टाइमिंग बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा, औषधीय योग एवं यौन शक्ति बढ़ाने की देशी वाजीकरण चिकित्सा

टाइमिंग बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा क्या है” इस प्रकार के प्रश्न हमें नित्य हमारे हेल्पलाइन नंबर पर प्राप्त होते रहते है | अन्य रोगों की तुलना में “सेक्स पॉवर बढ़ाने की देशी दवा जानने एवं यौन दुर्बलताओं” के लिए अधिक मेसेज प्राप्त होते है |

हमारी टीम एवं वैद्य जनों द्वारा समय – समय पर आपके सभी सवालों के जवाब दिए जाते है | सवालों की अधिकता के कारण जवाब में थोडा समय लग सकता है, लेकिन फिर भी हम कोशिश करते है कि आपके सभी सवालों के उपयुक्त जवाब दिए जाएँ |

आज के इस लेख में हम आपको टाइमिंग बढ़ाने की आयुर्वेदिक देशी दवा के बारे में बताएँगे कि कौन – कौन सी औषधियाँ है जो पुरुषों में सेक्स पॉवर को बढाती है | इन औषधियों का प्रयोग वैद्य सलाह से किस प्रकार किया जाता है | क्या सभी दवाएं आपके लिए लाभदायक है |

साथ ही यौन कमजोरियों में वाजीकरण चिकित्सा किस प्रकार सहायक है |

Post Contents

यौन शक्ति (टाइमिंग) बढ़ाने की आवश्यकता क्यों है ?

सभी मूलभुत आवश्यकताओं की तरह संतुष्ट पूर्ण सेक्स हर किसी के लिए आवश्यक है | पुरुषों में होने वाली यौन दुर्बलताएं अर्थात यौन शक्ति की कमी सुखी वैवाहिक जीवन में एक दुखद अध्याय है |

अगर पुरुष यौन शक्ति से परिपूर्ण नहीं है तो वह अपनी महिला साथी को पूर्ण शारीरिक सुख प्रदान नहीं कर सकता | हालाँकि महिलाऐं भी यौन दुर्बलताओं से पीड़ित हो सकती है लेकिन सहवास में टाइमिंग की कमी जैसी समस्या पुरुषों में ही अधिकतर देखने को मिलती है |

  • सुखी वैवाहिक जीवन के लिए |
  • सहवास में पूर्ण आनंद प्राप्त करने के लिए
  • अच्छे स्वास्थ्य के लिए |
  • अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी यौन शक्ति से परिपूर्ण होना आवश्यक है |
  • शारीरक बल एवं कांति बरकरार रखने के लिए |
  • अपने पार्टनर को बराबर यौन सुख देने के लिए |

क्या कारण है जो टाइमिंग की कमी के लिए जिम्मेदार है ? | Causes of low timing problem

बिस्तर में समय की कमी से पीड़ित होने के बहुत से संभावित कारण है | यहाँ हम कुछ कारणों से आपको अवगत करवा रहें है जो बिस्तर में पुरुषों को लम्बे समय तक नहीं टिकने देते |

  • मानसिक कारण जैसे तनाव, एंग्जायटी या अधिक कामुकता |
  • पुरुषों द्वारा यौन संबंधों में शीघ्रता अपनाना भी इसका एक कारण है |
  • वीर्य का पतलापन या कमी
  • धातुओं का क्षीण होना |
  • शारीरिक दुर्बलता
  • लम्बे समय तक किसी बीमारी से ग्रसित रहने के कारण आई कमजोरी |
  • अधिक कामुक विचारों से ग्रस्त रहने वाले व्यक्ति अधिकतर बिस्तर पर लम्बे समय तक नहीं टिक पाते |
  • पाचन विकृति भी इसके लिए जिम्मेदार हो सकती है |
  • शराब, ड्रग्स एवं अन्य नशीले पदार्थों के अधिक सेवन के कारण

टाइमिंग बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा की सूचि जिनका प्रयोग चिकित्सकीय सलाह से किया जा सकता है | Sex Time Increase Ayurvedic Formulations

क्या आप बिस्तर में लम्बे समय तक टिके रहने की आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में खोज रहें है ? इस पोस्ट में हमने यौन शक्ति बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवाओं की विश्वसनीय सूचि आपके लिए उपलब्ध करवाई है |

