लवंगासव के फायदे, घटक द्रव्य, एवं सेवन की विधि

लवंगासव लौंग, पिप्पली, अगर एवं इलायची जैसे घटक द्रव्यों को संधान करके तैयार की जाने वाली आयुर्वेद की शास्त्रोक्त औषधि है | शास्त्रोक्त औषधियाँ वे दवाएं होती है जो आयुर्वेद के आर्ष ग्रंथो में वर्णित होती है | इस लेख में हम आपको लवंगासव आयुर्वेदिक दवा की सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाने वाले है |

चलिए सबसे पहले जानते है कि लवंगासव के घटक क्या है एवं अन्य सामान्य जानकारियां |

दवा का नामलवंगासव
दवा निर्माता कंपनीराजवैद्य
घटक लौंग, पीपल, अगर, कालीमिर्च एवं इलायची, गुड़
उपयोग पाइल्स, संग्रहणी (IBS), खून की कमी, प्लीहा एवं पेट के रोग
सन्दर्भ ग्रन्थ गद निग्रह

लवंगासव के घटक | Ingredients of Lavangasav in Hindi

  • लौंग
  • पीपल
  • अगर
  • कालीमिर्च
  • इलायची
  • जल (क्वाथ निर्माण के लिए)
  • गुड़ (संधान)
  • धायफुल

लवंगासव के फायदे | Benefits of Lavangasav

अर्श: लवंगासव का प्रयोग अर्श अर्थात पाइल्स की समस्या में किया जाता है | यह पाचन को सुधारने का कार्य करती है साथ ही शरीर में कब्ज नहीं बनने देती | अत: अर्श में कठोर मल की समस्या को दूर करती है |

संग्रहणी: अर्थात इरेक्टाइल बाउल सिंड्रोम की समस्या में भी लवंगासव अत्यंत लाभदायक है | पाचन शोधन एवं आंत्र शोधन के गुणों से युक्त होने के कारण संग्रहणी रोग में लवंगासव फायदेमंद है |

एनीमिया: शरीर में रक्त की कमी होना एनीमिया कहलाता है | इसमें हिमोग्लोबिन का स्तर सामान्य से निचे आ जाता है | एसी स्थिति में लवंगासव दवा का प्रयोग वैद्य सलाह अनुसार अन्य औषध योग जैसे लोहासव एवं लीवर को ठीक करने वाली औषधियों के साथ प्रयोग करवाया जाता है |

हृदयविकार: हृदय विकार में भी यह दवा अच्छा कार्य करती है | वैद्य सलाह से हृदय विकार जैसे तीव्र धड़कन एवं हृदय पीड़ा में सेवन की जा सकती है |

उदरविकार: पेट से सम्बंधित रोगों में लवंगासव बेहतर कार्य करती है | पेट दर्द, आफरा, गुल्म आदि रोगों में भी इसका प्रयोग अन्य औषधीय योगों के साथ किया जाता है |

कब्ज: कब्ज एवं गैस में लवंगासव का सेवन करने से लाभ मिलता है | यह पाचनतंत्र को सपोर्ट करती है पाचन को सुधार कर कब्ज नहीं बनने देती |

लवंगासव की सेवन विधि

इसका सेवन 10 से 15 मिली की मात्रा में सुबह – शाम बराबर जल मिलाकर किया जाना चाहिए | सेवन से पहले चिकित्सकीय सलाह लेना सर्वोपरि है |

हालाँकि इस दवा के कोई भी ज्ञात साइड इफेक्ट्स नहीं है | फिर भी निर्धारित मात्रा में ही सेवन करें अर्थात चिकित्सक द्वारा निर्देशित मात्रा में ही प्रयोग में लें | गर्भिणी स्त्रियाँ एवं बच्चे बिना चिकित्सक सलाह के सेवन न करें |

धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *