लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि – इसके स्वास्थ्य लाभ एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण / Lavan Bhaskar Churna in Hindi

आयुर्वेद में रोगों के इलाज के लिए सबसे अधिक चूर्ण का इस्तेमाल किया जाता है | लवण भास्कर चूर्ण भी आयुर्वेद का प्रसिद्ध चूर्ण है | इसका प्रयोग कब्ज, गैस, एसिडिटी, अरुचि व पाचन सम्बन्धी समस्याओं में फायदेमंद होता है | लवण भास्कर चूर्ण के निर्माण के लिए जिन औषध द्रव्यों का इस्तेमाल किया जाता है वे सभी हमारे लिए अत्यंत लाभदायी होते है | यह कब्ज, गैस, एसिडिटी और पाचन सम्बन्धी सभी समस्याओं में बेहतर परिणाम देता है |

लवण भास्कर चूर्ण

लवण भास्कर चूर्ण निर्माण में उपयोग ली जाने वाली औषधियां / Ingredients of Lavan Bhaskar Churna 

  1. सेंधानमक – 50 ग्राम
  2. सांभर नमक – 50 ग्राम
  3. समुद्र नमक – 50 ग्राम
  4. विडनमक – 50 ग्राम
  5. सौंचर नमक – 50 ग्राम
  6. कालीमिर्च – 7 ग्राम
  7. सोंठ – 7 ग्राम
  8. पीपल – 7 ग्राम
  9. नौसादर – 7 ग्राम
  10. निम्बू का सत्व – 7 ग्राम
  11. हिंग – 15 ग्राम
  12. इलायची – 6 ग्राम
  13. नागकेशर – 6 ग्राम
  14. मन्दार के पुष्प का भीतरी हिस्सा – 15 ग्राम

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि / How to Make Lavan Bhaskar Churna

सबसे सभी पांचो नमक और नौसादर को ऊपर बताई गई मात्रा में लेकर इनका महीन चूर्ण कर ले | अब हिंग को गाय के घी में भुन कर इसे अलग रख ले | बाकी बचे द्रव्यों को कूट – पीसकर इनका भी चूर्ण कर ले | इन सभी द्रव्यों को आपस में मिलकर ऊपर से निम्बू का सत्व मिलकर फिर से खरल करे | अच्छी तरह खरल करने के बाद इस चूर्ण को कपडे से छान ले और किसी पात्र में सहेज कर रखे | आपका लवण भास्कर चूर्ण तैयार है |

सेवन की मात्रा / Doses 

इसका सेवन 1 से 4 ग्राम तक किया जा सकता है | भोजन करने के पश्चात सुबह एवं शाम के समय सेवन किया जा सकता है | रोग की गंभीरता के अनुसार इसे दिन में 4 से 5 बार भी उपयोग कर सकते है |

लवण भास्कर चूर्ण को शीतल जल, गरम जल, मट्ठा, अजवाइन अर्क, अर्क सौंफ और निम्बू के शरबत के साथ प्रयोग करना चाहिए | अनुपान के साथ ग्रहण करने से अधिक लाभ मिलता है |

लवण भास्कर चूर्ण के स्वास्थ्य लाभ या फायदे / Benefits of Lavan Bhaskar Churna in Hindi

  • आमशुल में इस्तेमाल करने से जल्द ही आराम मिलता है |
  • भूख न लगती हो तो इसके चूर्ण को 2 ग्राम की मात्रा में मट्ठे के साथ उपयोग करने से जल्द ही भूख बढ़ जाती है |
  • अजीर्ण और अपच में भी इसका सेवन फायदा देता है |
  • पेट अगर भारी – भारी प्रतीत होतो गरम जल के साथ सेवन करे |
  • गैस की समस्या होने पर इसका सेवन करने से जल्द ही गैस की समस्या से छुटकारा मिलता है |
  • धातु की विकृतियों में सेवन से लाभ मिलता है |
  • वायु के कारण पेट आदि में दर्द होतो लवण भास्कर चूर्ण की 2 से 3 ग्राम की मात्रा सेवन से लाभ मिलेगा |
  • डकारें अधिक आ रही हो तो शीतल जल के साथ सेवन से डकारें आना बंद हो जाती है |
  • कब्ज होने पर इसका इस्तेमाल करने से जल्द ही कब्ज टूट जाती है |
  • लवण भास्कर पित्त को भी बढ़ने से रोकता है | अत: इसके इस्तेमाल से पित्त की वृद्धि नहीं होती |

 

100% शुद्ध प्राकृतिक जड़ी – बूटियो से निर्मित उच्च गुणवता का लवण भास्कर चूर्ण amazon पर उपलब्ध है जिसका लिंक निचे दिया गया है –

Related Post

लक्षादी चूर्ण बनाने की विधि... लक्षादी चूर्ण लक्षादी चूर्ण बनाने की विधि - सबसे पहले नील कमल के फूलो को लेकर इनको सुखा ले | अब नील कमल के सूखे फुलों के साथ - मुलहठी, भुनी हुई हल्...
त्रिभुवनकीर्ति रस (Tribhuvan Kirti Ras) – के... त्रिभुवनकीर्ति रस / Tribhuvan Kirti Ras In Hindi  आयुर्वेद रस रसायनों में वर्णित यह औषधि सभी प्रकार के तरुण ज्वर, वात एवं कफ प्रधान ज्वर आदि में प्रय...
लवंगादि वटी के स्वास्थ्य उपयोग, फायदे एवं बनाने की... लवंगादि वटी के स्वास्थ्य उपयोग, फायदे एवं बनाने की विधि  आयुर्वेद में प्राचीन समय से ही वटी कल्पना का इस्तेमाल होता आया है | आधुनिक चिकित्सा में प्रय...
अग्निमंध्य ( Indigestion ) कारण – लक्षण और घ... अग्निमंध्य  भूख न लगने या जठराग्नि के मंद पड़ जाने को अग्निमंध्य कहते है | इस रोग में अमास्य की पचाने की शक्ति कम हो जाती है | जिससे खाया-प...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.