इन दवाओं का प्रयोग आप आयुर्वेदिक चिकित्सक की देख रेख में कर सकते है | ये नुकसान रहित एवं लम्बे समय तक असर करने वाली दवाएं है | इनका मुख्य कार्य पुरुषों में यौन शक्ति का संचार करना है | चलिए कौन – कौन सी दवाएं है जो सेक्स पॉवर बढ़ाने की देशी दवा अर्थात टाइमिंग बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा के रूप में जाना जाता है |

  1. कामसुधा योग
  2. वृहनी गुटिका
  3. वृष्य गुटिका
  4. महास्तम्भन वटी
  5. अश्वगंधा चूर्ण
  6. कौंच पाक
  7. शिलाजित्वादी वटी (स्वर्ण युक्त)
  8. मुसली पाक
  9. तालमखाना चूर्ण
  10. मकरध्वज गुटिका
  11. अकरकरा चूर्ण
  12. स्तंभक चूर्ण

1) कामसुधा योग : आलराउंडर वाजीकरण औषधि

कामसुधा योग एक हर्बल फार्मूलेशन है जो नपुसंकता, टाइमिंग की कमी, शीघ्र स्खलन एवं अन्य यौन दुर्बलताओं में उपयोग होती है |

इस आयुर्वेदिक दवा में सभी घटक यौन शक्ति को बढ़ाने वाले एवं शारीरिक बल देने वाले है | यह वीर्य की कमी, तनाव की कमी एवं शीघ्र स्खलन के उपचार में प्रयोग होती है |

अगर कामसुधा योग एवं श्री गोपाल तेल का प्रयोग यौन दुर्बलताओं में किया जाये तो यह विशेष लाभ करती है | यह जननांगो में रक्त संचार को बढ़ाने एवं लिंग में तनाव बनाये रखने में मदद करती है |

वैद्य सलाह से इस दवा का प्रयोग सेक्स पॉवर बढ़ाने की मेडिसिन के रूप में किया जा सकता है |

2) वृहनी गुटिका (Vrihani Gutika)

टाइमिंग बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा

वृहनी गुटिका भी एक आयुर्वेदिक शास्त्रोक्त औषधि है | इसका निर्माण लगभग 30 प्रकार की जड़ी – बूटियों से होता है | यह दवा भी कुछेक फार्मेसियों द्वारा ही निर्मित की जाती है | यह उत्तम सेक्स वर्द्धक दवा है जो यौन दुर्बलताओं में उपयोग होती है |

इस दवा का उपयोग यौन शक्ति को बढ़ाने एवं शीघ्र स्खलन जैसी समस्याओं में किया जाता है | यह शरीर में बल वर्द्धन का कार्य करती है |

वैद्य सलाह अनुसार वृहनी गुटिका का प्रयोग टाइमिंग बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है | हालाँकि यह रसायन औषधी है अत: एक निश्चित अन्तराल के लिए ही वैद्यों द्वारा इस्तेमाल करवाई जाती है |

3) वृष्य गुटिका (Vrishya Gutika)

टाइमिंग बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा

यह भी एक क्लासिकल फार्मूलेशन है | इसमें गाय का घी, विदारीकन्द का ज्यूस एवं अन्य आयुर्वेद की यौन रोगों में उपयोग होने वाली सामान्य जड़ी – बूटियां है | यह टाइमिंग बढ़ाने एवं शीघ्रपतन की समस्या में प्रभावी आयुर्वेदिक दवा है |

वृष्य गुटिका में 9 प्रकार के घटक है जों पुरुषों में यौन शक्ति की कमी को दूर करने में लाभदायक है | इस दवा का प्रयोग भी वैद्य सलाह अनुसार सेक्स पॉवर बढ़ाने की देशी दवा के रूप में किया जा सकता है |

इस औषधि का प्रयोग चिकित्सक की सलाह से ही किया जाना चाहिए | वैसे यह औषधि बनी – बनाई मिलनी मुश्किल है | इसका निर्माण वैद्यों द्वारा ही अपने रोगियों के लिए अधिकतर किया जाता है |

यहाँ ऊपर वर्णित सभी टाइमिंग बढ़ाने की दवाएं बाजार में मिलनी थोड़ी मुश्किल है | लेकिन लेख के आधार पर हमें इन दवाओं को इस सूचि में शामिल करना आवश्यक है क्योंकि ये अत्यंत प्रभावी दवाएं है जो पुरुषों में यौन शक्ति का फिर से संचार करने में लाभदायक है |

4) महास्तम्भन वटी (Mahastambhan Vati)

महास्तम्भन वटी

इसे आप एक प्रकार का आयुर्वेदिक बूस्टर मान सकते है | क्योंकि इस दवा का प्रयोग करते ही यह असर दिखाती है, लेकिन लम्बे समय तक महास्तम्भन वटी का प्रयोग करना भी नुकसान दायक है |

इसके घटक आदत लगने वाले है अत: चिकित्सक अगर इस दवा का प्रयोग रोगी को करवाते भी है तो सिर्फ कुछ दिनों के लिए | क्योंकि अगर इसकी आदत लग जाये तो यह रोग को अधिक गंभीर बना देती है |

इसमें खुरासानी अजवायन, ईरानी अकरकरा, लौंग, धतुरा, अफीम जैसे कुल 10 जड़ी – बूटियां है | यह बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जाती है |

लेकिन ध्यान दें बिना चिकित्सकीय सलाह महास्तम्भन वटी का प्रयोग आनंद मात्र के लिए न करें यह आपके स्वास्थ्य के लिए काफी नुकसान दायक हो सकती है | अगर आप ऐसा सोचते है कि आयुर्वेद है तो कोई साइड इफेक्ट्स नहीं है तो यह बिल्कुल गलत है |

आयुर्वेद में भी कुच्छेक दवाएं है जो सिर्फ चिकित्सा देख – रेख में उपयोग की जा सकती है | इसका प्रयोग बिना चिकित्सकीय सलाह करने से लाभ की बजाय हानी हो सकती है |

5) अश्वगंधा चूर्ण (Ashwagandha Churna)

अश्वगंधा चूर्ण

यौन विकारों में सबसे अधिक उपयोग होने वाली दवा है | इसे आप दवा या जड़ी-बूटी कह सकते है | अश्वगंधा की जड़ों को बारीक़ महीन पीसकर जो चूर्ण तैयार किया जाता है वह अश्वगंधा चूर्ण कहलाता है |

अश्वगंधा यौन दुर्बलताओं, वात सम्बन्धी विकार, मानसिक तनाव एवं टेस्टोस्टेरोन हार्मोन को शरीर में बढ़ाने का कार्य करती है | आयुर्वेद चिकित्सा में अश्वगंधा चूर्ण विभिन्न रोगों में उपयोग होता है |

इसे उत्तम वीर्य वर्द्धक, बल कारण जड़ी – बूटी माना जाता है | लम्बे समय तक इसका प्रयोग करने से परिणाम अच्छे मिलते है |

आप वैद्य सलाह से इस टाइमिंग बढ़ाने की देशी दवा का प्रयोग कर सकते है |

6) कौंच पाक (Kounch Paak)

कौंच पाक

कौंच एवं अन्य जड़ी – बूटियों से निर्मित यह औषधि पाक फॉर्म में आती है | कौंच को कपिकच्छु एवं केवांच आदि नामों से भी जाना जाता है | यह उत्तम बल वृद्धक एवं वीर्य वर्द्धक जड़ी बूटी है |

कौंच पाक मुख्यत: वीर्य वर्द्धक के रूप में देखा जाता है | हालाँकि यह औषधि उष्ण प्रकृति की है अत: उष्ण प्रकृति एवं पित्तज प्रकृति वाले इसका सेवन न करें | क्योंकि यह शरीर में बल वीर्य का तो बढ़ोतरी करेगी लेकिन स्तंभक अर्थात टाइमिंग के लिए उपयोगी साबित नहीं होगी |

अत: वैद्य सलाह से सेक्स पॉवर बढ़ाने एवं नपुंसकता के उपचार में इस दवा का उपयोग किया जाता है |

7) शिलाजित्वादी वटी (Swarna Yukta)

शिलाजित्वादी वटी

यह मूत्र संस्थान के विकारों में उपयोग होने वाली प्रमुख औषधि है | यह त्रिवंग भस्म, वंग भस्म, नीम के पते एवं शुद्ध शिलाजीत से निर्मित होने वाली शास्त्रोक्त औषधि है |

