गुड़मार (Gymnema Sylvestris) – परिचय, पहचान, औषधीय गुण एवं उपयोग

गुड़मार (Gymnema Sylvestris) क्या है ?

इस औषधि को मधुनासिनी अर्थात मधुमेह को नष्ट करने वाली माना जाता है | प्राचीन समय से ही इस औषधि का उपयोग मधुमेह के लिए किया जाता रहा है | गुड़मार का शाब्दिक अर्थ भी गुड़ (मीठे) को खत्म करना होता है | लेकिन इसका कैदाव यह मतलब नहीं है कि इसके नाम को देखकर सीधे ही उपयोग किया जाए | बैगर चिकित्सकीय सलाह के प्रयोग करना सेहत के लिए अन्य समस्याएँ पैदा कर सकता है |

आजकल बाजार में गुड़मार की मांग बढ़ने से व्यापारी लोग इसके चूर्ण में मिलावट करने लगे है | बाजार में मिलने वाले अधिकतर गुड़मार चूर्ण में अन्य चूर्ण की मिलावट की जाती है ताकि मुनाफा बढाया जा सके | अत: योग्य चिकित्सक एवं फार्मेसी से ही इसका क्रय करना चाहिए ताकि रोग में लाभ मिले व अन्य शारीरिक नुकसान से बचा जा सके |

गुड़मार
क्रेडिट – rsmpb.in

परिचय – भारत के मध्य एवं उतरी क्षेत्रों में गुड़मार अधिक पैदा होती है | इसका पौधा लता रूपी होता है अर्थात यह बेल के रूप में होता है जो अन्य पौधों की सहायता से ऊपर फैलती है | यह बहुवर्षायु लता होती है जिसकी अनेक शाखाएं होती है | इसकी पतियाँ 3 से 8 इंच तक लम्बी एवं 2 से 4 इंच तक चौड़ी होती है | पतियाँ आगे से नुकीली एवं अंडाकार आकृति की होती है | गुड़मार के फुल आकार में छोटे एवं  पीले रंग के होते है | अगस्त एवं सितम्बर में लता पर फुल खिलते है एवं  दिसम्बर महीने में  फल तैयार होते है |

गुड़मार की पहचान

यह तो सर्वविदित है कि हमारा देश मिलावट खोरों से भरा पड़ा है | यहाँ पर किसी भी औषधि का सही मिल पाना मुश्किल है | गुड़मार के साथ भी यही खेल चल रहा है | बाजार में मांग बढ़ने  एवं मुनाफा बढ़ाने के लिए व्यापारी इसमें अन्य सस्ती वनस्पतियों का चूर्ण मिला देते है | गुड़मार चूर्ण को देखने से बिलकुल पता नहीं लगाया जा सकता कि यह मिलावटी है या शुद्ध |

वैसे इसकी पहचान करने का कोई सटीक तरीका नहीं है लेकिन गुड़मार की सबसे उत्तम परीक्षा यही हो सकती  है कि इसका एक पता खाकर ऊपर से गुड खाया जाए | यह गुड के स्वाद को बिल्कुल मिटटी की तरह कर देता है | जब तक इसका प्रभाव जीभ पर रहेगा तब तक गुड या शक्कर की मिठास का पता नहीं लगाया जा सकता |

गुड़मार के औषधीय गुण 

यह वनस्पति कड़वी, कसैली और शक्कर को नष्ट करने वाली होती है | सांप के काटे एवं अन्य विष को नष्ट करने वाली होती है | सर्पदंश में जड़ का सेवन एवं इसका लेप करना फायदेमंद होता है | यह जीभ के स्वाद ग्रहण करने की शक्ति को नष्ट कर देती है | पेशाब के साथ आने वाली शक्कर को रोकती है | खांसी, कुष्ठ, कीड़े, घाव को भरने वाली है | हृदय विकार, बवासीर, तीव्र प्रदाह एवं नेत्र विकारों को हरने वाले गुणों से युक्त होती है |

गुड़मार के फायदे एवं उपयोग 

  1. इसे अधिक मात्रा में लिया जाये तो यह अरुचि, दस्त और निर्बलता को पैदा करती है | उचित मात्रा में यह हृदय में रक्त के प्रवाह को उतेजित करती है | गर्भस्य की क्रिया को बढाती है यह रक्त में शक्कर की मात्रा को कर करती है | इसीलिए मधुमेह में  उपयोगी है |
  2. मधुमेह को नष्ट करने में यह बहुत ही प्रसिद्द औषधि है | चिकित्सक के परामर्शानुसार इसके पतों का सेवन करने से मधुमेह में आराम मिलता है | आयुर्वेदिक चिकित्सा में मधुमेह की चिकित्सा के लिए गुड़मार के साथ अन्य मधुमेह नाशक द्रव्यों का प्रयोग किया जाता है |
  3. डायबिटीज रोग की चिकित्सा के लिए आयुर्वेद में इसके सहयोग से गोलियों का निर्माण किया जाता है | गोली बनाने के लिए गुड़मार के पते 10 तोले, जामुन की गुठली 5 तोले एवं सुंठ 5 तोले – इन सभी को बारीक़ पीसकर कपद्छान कर लिया जाता है | अब इस चूर्ण को बारबार धिक्वार के रस में घोंटकर चार – चार रति की गोलियां बना लेना चाहिए | इनमे से तीन – तीन गोली दिन में तीन बार शहद के साथ देने से डायबिटीज में अच्छा परिणाम मिलता है | चिकित्सक के परामर्शानुसार महीने भर तक इसका सेवन करना चाहिए |
  4. इसकी पतियों का चूर्ण करके सुबह एवं शाम शहद के साथ चाटने से भी मधुमेह में आराम मिलता है |

जानकारी अच्छी लगे तो कृपया इसे सोशल साईट पर भी शेयर करें | आपका एक शेयर हमारे लिए प्रेरणा साबित होता है | 

धन्यवाद | 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You