मैग्नीशियम / Magnesium in Hindi- फायदे , कार्य , कमी और दैनिक मांग |

मैग्नीशियम / Magnesium in Hindi

जिस प्रकार हमारे शरीर में कैल्सियम, फाॅस्फोरस, सोडियम और पोटैशियम महत्वपूर्ण होते हैं और इनके अपने-अपने कार्य होते हैं। उसी प्रकार मैग्नीशियम का भी हमारे शरीर में महत्वपूर्ण स्थान होता है। मानव शरीर में हड्डीयों के निर्माण के लिए कैल्सियम और मैग्नीशिम आवश्यक होते हैं। एक व्यस्क व्यक्ति के शरीर में 25 से 30 ग्राम मैग्नीशियम उपस्थित रहता है। इसमें से भी मैग्नीशियम का 50 से 60 प्रतिशत भाग हमारी हड्डीयों में पाया जाता है।जिस प्रकार हमारे शरीर में कैल्सियम, फाॅस्फोरस, सोडियम और पोटैशियम महत्वपूर्ण होते हैं और इनके अपने-अपने कार्य होते हैं। उसी प्रकार मैग्नीशिम का भी हमारे शरीर में महत्वपूर्ण स्थान होता है।

मैग्नीशियम

मानव शरीर में हड्डीयों के निर्माण के लिए कैल्सियम और मैग्नीशिम आवश्यक होते हैं। एक व्यस्क व्यक्ति के शरीर में 25 से 30 ग्राम मैग्नीशियम उपस्थित रहता है। इसमें से भी मैग्नीशियम का 50 से 60 प्रतिशत भाग हमारी हड्डीयों में पाया जाता है।शरीर की क्रियाओं को ठिक ढंग से चलाने के लिए मैग्नीशियम की आवश्यकता होती है। मांसपेशियों के निर्माण और अस्थियों के निर्माण में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। हड्डियों के अलावा यह कोमल ऊतकों, रक्त सीरम और बाह्य कोषीय रसों में पाया जाता है। कुछ मात्रा में यह प्राटिन में भी उपस्थित रहता है।

मैग्नीशियम के स्रोत / Sources of Magnesium

प्राय सभी भोज्य पदार्थाें में मैग्नीशियम उपस्थित रहता है। हम जो भी आहार ग्रहण करते हैं उसमे कम या ज्यादा मात्रा में यह उपस्थित रहता है। अनाज, दालें, तेलबीज, सूखे मेवे आदि में यह प्रचूर मात्रा में विद्यमान रहता है। अल्प मात्रा में दूध, मांस, मछली, अण्डा, फल एवं सब्जियों में भी उपस्थित रहता है।

आप इस सारणी के माध्यम से विभिन्न भोज्य पदार्थों में उपस्थित मैग्नीशियम की मात्रा को अच्छे से समझ सकते हैं।

सर्वोत्कृष्ट स्रोत - mg/100gmउत्तम स्रोत - mg/100gmअल्प स्रोत - mg/100gm
उड़द की दाल - 185mgपालक - 88mgसेब - 8mg
गेंहू - 139mgमूली - 15 mgअंगूर - 9mg
मक्का - 144mgफूलगोभी - 22mgनिम्बू - 11mg
लोबिया - 230mgगाजर - 23mgसंतरा - 11mg
मसूर की दाल - 189mgपता गोभी - 13mgपपीता - 12mg
बादाम - 257 mgनाशपाती - 7mg
काजू - 126 mg
मूंगफली - 156 mg

मैग्नीशियम के फायदे या कार्य / Functions or Benefits of Magnesium 

यह खनीज पदार्थ हमारे शरीर में अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। शरीर में कैल्सियम के साथ मिलकर शरीर की विभिन्न क्रियाऐं करवाने में महत्वपूर्ण होता है। हमारे शरीर में इसके निम्न फायदे या कार्य होते हैं।

  • शरीर में उपस्थित कैल्सियम और फाॅस्फोरस के चयापचय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • हृदय के धड़कन की गती को नियमित करने में भी यह खनीज फायदेमंद होता है। कैल्सियम, सोडियम और पोटैशियम के साथ मिलकर हृदय की धड़कन को नियमित रखने में लाभदायक होता है।
  • शरीर में उपस्थित एंजाइमों जैसे – एल्केलाइन फाॅस्फोटज, फाॅस्फोरिलेटिंग आदि एंजाइमों को सक्रिय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • शरीर में आॅक्सीडेटिव फाॅस्फोरिलेशन के काॅ-फैक्टर को सूचारू बनाने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।
  • हड्डियों को मजबूत बनाने और इनके निर्माण में यह खनीज अत्यंत आवश्यक होता है।
  • कार्बोज के चयापचय में भाग लेने वाले एन्जाइम्स के निर्माण में सहायक होता है। जैसे काॅ-कार्बोक्सिलेज एन्जाइम्स को उतेजित करने में यह प्रमुखता से भाग लेता है।
  • नाड़ी संस्थान की संवेदन शक्ति को सन्तुलित बनाये रखने में इसकी महती भूमिका होती है।

शरीर में मैग्नीशियम की कमी के प्रभाव / Effects of Magnesium Deficiency 

आमतौर पर मानव शरीर में मैग्नीशियम की कोई कमी नहीं होती। लेकिन अधिक शराब का सेवन करने वाले और अधिक नशीलि चिजों का सेवन करने वालों में इसकी कमी हो जाती है। दरःशल जब शरीर में एल्कोहल की मात्रा अधिक हो जाती है तो इसकी  पूर्ती शरीर में ठिक ढंग से नही हो पाती। यकृत के रोग और गुर्दे के रोगों के समय भी शरीर में इसकी कमी हो सकती है। सामान्य व्यक्ति के शरीर में 2-3mg/100ml मैग्नीशियम उपस्थित रहता है। इसकी कमी से शरीर पर निम्न प्रभाव पड़ते हैं।

  • मांसपेशियों में थकान होने लगती है।
  • संज्ञाहीनता जैसे लक्षण प्रकट होने लगते हैं।
  • नाड़ी संस्थान में क्षोभ हो जाता है जिससे व्यक्ति के स्वाभाव में चिड़चिड़ापन आ जाता है।
  • हाथ और पैरों की पेशियों में पीड़ादायक संकुचन होने लगता है।
  • व्यक्ति निराशा अनुभव करने लगता है।
  • इसकी कमी से बच्चों में क्वाशियोरकाॅर नामक रोग हो जाता है। इस रोग में बच्चों के रक्त सिरम मैग्नीशियम की उपस्थिति सामान्य से काफी कम हो जाती है।

शरीर में मैग्नीशियम का अवशोषण एवं विसर्जन / Excretion of Magnesium

हमारे शरीर में आहार द्वारा जितना मैग्नीशियम ग्रहण किया जाता है, उसका 40-50% भाग अवशोषित नहीं हो पाता है। अतः इसे हमारा शरीर मल द्वारा या मुत्र द्वारा शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है। इसमें से भी एक-तिहाई भाग मूत्र द्वारा हमारे शरीर से बाहर निकलता है।

शरीर में मैग्नीशियम की दैनिक माँग / Daily Requirements of Magnesium 

एक वयस्क स्त्री और पुरूष को 300 से 400 mg प्रतिदिन मैग्नी शियम की आवश्यकता होती है। यद्यपि FAO/WHO ने इसकी दैनिक माँग की कोई मात्रा निर्धारित नहीं की है। क्योंकि इसकी आवश्यकता की पूर्ति हमारे दैनिक ग्रहण किये जाने वाले आहार से ही हो जाती है।इसकी दैनिक माँग निम्नानूसार है-

  • वयस्क स्त्री-पुरूष – 200से 300
  • 12 साल तक – 150 से 200
  • शिशु या 11 साल तक के बच्चे – 100 से 150
  • गर्भवती महीलाऐं – 300 से 400

धन्यवाद |

Related Post

गिलोय सत्व (अमृता सत्व) – को बनाने की विधि ,... गिलोय सत्व - गिलोय के कांड को कूटपीसकर एवं इसके स्टार्च को निकाल कर गुडूची सत्व का निर्माण होता है | आज कल बाजार में आरारोट के चूर्ण में गिलोय स्वरस क...
मूसली पाक (Musli Pak) – बनाने की विधि (भैषज्... मूसली पाक (Musli Pak) मूसली पाक - मूसली एवं अन्य द्रव्यों के पाक विधि से तैयार करने से मूसली पाक का निर्माण होता है | इसमें प्रमुख औषध द्रव्य मूसली ह...
चन्दनासव / Chandanasav – फायदे, रोगोपयोग एवं... चन्दनासव / Chandanasav - यह उत्तम शीतल गुणों से युक्त होती है | पेशाब में धातु जाना, पेशाब में जलन, पेशाब में इन्फेक्शन एवं महिलाओं के श्वेत प्रदर जैस...
शीघ्र स्खलन का आयुर्वेदिक उपाय – मालकांगनी य... शीघ्र स्खलन (शीघ्र पतन) क्या है ? / What is Premature Ejaculation in Hindi ? शीघ्र स्खलन या शीघ्रपतन कोई रोग नहीं है | सहवास के समय स्त्री और पुरुष द...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.