[PDF 2023] रस तन्त्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह बुक डाउनलोड | Ras Tantra Sar Siddha Prayog Sangrah PDF eBook

[PDF 2023] रस तन्त्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह बुक डाउनलोड | Ras Tantra Sar Siddha Prayog Sangrah PDF eBook
  • Version 27
  • Download 2388
  • File Size 51.2 Mb
  • Create Date अप्रैल 8, 2023

रस तन्त्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह PDF eBook यहाँ हमारी वेबसाइट से Download कर सकते हैं | आचार्य कृष्ण गोपाल द्वारा लिखित यह किताब आयुर्वेद दवाओं एवं रस रसायनों का एक अनूठा संग्रह है | इसमें वैद्य जी द्वारा लिखित एवं अनुभूत विशेष औषधीय योगों का वर्णन है | आप इसे अमेज़न एवं अन्य ebook सेल्लिंग वेबसाइट से हार्डकॉपी भी खरीद सकते है |

Ras Tantra Sar Siddha Prayog Sangrah Details:

  • Book Name: रस तन्त्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह PDF
  • Size: 51 mb
  • Total Page: 922
  • Writer: Swami Krishnand ji Maharaj
  • Publisher: Krishan Gopal Ayurved Bhavan, Kalera
  • Part: I, II
  • First Published: July 1932

पुस्तक का संक्षिप्त विवरण

यह आयुर्वेदिक पुस्तक दो खण्डों में है प्रथम खण्ड में आयुर्वेदिक परिभाषाएँ, द्रव्य शोधन प्रकरण, भस्म प्रकरण, कुपिपक्व प्रकरण, प्रपटी प्रकरण, खरलीय रसायन, गुग्गुलु, गुटिका, चूर्ण एवं कषाय प्रकरण की दवाओं का विवरण मिलता है |

दुसरे खण्ड में सभी दवाओं का मिश्रण मिलता है जिसमे जो दवाएं एवं शास्त्रीय योग प्रथम खण्ड में नहीं लिखे गए उन्हें 'रसतंत्र सार एवं सिद्ध प्रयोग संग्रह' के दुसरे खण्ड में जगह मिली है |  कृष्ण गोपाल ग्रंथमाला के 31 पुस्तके आज तक प्रकाशित हुए हैं | कुछ मुख्य ग्रंथो का परिचय भी अलग से दिया हुआ है | इस रसतंत्रसार व सिद्धप्रयोगसंग्रह ग्रन्थ की प्रतिष्ठा सत्य एवं मानव सेवा पर आधारित है |

इस पुस्तक का मुख्य उद्देश्य है कि आयुर्वेद जगत में कोई भी प्रयोग गुप्त नहीं रखा जाये | और इसी उद्देश्य के आधार पर सभी गुप्त योगों का वर्णन भी इस पुस्तक में मिलता है |

रस तन्त्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह PDF Book की विशेषताएं

  • पुरातन आयुर्वेदीय योग, उनकी बनावट (निर्माण) एवं उपयोगों को सरलता से अपने अनुभव के आधार पर प्रकट करना |
  • चिकित्साक्षेत्र में आधुनिक विज्ञानं के साथ - साथ भारतीय पुरातन चिकित्सा विज्ञानं को समन्वयकपूर्वक प्रत्यक्ष सामने रखना |
  • रोग की तह में जाकर खोज करना और औषधि के बलाबल का विचार इस ढंग से सामने रखना की सामान्य ज्ञान रखने वाला मनुष्य भी उसे समझ सके एवं उपयोग में ला सके

 

 

This entry was posted in . Bookmark the permalink.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *