अकरकरा औषधि परिचय एवं स्वास्थ्य उपयोग या फायदे जानें

अकरकरा – इस आयुर्वेदिक औषध द्रव्य से कम लोग ही परिचित है | आयुर्वेद के आर्ष संहिताओं में भी इस द्रव्यों का वर्णन उपलब्ध नहीं होता | इसका सर्वप्रथम वर्णन गद निग्रह एवं भाव प्रकाश में देखने को मिलता है , इसीलिए इसे अरब देश या अल्जीरिया जैसे देशों से आया माना जाता है | यह भारत का देशज पौधा नहीं है |

परन्तु अब भारत में भी पहाड़ी क्षेत्रों जैसे कश्मीर, आसाम बंगाल एवं गुजरात और महारष्ट्र के क्षेत्रों में इसके क्षुप प्रयाप्त मात्रा में देखने को मिलते है |

अधिकतर वर्षा ऋतू में इसके पौधे पनपते है जो झाड़ी नुमा होते है | पौधे के पत्र वर्षायु एवं पौधे की शाखाओं के अंत में गोल और दन्तुर रूप में लगते है |

अकरकरा

पौधे की जड़ 3″ से 4″ लम्बी और पौन इंच चौड़ी काले और धूसर रंग की होती है | अकरकरा के पौधे पर सफ़ेद, बैंगनी और पीले रंग के आकर्षक पुष्प लगते है |

अकरकरा के औषधीय गुण – धर्म एवं रासायनिक संगठन 

इसका रस कटू होता है एवं गुणों में यह रुक्ष एवं तीक्षण होती है | अकरकरा की तासीर गरम होती है अर्थात यह उष्ण वीर्य होती है | पाचन के पश्चात इसका विपाक कटू होता है | इसकी जड़ में एक उड़नशील तेल और पाईरैथ्रिन अम्ल पाया जाता है |

इसके उपयोग से खून साफ , मुंह की बदबू और शरीर की सुजन को कम करने में लाभकारी होती है | अपने औषधीय गुणों के कारण यह कफ एवं वात शामक, उतेजक वेदनास्थापन , बल्य और उत्तम बाजीकरण औषधि होती है |

विभिन्न भाषाओँ में अकरकरा के पर्याय 


संस्कृत – आकारकरभ , अकल्लक, आकरकरा, तीक्ष्ण मूल एवं लक्षणकीललकादी |

हिंदी – अकरकरा, अकलकरहा |

मराठी – आक्कल – काला, अक्कलकारा |

तमिल – अक्किरकारम |

अंग्रेजी – Pyllitory Root .

लेटिन – Anacyclus Pyrethrum


अकरकरा के स्वास्थ्य उपयोग एवं फायदे 

  • यह कफ एवं वात शामक होती है | इसके उपयोग से शरीर में बढे हुए कफ एवं वात का शमन होता है |
  • आयुर्वेद चिकित्सा में अकरकरा की मूल के चूर्ण का उपयोग किया जाता है |
  • इसके उपयोग से आयुर्वेदिक अकारकाभयादी चूर्ण का निर्माण किया जाता है जो बल्य और बाजीकरण गुणों से युक्त होता है |
  • दांतों के सभी विकारों में इसके चूर्ण का प्रयोग मंजन स्वरुप करने से लाभ मिलता है |
  • उदर विकारों में फायदेमंद होती है |
  • लालास्रावी गुण |
  • सर्दी जुकाम और अस्थमा जैसे रोगों में इसके उपयोग से लाभ मिलता है |
  • हकलाने और तुतलाहट में भी इस औषधि के उपयोग से लाभ मिलता है |
  • यह उत्तम कामशक्ति दायक औषधि है |

धन्यवाद |

Related Post

त्रिभुवनकीर्ति रस (Tribhuvan Kirti Ras) – के... त्रिभुवनकीर्ति रस / Tribhuvan Kirti Ras In Hindi  आयुर्वेद रस रसायनों में वर्णित यह औषधि सभी प्रकार के तरुण ज्वर, वात एवं कफ प्रधान ज्वर आदि में प्रय...
विटामिन डी – कमी से रोग, स्रोत और महत्व... विटामिन डी विटामिन डी वसा में घुलनशील दूसरा महत्वपूर्ण विटामिन है। विटामिन मुख्यतया दो प्रकार का होता है - विटामिन डी2 और विटामिन डी3 । विटामिन डी2 क...
तुलसी ( ocimum sanctum ) – अनेक रोगों की एक ... तुलसी (Ocimum Sanctum) update on - 08/11/2017 तुलसी एक दिव्या पौधा है जो भारत के हर घर में मिलजाता है | भारतीय संस्कृति में तुलसी का बहुत महत्वपूर...
मर्दाना ताकत बढ़ाने के उपाय | मर्दाना कमजोरी के ल... मर्दाना ताकत बढ़ाने के उपाय आज के समय में हर उम्र के लोग इस समस्या से झुझते दिखाई पड़ते है | चाहे 20 साल का युवा हो या 40 की उम्र का प्रोढ़ व्यक्ति अध...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.