स्वर्ण युक्त शिलाजित्वादी वटी का उपयोग शुक्रदोष एवं इरेक्टाइल डिसफंक्शन आदि में किया जाता है | अगर आप सादी शिलाजित्वादी वटी लेते है तो यह मधुमेह के लिए सिर्फ उपयोग होती है | लेकिन स्वर्ण युक्त शिलाजित्वादी वटी सेक्स पॉवर बूस्टर के रूप में प्रयोग होने वाली आयुर्वेदिक दवा है |

इसमें शिलाजीत एवं अन्य घटक है जो पुरुषों में टाइमिंग बढ़ाने का कार्य करते है | इस दवा का प्रयोग वैद्य सलाह से सामान्य यौन दुर्बलताओं में किया जा सकता है |

8) मुसली पाक (Musali Pak)

सफ़ेद मुसली के बारे में आप सभी अवगत है | यह शरीर में नए वीर्य का निर्माण करने वाली एक उत्तम aphrodisiac औषधि है | यह बल वर्द्धन, वीर्य वर्द्धन एवं आयु वर्द्धक औषधि है |

सफ़ेद मुसली के साथ अश्वगंधा, गोखरू, चित्रक, खैरेंटी, हरीतकी, जायफल, वंग भस्म, तेजपत्र आदि जड़ी बूटियां है जो पुरुषों में होने वाली कम टाइमिंग की समस्या में बेहतरीन कार्य करते है |

मुसली पाक के सेवन से शरीर में बल वर्द्धि होती है, पुरुषों में सहवास में समय बढ़ता है, साथ ही लम्बे समय तक के लिए इस दवा का उपयोग बिना किसी चिकित्सकीय सलाह के सेवन की जा सकती है |

मुसली पाक एक सामान्यत: उपयोग होने वाली बलवर्द्धक औषधि है जिसका उपयोग आप निर्धारित मात्रा में कर सकते है | टाइमिंग बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा के रूप में इसे उपयोग किया जा सकता है |

9) तालमखाना चूर्ण है टाइमिंग बढ़ाने की देसी दवा (Talamkhana)

तालमखाना औषधीय जड़ी-बूटी से निर्मित होने वाले चूर्ण को तालमखाना चूर्ण के रूप में जाना जाता है | यह दवा उत्तम कामोदीपक गुणों से युक्त है |

इसे कोकिलाक्ष चूर्ण के नाम से भी जानते है | यह ठंडी तासीर की औषधि है अत: सभी प्रकृति वाले रोगियों के लिए लाभदायक है | आयुर्वेद की सभी वाजीकरण दवाओं में इस चूर्ण का उपयोग अवश्य होता है |

जैसे कामसुधा योग, वृहनी गुटिका एवं महास्तम्भन वटी इन सब में भी यह औषधीय जड़ी-बूटी की उपलब्धता है | तालमखाना वीर्य का वर्द्धन करने वाला एवं स्खलन को रोकने वाली औषधि है |

इस दवा का प्रयोग एक निर्धारित मात्रा में करने से टाइमिंग बढ़ता है एवं इसे टाइमिंग बढ़ाने की देसी दवा के रूप में जाना जा सकता है |

10) मकरध्वज गुटिका (Makardhwaj Gutika)

यह यौन कमजोरियों, शुक्राणुओं की कमी, मधुमेह, शारीरिक कमजोरी आदि रोगों में उपयोग होने वाली एक शास्त्रोक्त आयुर्वेदिक दवा है | टाइमिंग बढ़ाने के लिए इस दवा का उपयोग किया जा सकता है |

मकरध्वज गुटिका टेबलेट्स के रूप में बाजार में विभिन्न कंपनियों द्वारा बेचीं जाती है | इसे आप वैद्य सलाह से नियमित सहवास में समय बढ़ाने के मकसद से ले सकते है |

हालाँकि यह रस औषधि है एवं इसका उपयोग एक सिमित समय तक ही करना चाहिए अत: उपयोग से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह अवश्य ले लें |

11) अकरकरा चूर्ण (Akarkra Churna)

टाइमिंग बढ़ाने की देशी दवा के रूप में उपयोग होने वाली एक अन्य शास्त्रोक्त जड़ी बूटी है | अकरकरा के चूर्ण का उपयोग यौन शक्ति की कमी को दूर करने के लिए किया जा सकता है |

यह उष्ण वीर्य, स्वाद में कटु एवं कड़वी औषधि है अत: शहद के साथ इस चूर्ण का प्रयोग किया जाता है | मुख्यत: यह काम को उत्तेजित करने वाली, नाड़ी को बल देने वाली एवं शक्ति बढ़ाने वाली आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है |

