ब्राह्मी घृत सम्पूर्ण परिचय – निर्माण विधि, सेवन के फायदे एवं स्वास्थ्य उपयोग

ब्राह्मी घृत / Brahmi Ghrit Hindi 

परिचय – ब्राह्मी घृत आयुर्वेदिक स्नेह कल्पना के तहत तैयार होने वाला एक प्रशिद्ध औषधीय घी है | जो अपस्मार, स्मरण शक्ति, उन्माद एवं मष्तिष्क पॉवर बढ़ाने की एक उत्तम आयुर्वेदिक दवा है | इसके नित्य सेवन से स्मरण शक्ति का विकास होता है | व्यक्ति जल्दी ही पढ़े हुए ग्रन्थ याद कर लेता है | अपस्मार (मिर्गी) का यह काल है | आयुर्वेदिक ग्रन्थ भावप्रकाश के अपस्मार अध्याय में इसके लिए कहा गया है कि –

ब्राह्मीरसवचाकुष्ठशंखपुष्पिशृतं घृतम |

पुराणं स्यादप्स्मारोन्मदगृहहरं परम ||

ब्राह्मी घृत

इसके अलावा यह बवासीर, सर्दी – जुकाम में भी उपयोगी औषधि है | बाजार में बैद्यनाथ ब्राह्मी घृत, पतंजलि, डाबर, धूतपापेश्वर आदि कंपनियों की आसानी से मिल जाती है | चिकित्सक से परामर्श करके ब्राह्मी घृत का सेवन किया जा सकता है | वैसे इसे घर पर भी निर्माण किया जा सकता है, जिसकी विधि यहाँ बताई है | लेकिन वैद्य फार्मासिस्ट ही इसका शाश्त्रोक्त निर्माण करने में निपुण होते है | अत: यह महज आपके ज्ञान वर्द्धन के लिए है ताकि आप आयुर्वेदिक दवाओं का निर्माण कैसे होता है , जान सकें

ब्राह्मी घृत बनाने की विधि 

इस आयुर्वेदिक घृत के निर्माण में 6 प्रमुख घटक द्रव्यों की आवश्यकता होती है –

  1. ब्राह्मी स्वरस  – 3200 ग्राम
  2. ब्राह्मी (कल्क द्रव्य के रूप में) – 50 ग्राम
  3. कुष्ठ (कल्क द्रव्य के रूप में) – 50 ग्राम
  4. शंखपुष्पि (कल्क द्रव्य के रूप में) – 50 ग्राम
  5. वचा (कल्क द्रव्य के रूप में) – 50 ग्राम
  6. गाय का घी (पाक द्रव्य के रूप में) – 800 ग्राम

सबसे पहले कल्क द्रवों से कल्क का निर्माण किया जाता है | कल्क निर्माण करने से तात्पर्य औषधियों को यवकूट कर के थोडा जल मिला लिया जाता है | अब एक कड़ाही में घी को मन्दाग्नि पर चढ़ा कर ब्राह्मी स्वरस एवं औषधियों के कल्क को डालकर मन्दाग्नि पर पाक किया जाता है | जब घी में उपस्थित पूरा जलियांश उड़ जाए तब इसे आंच से निचे उतार कर स्वांगशीत होने दिया जाता है |

स्वांगशीतल होने के पश्चात कांच के मर्तबान में सहेज लिया जाता है | इस प्रकार से ब्राह्मी घृत का निर्माण होता है | विधि भले ही आसन लगे लेकिन किसी भी आयुर्वेदिक औषध का निर्माण निपुण व्यक्ति को ही करना चाहिए | क्योंकि यही औषधि रोगनाशक सिद्ध होती है |

ब्राह्मी घृत के फायदे या स्वास्थ्य उपयोग 

  • अपस्मार (मिर्गी) के रोग में इसका आमयिक प्रयोग करवाया जाता है |
  • स्मरण शक्ति के विकास में लाभ दायक है |
  • मष्तिष्क का विकास होता है, पढ़ा हुआ जल्दी याद होता है |
  • उन्माद (पागलपन जैसे) रोग में आयुर्वेदिक चिकित्सक इसका सेवन बताते है |
  • महिलाओं में गर्भ ठहराने में फायदेमंद है |
  • स्वर को सुधरती है |
  • शरीर का वर्द्धन करता है |
  • शरीर की धातुओं का पौषण होता है |
  • मष्तिष्क के लिए एक टॉनिक स्वरुप औषधि है |
  • कुष्ठ रोग में भी फायदेमंद औषधि है |
  • बवासीर में उपयोगी है |
  • त्वचा विकार एवं वायु विकार में उपयोगी |

सेवन मात्रा एवं विधि 

भैषज्य रत्नावली में ब्राह्मी घृत का वर्णन मिलता है | इसका सेवन 6 से 12 ग्राम प्रकृति के अनुसार दूध के अनुपान से ग्रहण करना चाहिए | दवा का इस्तेमाल आयुर्वेदिक चिकित्सक के परामर्श से करना उचित एवं फायदेमंद होता है |

धन्यवाद |

Related Post

योगराज गुग्गुलु / Yograj Guggulu – फायदे, घट... योगराज गुग्गुलु / yograj guggulu in hindi - गुग्गुलु कल्पना के तहत तैयार की जाने वाली यह आयुर्वेदिक औषधि वात व्याधि एवं आम दोष में प्रमुखता से उपयोग क...
जटामांसी (Jatamansi) के औषधीय गुण एवं फायदे –... जटामांसी / Nardostachys jatamansi हिमालयी पहाड़ों पर 11 हजार से 17 हजार फुट की ऊंचाई पर अपने आप (स्वयंजात) पौधा है | इसे बालछड भी कहते है | मानसिक दुर...
बला (खरैटी) / Sida Cordifolia – खरैटी के गुण... बला (खरैटी) / Sidda Cordifolia in Hindi परिचय - प्राय: सम्पूर्ण भारत में पायी जाने वाली औषधीय उपयोगी वनस्पति है | इसका झाड़ीनुमा क्षुप होता है जो 2 से...
योग क्या है – इसका परिचय, परिभाषा, प्रकार, ल... योग / Yoga (कृपया पूरा लेख पढ़ें आप योग को भली प्रकार से समझ सकेंगे) - योग विश्व इतिहास का सबसे पुराना विज्ञानं है , जिसने व्यक्ति के अध्यात्मिक और शार...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.