पुनर्नवाष्टक क्वाथ के घटक द्रव्य एवं उपयोग

पुनर्नवाष्टक क्वाथ – आयुर्वेद चिकित्सा में क्वाथ औषधियों का उपयोग रोग के शमनार्थ पुरातन समय से ही किया जाता रहा है | क्वाथ रूप में औषधि का सेवन तीव्र स्वास्थ्य लाभ देता है, तभी क्वाथ आयुर्वेद की प्रशिद्ध औषधियां होती है | पुनर्नवाष्टक क्वाथ का उपयोग भी पेट के रोग, शोथ एवं प्लीहा व्रद्धी में प्रमुखता से किया जाता है |

पुनर्नवाष्टक क्वाथ

इस क्वाथ के निर्माण में पुनर्नवा के साथ कुल आठ औषध द्रव्यों का योग होता है तभी इसे पुनर्नवाष्टक क्वाथ पुकारा जाता है |

पुनर्नवाष्टक क्वाथ के घटक द्रव्य एवं निर्माण विधि

इस औषधीय क्वाथ के निर्माण के लिए निम्न आठ औषध द्रव्यों का उपयोग किया जाता है –


  1. पुनर्नवा – 1 भाग
  2. हरीतकी – 1 भाग
  3. निम्ब – 1 भाग
  4. दारुहरिद्रा – 1 भाग
  5. कुटकी – 1 भाग
  6. पटोल पत्र – 1 भाग
  7. गुडूची (गिलोय) – 1 भाग
  8. शुंठी – 1 भाग

इन सभी औषध द्रव्यों को समान मात्रा में लें एवं इनका यवकूट चूर्ण करलें | अच्छी तरह यवकूट करने के पश्चात सभी को आपस में मिलाने से पुनर्नवाष्टक क्वाथ का निर्माण होता है |

सेवन की विधि

पुनर्नवाष्टक का उपयोग 10 ग्राम की मात्रा में काढ़ा बनाकर करना चाहिए | काढ़े के निर्माण के लिए 250 मिली पानी में 10 से 15 ग्राम पुनर्नवाष्टक क्वाथ को डालकर तब तक उबाला जाता है जब तक पानी एक चौथाई न बचे | एक चौथाई पानी बचने पर आंच से उतार कर ठंडा करलें और छान कर प्रयोग में लें |

पुनर्नवाष्टक क्वाथ के चिकित्सकीय उपयोग 

  1. सुजन
  2. पांडू (एनीमिया)
  3. कास
  4. पेट के रोग
  5. श्वास
  6. सुजन के साथ दर्द में
  7. जोड़ों के दर्द
  8. यकृत की व्रद्धी एवं प्लीहा व्रद्धी में उपयोगी

धन्यवाद ||

2 thoughts on “पुनर्नवाष्टक क्वाथ के घटक द्रव्य एवं उपयोग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें ब्रह्म रसायन के फायदे चमत्कारिक आयुर्वेदिक औषधि

सभी उम्र के व्यक्तियों के लिए अत्यंत लाभदायी औषध है | आयुर्वेद में इसे रसायन एवं वाजीकरण औषधियों में गिना जाता है

Open chat
Hello
Can We Help You