इसकी जड़ से निर्मित चूर्ण को अकरकरा चूर्ण कहा जाता है | यह टाइमिंग बढ़ाने की देशी दवा के रूप में उपयोग होती है | इसका उपयोग आप वैद्य से परामर्श लेकर एवं मात्रा निर्धारित करवाके उपयोग में ले सकते है |

12) स्वदेशी स्तंभक चूर्ण (Swadeshi Stambhak Churna)

स्वदेशी स्तंभक चूर्ण एक विशवसनीय टाइमिंग बढ़ाने एवं काम शक्ति का संचार करने की देशी दवा है | यह अकरकरा, तुलसी के बीज, तालमखाना के बीज से तैयार होने वाली आयुर्वेदिक दवा है |

यह पुरुषों में टाइमिंग बढ़ाने, स्तम्भन करने अर्थात जल्द वीर्य स्खलन को रोकने में फायदेमंद दवा है | इसका प्रयोग नित्य 5 – 5 ग्राम की मात्रा में गुनगुने दूध के साथ करने से पुरुषों में स्तंभक गुण बढ़ते है |

पुरुषों की खोई हुई शक्ति फिर से जागृत होती है एवं उनकी सेक्स लाइफ बेहतर होती है | स्तंभक चूर्ण को आप टाइमिंग बढ़ाने की आयुर्वेदिक देशी दवा के रूप में जान सकते है |

टाइमिंग बढ़ाने के लिए कुछ आयुर्वेदिक औषधीय योग

अगर आप घरेलु औषधीय योगों के बारे में जानना चाहते है तो निचे हमने कुछ औषधीय योगों के बारे में बताया है जो टाइमिंग बढ़ाने का कार्य करते है एवं घर पर निमित किये जा सकते है |

इन औषधीय योगों का सेवन आप सर्दियों के मौसम में करें तो अधिक लाभदायक साबित होते है | टाइमिंग बढ़ाने के लिए ये आयुर्वेदिक औषधीय योग विशेषकर फायदेमंद होते है | लेकिन ये भी वैद्य सलाह से ही उपयोग में लेने चाहिए |

  • अश्वगंधा, शतावरी, कौंच एवं सफ़ेद मुसली का औषिधिय योग: टाइमिंग बढ़ाने वाले औषधीय योगों में अश्वगंधा, शतावरीक, कौंच एवं सफ़ेद मुसली का चूर्ण बनाकर उपयोग में लिया जा सकता है | चूर्ण बनने के लिए सबसे पहले इन्हें समान मात्रा में लेकर साफ़ करलें | अब सभी का चूर्ण बना कर मिला लें | इस योग का 5-5 ग्राम सुबह शाम दूध या शहद के साथ उपयोग करने से टाइमिंग बढ़ता है |
  • शीघ्रपतन नाशक चूर्ण: गिलोय का सत्व एवं काली मुसली का कपडछान चूर्ण एवं मिश्री क्रमश: 2 ग्राम, 10 ग्राम एवं 10 ग्राम सभी को मिलाकर चूर्ण तैयार करलें | इसके सेवन यौन शक्ति की कमी, स्वप्नदोष एवं धातु रोग की समस्या दूर होती है |
  • सेमलकंद एवं मिश्री: सेमलकंद के चूर्ण में मिश्री मिलाकर नित्य सेवन करने से सेक्स में टाइमिंग बढती है | यह शरिर को पुष्ट करने का कार्य भी करता है | इस टाइमिंग बढ़ाने के आयुर्वेदिक औषधीय योग का प्रयोग आप नित्य 15 से 20 दिनों तक कर सकते है |
  • वीर्यशोधन टाइमिंग बूस्ट योग: अगर वीर्य विकृति के कारण सेक्स में टाइमिंग कम है तो सेमलकंद, बीजबंद, तालमखाना, मखाना, सफ़ेद मुसली, कामराज एवं गंगेरान जड़ी – बूटियों के चूर्ण को मिलाकर सेवन करने से वीर्य शुद्ध होता है एवं शरीर में वीर्य का संचार होकर सहवास में समय बढ़ता है |

