काकड़ासिंगी (कर्कटश्रंगी) – परिचय, गुणधर्म एवं उपयोग

काकडासिंगी (कर्कटश्रंगी) / Pistacia integerrima

इसका वृक्ष 25 से 30 फीट तक ऊँचा होता है | भारत में पंजाब, पश्चिमी हिमालय, टिहरी गढ़वाल और हिमाचल प्रदेश में पाए जाते है | काकड़ासिंगी की छाल भूरे और काले रंग की होती है | वृक्ष के पत्र 3 से 6 इंच लम्बे, नुकीले और भालाकृति के होते है एवं पत्रों की चौड़ाई 1 से 2 इंच होती है | अधिकांश समुद्र तल से 600 से 2500 मीटर की ऊंचाई पर अधिक होते है | इसका वृक्ष लम्बा होता है एवं आरंभ में यह मोटी होती है एवं बाद में धीरे – धीरे पतली होने लगती है |

काकड़ासिंगी

काकड़ासिंगी के पुष्प छोटे – छोटे और दलरहित होते है | फल गोल, धूसर, झुर्रीदार एवं पोले सिंग के सामान होते है |

काकड़ासिंगी का रासायनिक संगठन 

इसमें टेनिन 60%, गोंद 5% एवं इसके अलावा राल, रेवेदार एसिड पाया जाता है | साथ ही इसमें के पीले रंग का उड़नशील तेल मिलता है |

गुणधर्म एवं रोग प्रभाव 

कर्कटश्रंगी का रस कषाय और तिक्त होता है | विपाक में यह कटु एवं उष्ण वीर्य की होती है | गुणों में यह लघु, रुक्ष एवं उष्ण स्वाभाव की होती है | अपने इन्ही गुणों के कारण यह कृमि, कफ और वात को नष्ट करने वाली होती है | रोगप्रभाव में हिक्का, श्वास, छर्दी, अतिसार, गृहणी, बाल रोग, रक्तविकार, क्षय, वमन, प्यास, मूर्छा और अग्निमंध्य जैसे रोगों में प्रभावी औषधि साबित होती है |

प्रयोज्य अंग, मात्रा एवं विशिष्ट योग 

आयुर्वेद में इसके श्रंगाकार कोष का इस्तेमाल किया जाता है | इसका सेवन 500 mg से 2 gm तक करना चाहिए | आयुर्वेद चिकित्सा में इसके प्रयोग से बाल चातुरभद्रिका एवं स्र्न्गयादी चूर्ण का निर्माण किया जाता है |

काकड़ासिंगी के फायदे एवं औषधीय उपयोग 

  • वातरोगों और प्रसूतिज्वर में पिपरामुल , सोंठ तथा काकड़ासिंगी समान भाग में लेकर चूर्ण बना कर सेवन करने से लाभ मिलता है |
  • बच्चो के ज्वर, खांसी तथा वमन में यह बहुत लाभदायक है | काकड़ासिंगी, नागरमोथा, छोटी पीपर तथा अतिस – चारों को सम्भाग लेकर कूट- पीस कर चूर्ण करले | बच्चों की आयु अनुसार इसकी मात्रा शहद के साथ चटायें |
  • बिच्छु तथा सर्प का विष उतारने के लिए काकड़ासिंगी का अन्य औषधियों के साथ प्रयोग किया जाता है |
  • यदि मसूड़ों से खून गिरता हो तो इसके काढ़े से गरारे करने पर लाभ होता है |
  • काकड़ासिंगी और कायफल का चूर्ण लेने से दमा नियंत्रित रहता है |
  • पेट में जलन से होने वाली हिचकी, वमन तथा अतिसार में काकड़ासिंगी का सेवन गुणकारी होती है |

धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You