सल्फर – शरीर के विकास और निर्माण में सल्फर की उपयोगिता

Deal Score0
Deal Score0

सल्फर / Sulphur

शरीर में, कोशिकाओं के निर्माण में सल्फर लवण का महत्वपूर्ण स्थान है। यह रक्त, तरल पदार्थों एवं कोषों में उपस्थित रहता है। यह मेथियोनीन (Methionine) तथा सिस्टीन (Cystine) अमीनो अम्ल में उपस्थित रहता है। ये अमीनो अम्ल प्रोटीन के साथ संयुक्त रूप से रहते हैं व कोषों के निर्माण में अहम् भूमिका निभाते हैं। प्रोटिन में लगभग 1 प्रतिशत सल्फर उपस्थित रहता है। कुल सल्फर का अधिकांस हिस्सा रक्त, शरीर के तरल पदार्थों एवं कोषों में उपस्थित रहता है। अत्यन्त सूक्ष्म मात्रा में यह कार्बनिक यौगिकों, जैसे- थाइमिन (Thymine), हिपैरिन (Heparin) , टाॅरोकोलिक अम्ल (Taurucholic Acid), ग्लूटाथाइआॅन (Glutathione), सल्फोनिक अम्ल (Sulphonic Acid) आदि में भी उपस्थित रहता है।

सल्फर के फायदे

सल्फर

एक स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में 175 ग्राम Sulphur पाया जाता है।

सल्फर के कार्य / Function of Sulphur

  • यह नाखून एवं बालों की वृद्धि के लिए आवश्यक होता है।
  • त्वचा को स्वस्थ एवं कांतिमय बनाये रखने में इसका महत्वपूर्ण योगदान होता है।
  • शरीर की प्रत्येक कोषों के निर्माण में इसका विशेष योगदान होता है। यह सिस्टीन एवं मेंथियोनीन अमीनो अम्ल मे पाया जाता है।
  • आॅक्सीकरण क्रिया मं भाग लेने वाले ग्लूटाथाॅयोन का निर्माण इसी से ही होता है।
  • पाचक रसों , एन्जाइम्स, हामोन्स, विटामिन आदि के निर्माण के लिए यह आवश्यक है।
  • त्वचा में उपस्थित मेलानिन वर्णक (Melanine Pigment) , जो त्वचा को रंग (कला, गौरा,साँवला) प्रदान करता है, में यह उपस्थित रहता है।
  • प्रोटिन के पाचन, शोषण एवं उपापचय में यह महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

सल्फर प्राप्ति के साधन या स्रोत / Sources of Sulphur

यह मुर्गी, मछली, अण्डा, दूध एवं दूध से बने व्यंजन में प्रचूर मात्रा में पाया जाता है दूध इसकी प्राप्ति के सर्वोत्कृष्ट साधन हैं। पनीर, मूँगफली, मसूर की दाल। अंकूरित गेहूँ एवं प्याज में भी Sulphur पर्याप्त मात्रा मे विद्यमान रहता है।

शरीर में सल्फर की कमी के प्रभाव / Effects of Sulphur Deficiency

शरीर में प्रोटिन की कमी से सल्फर की कमी हो जाती है। जिसका दुष्प्रभाव शरीर पर पड़ता है, जैसे –

  •  बालकों में Sulphur की कमी से शरीर की वृद्धि रूक जाती है।
  • इसकी कमी से त्वचा रूखी और कांतीहिन दिखाई देने लगती है।
  • नाखून और बालों की वृद्धि रूक जाती है।
  • Sulphur की कमी से बालों की वृद्धि रूक जाती है और बाल झड़ने लग जाता है।
  • बाल सफेद होना और झड़ने का मुख्य कारण शरीर में इसकी कमी होना होता है।

शरीर मे सल्फर की दैनिक मांग / Daily Intake of Sulphur

अभी तक सल्फ र की दैनिक माँग कितनी होनी चाहिए। इसकी मात्रा निश्चित तौर पर निर्धारित की गई है। सामान्यतः शरीर में सल्फर की पूर्ति हमारे द्वारा ग्रहण किये गये आहार से ही हो जाती है। प्रतिदिन 2 से 2.5 ग्राम तक इसकी  आवश्यकता होती है।

credits-Dr Brinda Singh

Avatar

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0