदि जड़ी – बूटियों का प्रयोग किया जाता है | यहाँ हमने चंद्रप्रभा वटी को बनाने में उपयोगी सभी घटक द्रव्यों को बताया है |


1. चन्द्रप्रभा – 3 ग्राम

2. वचा – 3 ग्राम

3. मुस्ता – 3 ग्राम

4. भूनिम्ब – 3 ग्राम

5. गुडूची – 3 ग्राम

6. देवदारु – 3 ग्राम

7. हरिद्रा – 3 ग्राम

8. अतिविषा – 3 ग्राम

9. दारूहरिद्रा – 3 ग्राम

10. पिप्पलीमूल – 3 ग्राम

11. चित्रक – 3 ग्राम

12. धान्यक – 3 ग्राम

13. हरीतकी – 3 ग्राम

14. विभितकी – 3 ग्राम

15. आमलकी – 3 ग्राम

16. चव्य – 3 ग्राम

17. विडंग – 3 ग्राम

18. गज्जपिप्पली – 3 ग्राम

19. त्रिकटु – 9 ग्राम

20. माक्षिक भस्म – 3 ग्राम

21. सज्जीक्षार – 3 ग्राम

22. यवक्षार – 3 ग्राम

23. सैन्धव लवण – 3 ग्राम

24. विडलवण – 3 ग्राम

25. सौवर्चलवण – 3 ग्राम

26. त्रिवृत – 12 ग्राम

27. दंती – 12 ग्राम

28. पत्रक – 12 ग्राम

29. त्वक – 12 ग्राम

30. इलायची – 12 ग्राम

31. वंशलोचन – 12 ग्राम

32. लौहभस्म – 24 ग्राम

33. शर्करा – 48 ग्राम

34. शिलाजीत – 96 ग्राम

35. गुग्गुलु – 96 ग्राम


ऊपर बताई गई द्रव्यों की मात्रा आवश्यकता अनुसार बढ़ा भी सकते है लेकिन सभी द्रव्यों का अनुपात ये ही होना चाहिए |

चन्द्रप्रभा वटी बनाने की विधि 

सबसे पहले ऊपर बताये गए घटक द्रव्यों को इनकी मात्रा अनुसार ले | अब इन सभी का चूर्ण बना कर सभी को आपस में मिला लें | गुग्गुलु को कूटते समय यह थोडा मुलायम हो जाता है | इन सभी का अच्छी तरह चूर्ण तैयार करने के बाद इमाम दस्ते में डालकर गिलोय स्वरस के साथ लगातार मर्दन करना चाहिए | जब योग सूखने लगे या गोलियों का निर्माण होने लायक हो जाए तब इसकी 500 मिलीग्राम की गोलियां बना लेनी चाहिए | इस प्रकार से आपकी चंद्रप्रभा वटी का निर्माण होता है |

वैसे बाजार में यह पतंजलि, बैद्यनाथ, धूतपापेश्वर एवं डाबर कंपनी की चंद्रप्रभा वटी आसानी से उपलब्ध हो जाती है | इनमे से बैद्यनाथ एवं धूतपापेश्वर चंद्रप्रभा वटी अधिक लाभदायक होती है |

चंद्रप्रभा वटी के स्वास्थ्य उपयोग या फायदे 

  • सभी प्रकार के मूत्र विकारों में फायदेमंद आयुर्वेदिक दवा है |
  • मूत्र में रूकावट या कम आने की समस्या में भी लाभदायक आयुर्वेदिक दवा साबित होती है |
  • पत्थरी की समस्या में भी फायदेमंद होती है |
  • इसके सेवन से कब्ज और आफरा की समस्या में राहत मिलती है |
  • कमर दर्द एवं अन्य प्रकार के शूल रोग में उपयोगी औषधि है |
  • श्वास रोग और खांसी में भी आयुर्वेदिक चिकित्सक इसका सेवन करवाते है |
  • सभी प्रकार के वीर्य विकारों में उपयोगी |
  • धातु दुर्बलता, नपुंसकता और वीर्य दोषों में इसके सेवन से लाभ मिलता है | यह शरीर की धातुओं का शोधन करती है |
  • रक्त की कमी में भी इसके सेवन से लाभ मिलता है अर्थात पांडूरोग एवं कामला (पीलिया) में उपयोगी |
  • अर्श, भगंदर और कुष्ठ जैसे रोगों में भी इसका आमयिक प्रयोग किया जाता है |
  • यकृत और प्लीहा व्रद्धी में फायदेमंद आयुर्वेदिक दवा है |
  • मन्दाग्नि, अरुचि एवं अपच जैसे रोगों को दूर करके पाचन को सुधरने का कार्य भी करती है |
  • चंद्रप्रभा वटी को त्रिदोष हर औषधि माना जाता है |
  • आयुर्वेदिक चिकित्सा में इसे रसायन के रूप में भी काम में लिया जाता है |
  • महिलाओं के मासिक धर्म के समय होने वाले दर्द से छुटकारा दिलाती है |
  • यह गर्भाशय का शोधन करके उसे नयी शक्ति देती है |
  • शारीरिक रूप से कमजोर स्त्रियों को इसका सेवन जरुर करना चाहिए |
  • दन्त विकार एवं नेत्र विकारों में भी इसका चिकित्सकीय उपयोग किया जाता है |

धन्यवाद |

Related Post

प्रोस्टेट ग्रंथि का बढ़ जाना (BPH) Benign Prostatic... प्रोस्टेट ग्रंथि का बढ़ना (BPH) प्रोस्टेट ग्रंथि पुरुषों के प्रजनन अंगो में एक महत्वपूर्ण अंग है | इसका मुख्य कार्य प्रोस्टेट फ्ल्युड्स को उत्सर्जित क...
आहार के 15 नियम और जीवन निरोगी (incompatible food ... आहार के 15 नियम आहार और भोजन के भी कुछ नियम कायदे होते है, जिनका हमे हमेशा अनुसरण करना चाहिए | आज के समय में हमे यह पता नही होता की हमारा शरीर किस ...
पश्चिमोत्तानासन – कैसे करे ? इसकी विधि, लाभ... पश्चिमोत्तानासन  पश्चिमोत्तानासन दो शब्दों से मिलकर बना है - पश्चिम + उत्तान | यहाँ पश्चिम से तात्पर्य है पीछे की और उत्तान का अर्थ होता है - शरी...
पेट की चर्बी कम करने वाले 7 योगासन – पेट कम ... पेट कम करने के लिए योगासन वर्तमान समय की बदली हुई जीवन शैली और शारीरिक श्रम की कमी के कारण मोटापा एक बड़ी समस्या बन कर उभरा है | पेट कम करने के लिए यो...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.