प्याज के इन घरेलु नुस्खों से मिलेगी राहत

प्याज के घरेलु नुस्खे
प्याज के घरेलु नुस्खे

प्रायः हमारे सभी घरों में प्याज का इस्तेमाल किया जाता है। प्याज की उपयोगिता से तो सभी वाकिफ होंगे। क्योंकि प्याज एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसके बैगर हम किसी स्वादिष्ट सब्जि या मसालेदार व्यंजन की कल्पना भी नहीं कर  सकते ।    जितना उपयोगी प्याज रशोई के लिए है उससे अधिक इसके घरेलु चिकित्सा में प्रयोग हैं जिसको अपना कर आप कई समस्यों से दुर रह सकते हैं।

 

तो आइए जानते हैं प्याज के घरेलु नुस्खे

बवासिर में – बवासिर होने पर आधा कप प्याज का रस, दो चम्मच पिसी हुई मिश्री, आधा कप पानी मिलाकर दो बार नित्य पीने से बवासिर में रक्त आना बंद हो जाता है।

खट्ठी डकारें – प्याज को उबालकर या गर्म राख में सेक कर खाने से खट्ठी डकारे आनी बंद हो जाती हैं।

अनिद्रा – कच्ची , उबली हुई और भूनी हुई प्याज को खाने से अनिद्रा की शिकायत दुर होती है। लेकिन अनिद्रा रोग के इस नुस्खें में लाल प्याज की जगह सफेद प्याज का इस्तेमाल करना चाहिए।

फोड़ा – एक प्याज को पीस ले और इसमें थोड़ा सा नमक मिलाकर फोड़े पर लगाने से फोड़ा जल्दि ही बैठ जाता है।

दस्त या अजिर्ण में – चार चम्मच प्याज का रस, इतना ही पानी और स्वाद के अनुसार नमक मिला कर भोजन के बाद पीयें। इससे खाना शीघ्र पचेगा और अजिर्ण एवं अपच की शिकायत नही होगी। यदि दस्त लगें हो तो प्याज के रस में नमक मिलाकर दिन में तीन बार सेवन करने से दस्त की समस्या भी जाती रहती है।

गैस – दस बूँद लहसून का रस ले। एक चम्मच प्याज और अदरक का रस ले , इसमें दो चम्मच शहद और समान मात्रा में पानी मिलाकर सेवन करने से गैस की समस्या से निजात मिलेगी।

जलना – अगर शरीर कहीं से जल गया हो तो उस जले हेए स्थान पर प्याज को पीसकर उसका कल्क लगाने से जल्द ही जला हुआ भाग ठीक हो जाता है और फोड़ा भी नहीं उठता।

फ्लू – एक चम्मच प्याज का रस एक चम्मच शहद में मिलाकर चार बार नित्य प्रयोग करने से जल्द ही फ्लू ठीक हो जाता है।

रक्तशोधक – प्याज एक अच्छा रक्त शोधक भी है। रक्त शुद्धता के लिए प्याज का रस चैथाई कप और एक नींबू का रस मिलाकर दस दिन तक सेवन करें यह प्रयोग आपके रक्त में उपस्थित अशुद्धि को दुर करेगा। प्याज के रस में नींबू की जगह शहद मिलाकर पीने से भी यह नुस्खा रक्त को शोधित करता है।

कूकर खाँसी – इस रोग में दो चम्मच प्याज का रस दो चम्मच पानी में मिला कर नित्य दो बार पिलाने से लाभ होता है।

गठिया रोग – नित्य दो प्याज का रस पिना गठिया रोग में बेहतर परिणाम देता है।

खुजली – शरीर में कहीं पर भी खुजली हो तो सरसों के तेल और प्याज का रस समान मात्रा में मिलाकर शरीर पर मालिश करने से खुजली मिट जाती है।

घाव में – प्याज की पूलटीस बनाकर घाव पर लगाने से घाव जल्दी भरता है।

चोट में प्याज के घरेलु नुस्खे – दो चम्मच पिसी हुई हल्दी, एक चम्मच प्याज के रस में मिलाकर कपड़े में इसकी पोटली बाँध कर सरसों के गर्म तेल में डुबो कर चोट ग्रस्त अंग का सेक करें। फिर इसे चोट वाली जगह लेप करके वह कपड़ा भी लपेट दें और रूई लगा कर पट्टी बाँध दें। दो चम्मच प्याज का रस और एक चम्मच शहद मिलाकर दो बार नित्य चाटें। चोट का दर्द और सूजन ठीक हो जाएगी।

यकृत – यकृत और तिल्ली के रोगों में कच्चे प्याज की चटनी नित्य दो बार खाने से लाभ होता है।

जुएँ – प्याज के रस से बालों को तर करके दस मिनट बाद सिर धोयें। जुएँ नष्ट हो जायेंगी।

टाॅन्सिलाइटिस – टाॅन्सिल की समस्या में प्याज का रस दो चम्मच एक गिलास गर्म पानी में मिलाकर गरारे करने से लाभ होता है।

दमा – तीन चम्मच प्याज का रस, तीन चम्मच शहद में मिलाकर नित्य प्रातः सूरज उगने से पहले दो माह चाटने से दमा ठीक हो जाता है।

दाद – प्याज के बीज नीबू के रस में पीसकर नित्य दो बार दाद पर लगाने से दाद ठीक हो जाता है।

श्वेत प्रदर – सुबह-शाम दो बार दो चम्मच प्याज का रस और दो चम्मच शहद मिलाकर पीयें।

पायोरिया – प्याज के रस से कुल्ला करने से पायोरिया में लाभ होता है।

धन्यवाद |

 

Related Post

अदरक – अदरक के फायदे और घरेलू नुस्खे... अदरक ( Zinzer ) अदरक एक  औषधीय मसाला है जिसका  उपयोग भारतीय रसोई में प्रमुखता से किया जाता है | सर्दी - जुकाम और खांसी आदि रोगों में अदरक के घर...
मासिक धर्म का रुक – रुक के आना – अनियम... अनियमित मासिक धर्म क्या आप भी अनियमित माहवारी की समस्या से गुजर रही है ? अगर हाँ तो आज इस लेखमें महिलाओं के अनियमित मासिक धर्म या मासिक धर्म के र...
गर्मी में दस्त रोकने के 3 बेहतरीन औषधीय योग एवं 10... गर्मी में दस्त रोकने के उपाय :- अगर आप दस्त लगने की समस्या से झुझ रहे है तो यह लेख आपके लिए है | आयुर्वेद में कई एसी विद्याएँ एवं औषधीय योग है जो लगात...
शरपूंखा (प्लीहा शत्रु ) – सामान्य पारिचय एवं... शरपूंखा / Tephrosia purpurea pers शरपुन्खा सर्वत्र भारत में पाया जाता है | यह मटर के प्रजाति का पौधा है जो क्षुप रूप में 1 से 3 फुट तक ऊँचा ह...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.