अकरकरा औषधि परिचय एवं स्वास्थ्य उपयोग या फायदे जानें

अकरकरा – इस आयुर्वेदिक औषध द्रव्य से कम लोग ही परिचित है | आयुर्वेद के आर्ष संहिताओं में भी इस द्रव्यों का वर्णन उपलब्ध नहीं होता | इसका सर्वप्रथम वर्णन गद निग्रह एवं भाव प्रकाश में देखने को मिलता है , इसीलिए इसे अरब देश या अल्जीरिया जैसे देशों से आया माना जाता है | यह भारत का देशज पौधा नहीं है |

परन्तु अब भारत में भी पहाड़ी क्षेत्रों जैसे कश्मीर, आसाम बंगाल एवं गुजरात और महारष्ट्र के क्षेत्रों में इसके क्षुप प्रयाप्त मात्रा में देखने को मिलते है |

अधिकतर वर्षा ऋतू में इसके पौधे पनपते है जो झाड़ी नुमा होते है | पौधे के पत्र वर्षायु एवं पौधे की शाखाओं के अंत में गोल और दन्तुर रूप में लगते है |

अकरकरा

पौधे की जड़ 3″ से 4″ लम्बी और पौन इंच चौड़ी काले और धूसर रंग की होती है | अकरकरा के पौधे पर सफ़ेद, बैंगनी और पीले रंग के आकर्षक पुष्प लगते है |

अकरकरा के औषधीय गुण – धर्म एवं रासायनिक संगठन 

इसका रस कटू होता है एवं गुणों में यह रुक्ष एवं तीक्षण होती है | अकरकरा की तासीर गरम होती है अर्थात यह उष्ण वीर्य होती है | पाचन के पश्चात इसका विपाक कटू होता है | इसकी जड़ में एक उड़नशील तेल और पाईरैथ्रिन अम्ल पाया जाता है |

इसके उपयोग से खून साफ , मुंह की बदबू और शरीर की सुजन को कम करने में लाभकारी होती है | अपने औषधीय गुणों के कारण यह कफ एवं वात शामक, उतेजक वेदनास्थापन , बल्य और उत्तम बाजीकरण औषधि होती है |

विभिन्न भाषाओँ में अकरकरा के पर्याय 


संस्कृत – आकारकरभ , अकल्लक, आकरकरा, तीक्ष्ण मूल एवं लक्षणकीललकादी |

हिंदी – अकरकरा, अकलकरहा |

मराठी – आक्कल – काला, अक्कलकारा |

तमिल – अक्किरकारम |

अंग्रेजी – Pyllitory Root .

लेटिन – Anacyclus Pyrethrum


अकरकरा के स्वास्थ्य उपयोग एवं फायदे 

  • यह कफ एवं वात शामक होती है | इसके उपयोग से शरीर में बढे हुए कफ एवं वात का शमन होता है |
  • आयुर्वेद चिकित्सा में अकरकरा की मूल के चूर्ण का उपयोग किया जाता है |
  • इसके उपयोग से आयुर्वेदिक अकारकाभयादी चूर्ण का निर्माण किया जाता है जो बल्य और बाजीकरण गुणों से युक्त होता है |
  • दांतों के सभी विकारों में इसके चूर्ण का प्रयोग मंजन स्वरुप करने से लाभ मिलता है |
  • उदर विकारों में फायदेमंद होती है |
  • लालास्रावी गुण |
  • सर्दी जुकाम और अस्थमा जैसे रोगों में इसके उपयोग से लाभ मिलता है |
  • हकलाने और तुतलाहट में भी इस औषधि के उपयोग से लाभ मिलता है |
  • यह उत्तम कामशक्ति दायक औषधि है |

धन्यवाद |

Related Post

कपूर के घरेलु नुस्खो से मिलेगा स्वास्थ्य लाभ... कर्पुर / कपूर / Cinnamomum camphora कपूर के वृक्ष भारत में देहरादून, कर्नाटक, सहारनपुर, मैसूर और नीलगिरी के पर्वत श्रंखलाओ में पाए जाते है | इस...
ओस्टियोपोरोसिस / Osteoporosis – कारण, लक्षण,... ओस्टियोपोरोसिस / Osteoporosis in Hindi   आॅस्टियोपोरोसिस रोग मुख्यतः हड्डियों से सम्बंधित रोग है। आॅस्टियोपोरोसिस का अर्थ होता है हड्डियों का प...
मुर्गासन / मुर्गा-आसनात्मक क्रिया – विधि , ... पहले स्कुलों में विद्यार्थियों को मुर्गा बनाया जाता था और आज भी यह क्रिया बहुत सी स्कुलों मे विद्यार्थियों को दण्ड देने के लिए अपनाई जाती है। जी हाँ य...
सेमलकंद का आयुर्वेदिक योग शीघ्रपतन, स्वप्नदोष एवं ... वर्तमान समय में खान - पान एवं विचारों की अशुद्धि के कारण पुरुषों में शीघ्रपतन, स्वप्नदोष एवं धातु रोग की समस्या आमरूप से पाई जाती है | नवविवाहित पुरुष...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.