लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि – इसके स्वास्थ्य लाभ एवं फायदे

लवण भास्कर चूर्ण / Lavan Bhaskar Churna in Hindi

आयुर्वेद में रोगों के इलाज के लिए सबसे अधिक चूर्ण का इस्तेमाल किया जाता है | लवण भास्कर चूर्ण भी आयुर्वेद का प्रसिद्ध चूर्ण है | इसका प्रयोग कब्ज, गैस, एसिडिटी, अरुचि व पाचन सम्बन्धी समस्याओं में फायदेमंद होता है | लवण भास्कर चूर्ण के निर्माण के लिए जिन औषध द्रव्यों का इस्तेमाल किया जाता है वे सभी हमारे लिए अत्यंत लाभदायी होते है | यह कब्ज, गैस, एसिडिटी और पाचन सम्बन्धी सभी समस्याओं में बेहतर परिणाम देता है |

लवण भास्कर चूर्ण

लवण भास्कर चूर्ण निर्माण में उपयोग ली जाने वाली औषधियां / Ingredients of Lavan Bhaskar Churna 

  1. सेंधानमक – 50 ग्राम
  2. सांभर नमक – 50 ग्राम
  3. समुद्र नमक – 50 ग्राम
  4. विडनमक – 50 ग्राम
  5. सौंचर नमक – 50 ग्राम
  6. कालीमिर्च – 7 ग्राम
  7. सोंठ – 7 ग्राम
  8. पीपल – 7 ग्राम
  9. नौसादर – 7 ग्राम
  10. निम्बू का सत्व – 7 ग्राम
  11. हिंग – 15 ग्राम
  12. इलायची – 6 ग्राम
  13. नागकेशर – 6 ग्राम
  14. मन्दार के पुष्प का भीतरी हिस्सा – 15 ग्राम

लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि / How to Make Lavan Bhaskar Churna

सबसे सभी पांचो नमक और नौसादर को ऊपर बताई गई मात्रा में लेकर इनका महीन चूर्ण कर ले | अब हिंग को गाय के घी में भुन कर इसे अलग रख ले | बाकी बचे द्रव्यों को कूट – पीसकर इनका भी चूर्ण कर ले | इन सभी द्रव्यों को आपस में मिलकर ऊपर से निम्बू का सत्व मिलकर फिर से खरल करे | अच्छी तरह खरल करने के बाद इस चूर्ण को कपडे से छान ले और किसी पात्र में सहेज कर रखे | आपका लवण भास्कर चूर्ण तैयार है |

सेवन की मात्रा / Doses 

इसका सेवन 1 से 4 ग्राम तक किया जा सकता है | भोजन करने के पश्चात सुबह एवं शाम के समय सेवन किया जा सकता है | रोग की गंभीरता के अनुसार इसे दिन में 4 से 5 बार भी उपयोग कर सकते है |

लवण भास्कर चूर्ण को शीतल जल, गरम जल, मट्ठा, अजवाइन अर्क, अर्क सौंफ और निम्बू के शरबत के साथ प्रयोग करना चाहिए | अनुपान के साथ ग्रहण करने से अधिक लाभ मिलता है |

लवण भास्कर चूर्ण के स्वास्थ्य लाभ या फायदे / Benefits of Lavan Bhaskar Churna in Hindi

  • आमशुल में इस्तेमाल करने से जल्द ही आराम मिलता है |
  • भूख न लगती हो तो इसके चूर्ण को 2 ग्राम की मात्रा में मट्ठे के साथ उपयोग करने से जल्द ही भूख बढ़ जाती है |
  • अजीर्ण और अपच में भी इसका सेवन फायदा देता है |
  • पेट अगर भारी – भारी प्रतीत होतो गरम जल के साथ सेवन करे |
  • गैस की समस्या होने पर इसका सेवन करने से जल्द ही गैस की समस्या से छुटकारा मिलता है |
  • धातु की विकृतियों में सेवन से लाभ मिलता है |
  • वायु के कारण पेट आदि में दर्द होतो लवण भास्कर चूर्ण की 2 से 3 ग्राम की मात्रा सेवन से लाभ मिलेगा |
  • डकारें अधिक आ रही हो तो शीतल जल के साथ सेवन से डकारें आना बंद हो जाती है |
  • कब्ज होने पर इसका इस्तेमाल करने से जल्द ही कब्ज टूट जाती है |
  • लवण भास्कर पित्त को भी बढ़ने से रोकता है | अत: इसके इस्तेमाल से पित्त की वृद्धि नहीं होती |

 

100% शुद्ध प्राकृतिक जड़ी – बूटियो से निर्मित उच्च गुणवता का लवण भास्कर चूर्ण amazon पर उपलब्ध है जिसका लिंक निचे दिया गया है –

Related Post

तुलसी ( ocimum sanctum ) – अनेक रोगों की एक ... तुलसी (Ocimum Sanctum) update on - 08/11/2017 तुलसी एक दिव्या पौधा है जो भारत के हर घर में मिलजाता है | भारतीय संस्कृति में तुलसी का बहुत महत्वपूर...
वचा / बच (Acorus Calamus) – वच के फायदे पढ़ ल... वचा / बच / Acorus Calamus यह नम जमीन में बारहों महीने पैदा होने वाला पौधा होता है | यह मूल रूप से मध्य एशिया और यूरोप का पौधा है | भारत में प्राचीन स...
अपामार्ग (चिरचिटा) क्या है || जाने इसका सम्पूर्ण प... अपामार्ग / Apamarg (Achyranthes aspera Linn.) भारत में वर्षा ऋतू के साथ ही बहुत सी वनौषधियाँ पनपने लगती है | अपामार्ग जिसे चिरचिटा, चिंचडा या लटजीरा ...
सिंहनाद गुग्गुलु – जाने इसके फायदे, निर्माण ... सिंहनाद गुग्गुलु (Singhnad Guggulu) - आयुर्वेद की यह दवा वातदोषों के उपचारार्थ उपयोग में ली जाती है | इसका प्रयोग आमवात , वातरक्त, रुमाटाइड पेन एवं सं...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.