शीर्षासन / Shirshasana – विधि , फायदे एवं सावधानियां |

शीर्षासन / Shirshasana

योगासनों में सबसे अधिक उपयोगी और फायदेमंद आसन है शीर्षासन | इसीलिए इस आसन को आसनों का राजा भी कहा जाता है | भले ही यह करने में थोडा कठिन हो लेकिन दो – चार बार के अभ्यास के बाद इस आसन को आसानी से किया जा सकता है एवं बहुत सी बीमारियों से बचा जा सकता है | इस आसन में साधक को सिर के बल एवं हाथों के संतुलन के बल खड़ा होना पड़ता है , इसीलिए इसे शीर्षासन कहा जाता है |

शीर्षासन
शीर्षासन

यह आसन कई प्रकार के शारीरिक व्याधियों में लाभदायक है | मानसिक रोग , पाचन तंत्र के रोग , बालों की समस्या , चेहरे की त्वचा की समस्याएँ आदि स्वास्थ्य समस्याओं में लाभदायक है |

शीर्षासन की विधि / Method of Shirshasana

शीर्षासन करने से पहले आपको समतल जगह पर गद्दा या कोई तकिया बिछा लेना चाहिए , क्योकि इस आसन में सिर के बल पर खड़ा होना पड़ता है | अत: अपनी सुविधा एवं सुरक्षा के लिए सिर के निचे कोई तकिया या मुलायम गद्दा रखले |

  • सबसे पहले वज्रासन में बैठ जाए |
  • अब सिर को सामने की और झुकाते हुए बिछाए हुए गद्दे या तकिये पर सिर के उपरी भाग को टिकाएं |
  • अपने दोनों हाथों की अंगुलियों से घेरा बनाते हुए सिर के पास रखे |
  • अब क्रमश: सिर की तरफ वजन देते हुए कमर को ऊपर उठायें |
  • धीरे – धीरे अपने सिर पर पूरा वजन सहते हुए पैरो को ऊपर सीधा करने का प्रयास करे |
  • ऊपर जाते हुए श्वास ले |
  • इस अवस्था में कुछ देर रुके | यह अवस्था शीर्षासन कहलाती है |
  • अब धीरे – धीरे पैरों को वापिस मोड़ते हुए मूल अवस्था में आ जाये |
  • वापिस आते समय श्वास – प्रश्वास को सामान्य चलने दे |
  • शीर्षासन की अवस्था में 2 – 3 मिनट या अपने सामर्थ्य अनुसार रुके |
  • इस प्रकार शीर्षासन का यह एक चक्र पूर्ण होता है |

शीर्षासन करते समय बरते ये सावधानियां / Precautions while doing Shirshasana

  • शीर्षासन में शरीर का पूरा वजन सिर पर पड़ता है , अत: अपने सिर के निचे कोई मोटा एवं मुलायम कपडा लगा लेना चाहिए |
  • अगर आप इस आसन को पहली बार कर रहे है तो किसी की सहायता जरुर ले |
  • आसन को करते समय जल्दबाजी बिलकुल न करे |
  • शरीर को बिल्कुल सीधा रखे ताकि शरीर में स्थिरता और द्रिद्द्ता आये |
  • पहली बार करने वालों को 1 – 2 मिनट से अधिक देर तक नहीं करना चाहिए |
  • गर्भवती महिलाऐं इसे न करे |
  • हाई ब्लड प्रेशर या लो ब्लड प्रेशर के रोगी भी इसे न करे |
  • हृदय रोग , अल्सर , चक्कर आने वाले इस आसन से परहेज करे |
  • इस आसन को करने से पहले सर्वांगासन का अभ्यास जरुर करना चाहिए |
  • इस आसन के बाद ताड़ासन या शवासन को जरुर करना चाहिए |

शीर्षासन के फायदे – लाभ / Benefits of Shirshasana

  • इस आसन को आसनों का राजा भी कहा जाता है , क्योंकि यह पुरे शरीर का कायाकल्प करता है |
  • मानसिक दुर्बलता एवं मष्तिष्क से सम्बंधित सभी प्रकार के रोगों में लाभ मिलता है |
  • इस आसन को करने वालों के चहरे की चमक और ओज बढ़ता है |
  • युवावस्था को लम्बे समय तक बनाये रखता है |
  • आँखों के सभी रोग दूर होते है |
  • इस आसन को प्रतिदिन करने से उर्ध्वजत्रुगत सभी रोगों में लाभ मिलता है | क्योंकि रक्त का संचार मष्तिष्क एवं ऊपर के अंगो में होने से यंहा नित्य नया एवं शुद्ध रक्त पंहुचता रहता है |
  • बालों के झड़ने व सफ़ेद होने की समस्या से छुटकारा मिलता है |
  • शरीर में स्फूर्ति एवं उतसाह का संचार होता है |
  • उन्माद एवं मिर्गी जैसे रोग इस आसन का नियमित अभ्यास करने से दूर हो जाते है |
  • लकवा के रोगियों को यह आसन योग्य योग गुरु की देख रेख में नित्य करना चाहिए , ताकि लकवा रोग में लाभ मिले |
  • इसका नियमित अभ्यास करते रहने से दमा व् टीबी रोग  से छुटकारा मिलता है |
  • कब्ज दूर होती है |
  • पेट के रोग व प्रजनन अंगो के सभी रोगों में यह आसन लाभकारी माना गया है | नियमित अभ्यास से काम शक्ति का संचार होता है |
  • इसके अलावा सभी प्रकार के मानसिक रोग , चेहरे की त्वचा को कांतिमय बनाने में भी यह योगासन महत्वपूर्ण है |

धन्यवाद |

Related Post

प्राणायाम – क्या है ? इसके प्रकार , लाभ, अवस... प्राणायाम / Pranayama अष्टांग योग में प्राणायाम का एक विशेष स्थान है | अष्टांग योग के चतुर्पद में "प्राणस्य आयाम: इति प्राणायाम:" लिखा है , इसका ...
क्या माहवारी के समय सहवास सही है ?... माहवारी (Menstruation Cycle) मासी - मासी रज: स्त्रीणां रसजं स्रवति त्र्यहम | अर्थात जो रक्त स्त्रियों में हर महीने गर्भास्य से होकर 3 दिन तक बहता है...
सिंहासन योग कैसे करते है एवं इसके फायदे या लाभ... सिंहासन योग इस आसन को सिंह के सामान आकृति वाला होने के कारण सिंहासन या अंग्रेजी में "Lion Pose" कहा जाता है | सिंहासन का शाब्दिक अर्थ निकालने पर यह द...
मालकांगनी – सम्पूर्ण परिचय, लाभ और घरेलु प्र... मालकांगनी / Celastrus Paniculatus in Hindi मालकांगनी मालकांगनी एक पहाड़ी लता है जो प्रायः सम्पूर्ण भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में देखने को मिल जाता ह...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.