माइक्रो बायोलॉजी, स्वास्थ्य

बैक्टीरिया क्या होते है ? – इसके प्रकार एवं बैक्टीरिया से होने वाली बीमारियाँ |

बैक्टीरिया

बैक्टीरिया क्या होते है ? / What is Bacteria in Hindi ?

बैक्टीरिया का नाम सुनते ही लोगों को डर लगने लगता है | क्या बैक्टीरिया हमारे लिए घातक होते है ? नहीं | दरशल सभी बैक्टीरिया हमारे लिए घातक नहीं होते , इनमे से कुछ बैक्टीरिया ही होते है जो मनुष्य के लिए खतरनाक होते है अर्थात जिनसे हमें बीमार पड़ने का खतरा रहता है |

बैक्टीरिया

बैक्टीरिया एक कोशिकीय जीवाणु होते है | जिन्हें खुली आँखों से नहीं देखा जा सकता | इन्हें देखने के लिए माइक्रोस्कोप का प्रयोग किया जाता है | ये हमारे आसपास वायु में , जमीन पर और यहाँ तक की हमारे भोजन में भी पाए जाते है | ये हमारी त्वचा पर , जुबान पर , पेट में , आंतो में , मुहं में भी उपस्थित रहते है |

ये सभी हानिकारक या बीमार पैदा करने वाले नहीं होते, अधिकांश बैक्टीरिया हमारे लिए एवं प्रकृति के लिए लाभदायक होते है | जैसे हमारी आंतो में रहने वाले Bacteria रोगजनक जीवाणुओं को खत्म करके हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में सहायक होते है | साथ ही शरीर में एंजाइम और विटामिनों के पोषण और निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका भी निभाते है |

बैक्टीरिया के प्रकार एवं इनसे होने वाली बीमारियाँ

बैक्टीरिया विभिन्न प्रकार के होते है | आज भी वैज्ञानिक नए – नए Bacteria की खोज कर रहे है अत: इनके सभी प्रकारों का वर्णन करना संभव नहीं है | इसलिए हमने कुछ सामान्य और महत्वपूर्ण Bacteria के प्रकारों एवं उनसे होने वाली बीमारियों का वर्णन किया है |

  1. कोकाई (Cocci)
  2. बेसिलाई (Bacilli)
  3. स्पाईरोकिट्स (Spirochaetes)

क्योंकि Bacteria को मुख्यत: तीन भागों में विभाजित किया जाता है | इन सभी प्रकारों में विभिन्न प्रकार के अन्य Bacteria आते है लेकिन उनका विभाजन उनके कार्यो एवं प्रभावों के आधार पर होता है | जैसे कोकाई समूह के Bacteria के विभिन्न पहलुओं के आधार पर इसे विभिन्न वर्गों में विभाजित किया जा सकता है |

1. कोकाई (Cocci) बैक्टीरिया क्या है एवं उससे होने वाली बीमारियाँ

इस प्रकार के जीवाणु गोलाकार, अंडाकार या राउंड शेप में होते है | इस प्रकार के जीवाणुओं को इनके बढ़ने के प्रकार पर अन्य विभिन्न भागों में बांटा जा सकता है | जैसे जब ये गुच्छों में या समूहों में बढ़ते है तब इन्हें स्टेफिलोकोकाई (Staphylococci) कहा जाता है एवं जब ये जोड़ों के रूप में बढ़ते है तो इन्हें डिप्लोकोकाई (Diplococci) Bacteria कहा जाता है |

  staphylococci  streptococci

इसी प्रकार से कुछ कोकाई को उनके द्वारा शरीर में होने वाली बीमारी के नाम से से भी जाना जाता है | जैसे फुफ्स्सों की सामान्य बीमारी जिसे न्युमोनिया कहते है , प्राय: कोकाई के कुछ निश्चित समूह के कारण होती है, जिन्हें “न्युमोकोकाई” कहते हैं | वहीँ कुछ कोकाई शरीर में बीमारी पैदा करने के साथ – साथ पीप भी बनाती है | उन्हें “पीपजनक जीवाणु” (Pyogenic Organisms) कहते है |

निचे दी गई टेबल से आप विभिन्न कोकाई Bacteria के नाम , उसके प्रभाव एवं उनसे होने वाली बीमारियों के बारे में जान सकते है –

कोकाई बैक्टीरिया का नामशरीर पर प्रभावबीमारियाँ
स्टेफिलोकोकाईपीप बनाते है | तीव्र प्रदाह (जलन), फोड़े हो जाते है साथ ही घाव भी बनते है |ब़ोईलस, कार्बनक्लस , इम्पिटाईगो, अस्थि के घाव जैसे - ओस्टियोओमाईलाइटिस, ओटाईटिस आदि | न्युमोनिया, सेप्टिसिमिया
स्ट्रेप्टोकोकाईतीव्र प्रदाह के साथ पीप एवं घाव बन जाता हैस्कारलेट बुखार, सेल्युलैटिस, तीव्र टोन्सीलाइटिस, ओटाईटिस मिडिया, मष्तिष्क की बुखार, न्युमोनिया एवं तीव्र बैक्टीरियल एंडोकार्डटिस आदि |
न्युमोकोकाईतीव्र प्रदाह के साथ पीपलोबर एवं ब्रान्को प्रकार का न्युमोनिया, ओटाईटिस मिडिया, मेनिन्जाईटिस (मष्तिष्क की बुखार), पेरिटोनाईटिस आदि रोग |
मेनिन्गोकोकाईतीव्र प्रदाह के साथ पीपमेनिन्जटाईटिस अर्थात मष्तिष्क की बुखार |
गोनकोकाईतीव्र एवं दीर्घ प्रदाह के साथ पीप |गोनेरिया, गंभीर युरेथ्राईटिस, पुरुषों में प्रोस्टेट्राईटिस एवं स्त्रियों में तीव्र वेजाइनाइटिस एवं सल्पिजाइटिस रोग |