देशी वाजीकरण चिकित्सा जिससे सेक्स टाइमिंग बढाया जा सकता है

वाजीकरण आयुर्वेद की एक शाखा है | आयुर्वेद चिकित्सा को 8 भागों में बांटा गया है | इसमें वाजीकरण शाखा में पुरुषों की यौन कमजोरियों को दूर करने की चिकित्सा की जाती है | अगर साधारण शब्दों में समझा जाये तो पौरुष शक्ति से हिन् पुरुषों को मैथुन क्रिया में सक्षम बनाने के लिए की जाने वाली आयुर्वेदिक चिकित्सा वाजीकरण कहलाती है |

वाजीकरण चिकित्सा में 8 प्रकार के द्रव्य प्रयोग होते है जिनसे वाजीकरण औषधियों का निर्माण किया जाता है एवं फिर उपचार किया जाता है | ये है

  1. शुक्रल वर्ग की जड़ी बूटियां
  2. बलवर्द्धनगण 
  3. बृहनवर्ग के द्रव्य
  4. जीवनीयगण 
  5. क्षीरसंजननवर्ग 
  6. शुक्रल और वाजीकरण
  7. वीर्यवर्द्धक द्रव्य 
  8. कामोतेजक द्रव्य

वाजीकरण चिकित्सा में उपयोग होने वाली कुछ दवाओं के बारे में हमने निचे बताया है जो टाइमिंग बढ़ाने की देशी दवा एवं वाजीकरण दवाओं के रूप में जानी जाती है |

  1. कामेश्वर मोदक – 3 ग्राम प्रात: सांय दूध के साथ |
  2. मद्नान्द मोदक – 5 ग्राम सुबह एवं सांय दूध के साथ |
  3. वानरी गुटिका – 5 से 10 ग्राम तक सुबह – शाम दो समय दूध के साथ लेना चाहिए |
  4. कामसुधा योग – 1 से 2 गुटिका प्रतिदिन दूध के अनुपान स्वरुप लेना चाहिये |
  5. अश्वागंधादी चूर्ण – 4 से 5 ग्राम दोनों समय दूध के साथ |
  6. कामदेव चूर्ण – 4 ग्राम सुबह – शाम दूध के साथ लिया जाना चाहिए |
  7. द्रक्षादी चूर्ण – 4 ग्राम तक सुबह – सांय |
  8. शतावार्यादी चूर्ण – 10 ग्राम दूध के साथ |
  9. नारसिंह चूर्ण – 5 ग्राम सुबह – शाम 5 ग्राम घी और 10 ग्राम शहद के साथ मिलाकर चाटना चाहिए | इसके बाद गुनगुने दूध का सेवन ऊपर से किया जाना चाहिए |
  10. मदनप्रकाश चूर्ण – 4 ग्राम दूध के साथ |
  11. आनंददावटी – 1 गोली रात में सोने से 1 घंटा पूर्व |
  12. चन्द्रप्रभा वटी – 2 गोली सुबह एवं शाम |
  13. मकरध्वज वटी – 1 गोली सुबह -शाम मक्खन के साथ सेवन करनी चाहिए |
  14. कामदेव घृत – वाजीकरण औषधियां में इस घी का भी सेवन काफी फायदेमंद होता है | इसका सेवन 10 से 20 ग्राम सुबह – शाम मिश्री मिलाकर करना चाहिए | ऊपर से गरम दूध का उपयोग लाभदायक होता है |
  15. श्री गोपाल तेल – जननेंद्रिय पर इस तेल की मालिश करने से हर्ष बढ़ता है |
  16. कामाग्निसन्दीपन रस – यह उत्तम वाजीकरण औषधि रसायन है | इसका सेवन 500 मिग्रा की मात्रा में सुबह एवं शाम करना चाहिए |
  17. कामिनीविद्रावण – 1 गोली रात में सोने से 1 घंटा पूर्व सेवन करना चाहिए |

महत्वपूर्ण: यहाँ उल्लेखित सभी औषधीय योग एवं दवाएं सेक्स टाइमिंग की समस्या में विश्वसनीय दवाएं है | इन दवाओं एवं औषधीय योगों का प्रयोग वैद्य सलाह से ही किया जाना अधिक फायदेमंद रहता है | हमारे द्वारा लिखित आर्टिकल कोई चिकित्सकीय सलाह नहीं है | कृपया चिकित्सा के लिए नजदीकी वैद्य से सम्पर्क करें |

Leave a Reply

Your email address will not be published.