2. बेसिलाई (Bacilli) बैक्टीरिया एवं इससे होने वाली बीमारी

बेसिलाई प्रकार के बैक्टीरिया गोलाकार होने की बजाय छड़ के आकार (Rod Shaped) के होते है | ये विभिन्न प्रकार की बीमारियाँ जैसे – क्षय रोग, ड़ीफ्थिरीया, टाइफ़ाइड जैसे रोग पैदा करते है | इन्ही रोगों के आधार पर बेसिलाई बेक्टेरिया को विभिन्न भागों में विभक्त किया जाता है अर्थात बेसिलाई बैक्टीरिया को भिन्न भिन्न नामो से पुकारा जाता है |

bacilli  

निचे दी गई सारणी से आप बेसिलाई जीवाणुओं के प्रकार , उनके प्रभाव और बेसिलाई जीवाणुओं से होने वाली बिमारियों का संक्षिप्त विवरण मिलेगा –

बेसिलाई समूह के बैक्टीरिया का नामरोग प्रभावबीमारियाँ
क्षयरोग बेसिलाईविशिष्ट प्रकार का प्रदाह होता है , ट्यूबरकल्स बनते हैं जो अधिकतर टूट जाते है , घाव बनता है |इससे कई प्रकार के क्षयरोग हो जाते है जैसे - फेफड़ों का क्षय रोग, ग्रंथिय क्षयरोग, अस्थियों का क्षयरोग आदि |
कोलिफोर्म बेसिलाईतीव्र प्रदाह के साथ पीप का बननापाइलाईटिस, सिस्ताइतिस, पेरीटोनाइटिस, मेनिन्जाईटिस एवं सूतिकावस्था के संक्रमण
परट्युसिस बेसिलाईतीव्र संकरामक बुखार जो फेफड़ों को प्रभावित करती है |काली खांसी या कुकर खांसी
डीफ्थीरिया बेसिलाईस्थानिक घाव, डीफ्थीरिटिक झिल्ली पर प्रभावडीफ्थीरिया, टोक्सिन से एल्ब्युमिनुरिया एवं न्यूराइटिस आदि रोग हो जाते है |
टाईफाईड बेसिलाईसंक्रामक बुखार के साथ तीव्र प्रदाह , रक्त में अधिक आक्रमणटाईफाईड एवं एन्टरिक बुखार
डिसेंट्री (पेचिस) बेसिलाईतीव्र प्रदाह के साथ आन्तरिक मार्ग के घाव एवं टोक्सिन बनते है |पेचिस रोग
साल्मोनेलो बेसिलाईआन्तरिक मार्ग का तीव्र प्रदाह एवं टोक्सिन का बननाआहार विषाक्तता |
इन्फ्लूएंजा बेसिलाईतीव्र प्रदाह के साथ पीपइन्फ्लूएंजा प्रमष्तिष्क बुखार
टेटनस बेसिलाईस्नायु कोशिकाओं पर विशेष प्रभाव पड़ता है एवं टोक्सिन बनते हैटेटनस रोग |

3.स्पाईरोकिट्स बैक्टीरिया एवं बीमारी

यह बैक्टीरिया का सबसे अंतिम और महत्वपूर्ण समूह है | इस समूह के जीवाणु / Bacteria कोकाई या बेसिलाई समूह के जीवाणुओं से अधिक बड़े होते है | इनका शरीर कई जगह से मुड़ा (Curved) होता है | अन्य सभी प्रकार के समूहों से इस प्रकार के जीवाणुओं से कम बीमारियाँ होती है | लेकिन सिफलिस नामक बीमारी भी स्पाईरोकिट्स बैक्टीरिया के कारण होती है जो इसके समूह से होने वाली सबसे अधिक गंभीर बीमारी मान सकते है |

स्पाईरोकिट्स बैक्टीरिया से होने वाली बीमारियों के लिए इस सारणी को देखें –

बैक्टीरिया का नामशरीर पर रोगात्मक प्रभावबीमारियाँ
ट्रेपोनेमा पैलीडमदीर्घ प्रदाह के साथ तन्तुमयता (Fibrosis), इससे होने वाले घाव के कारण हृदय, धमनियां और स्नायु उतक प्रभावित होते हैसिफलिस
लेप्टोस्पाईरा इक्टेरोहेमरेजियाटोक्सिन जो अधिकतर यकृत को प्रभावित करते है |विल्स बीमारी अर्थात स्पाईरोकित्ल पीलिया
बोरेलिया विन्सेंटाईतीव्र प्रदाह और गले एवं मसूड़ों के घाव

यह भी पढ़ें – काली खांसी के उपाय |

धन्यवाद |

Avatar

About स्वदेशी उपचार

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.