Mail : treatayurveda@gmail.com

Ayurvedic Medicinal Plant (Herbs) List with Pictures In Hindi

संसार में जितनी भी वनस्पति है निश्चित ही उनका उपयोग मानव जीवन के लिए किसी न किसी रूप में उपयोगी है | आयुर्वेद चिकित्सा को विश्व की सबसे प्राचीन चिकित्सा पद्धति माना जा सकता है | यह पूर्ण रूप से जड़ी – बूटियों एवं प्लांट्स पर आधारित है | आयुर्वेद का ज्ञान रखने वालों को हर्ब्स अर्थात औषध द्रव्यों एवं प्लांट्स का ज्ञान रखना भी आवश्यक होता है |

यहाँ हमने आयुर्वेद चिकित्सा में काम आने वाले औषधीय पौधों का वर्णन किया है | साथ ही इनके Scientific Name, संस्कृत नाम एवं इमेज (pictures) भी उपलब्ध करवाए है |

आप इन्हें अल्फाबेटिक क्रम में देख सकते है |

1. अंकोल 

संस्कृत – अंकोल

Scientific – Alangium Lamarckii

उपयोग (use) – विष विकार, कफ, वात, शूल, कृमि, सुजन, गृहपीड़ा, कमर दर्द, वीर्य वर्द्धक एवं रुधिर विकारों में उपयोग

अंकोल

2. अगरु 

संस्कृत – अगरु, वन्शिम

Scientific Name – Aquilaria agallocha Roxb.

उपयोग (use) – कुष्ठ एवं खुजली नाशक, कुक्कर खांसी,  अधिक प्यास नाशक,   मुंह की बदबू दूर करने में उपयोगी,  आफरा आदि में फायदेमंद औषधि |

3. अरनी 

संस्कृत – अग्निमंथ

Scientific Name – Premna Integrifolia Linn.

उपयोग (use) – दीपन – पाचन उष्ण वीर्य होने से  आमपचन एवं अनुलोमन है अत: अग्निमंध्य (भूख की कमी), आमदोष , सुजन को दूर करने व कब्ज में उपयोगी किया जाता है |

अरनी का पौधा

4. अजमोद 

संस्कृत – अजमोदा, वस्तुमोदा

Scientific – Apium graveolens Linn.

उपयोग (use) – खांसी एवं श्वास में उपयोगी,  वात विकार, दीपन – पाचन, दर्द, गुल्म एवं उल्टी आदि में  उपयोग की जाती है |

ajamod

5. अतिस 

संस्कृत – अतिविषा, भंगुरा

Scientific Name – Aconitum Beterophylum Wall.

उपयोग (use) – बच्चों की खांसी, अतिसार, बुखार आदि में उपयोग किया जाता है | दुर्बलता, ज्वर, श्वास – कास , स्तन्य शोधन  भी उपयोगी |

अरनी का पौधा

6. अपराजिता 

संस्कृत – विष्णुक्रांता, गोकर्णिका

Scientific  Name – Clitoria ternatea Linn.

उपयोग (Use) – आमपाचन, कफ का शोधन करके कन्ठस्वर को सुधरता है | कास – श्वास, कुष्ठ रोग एवं गंडमाला में उपयोगी |

7. अपामार्ग 

हिंदी  – चिरचिटा

Scientific Name – Acbyranthes aspera

उपयोग (use) – पाचन शक्ति की हीनता को दूर करता है | शूल (दर्द), खुजली, उदार रोग, बवासीर, मेदोरोग, हृदय रोग एवं पत्थरी में उपयोगी है |

अपामार्ग

8. अरलू 

संस्कृत – श्योनाक

Scientific Name – Ailantbus excelsa Roxb.

उपयोग (Use) – खुनी दस्त, जीर्ण अतिसार, प्रसव पश्चात पीडाओं में लाभदायक | कृमि नाशक, भूख बढाने वाला , कान के दर्द , त्वचा विकार एवं गुदा द्वार के रोगों में फायदेमंद है |

9. आक 

संस्कृत  –   क्षीर फल, अर्क द्वय

Scientific Name –  Calotropis procera 

उपयोग (use) – यह उत्तम रेचक, वात, कोढ़, कंडू (खुजली), विष, व्रण (घाव),  गुल्म, बवासीर, श्लेष्मा, उदर विकार, कान दर्द एवं कीड़ो की समस्या में उपयोगी है |

10. अर्जुन 

संस्कृत – अर्जुन

Scientific Name – Terminalia arjuna

उपयोग (Use) – हृदय रोग जैसे हृदय घात, हाई ब्लड प्रेस्सर में  फायदेमंद है | यह रक्तातिसार (खुनी दस्त), शुक्रमेह, कफज  विकार, खांसी, मूत्राघात,  रक्तविकार एवं मोटापे को घटाने में उपयोगी औषधि है |

अर्जुन छाल

11. अशोक 

संस्कृत  –   मधु पुष्पक |

Scientific Name –  Saraca asoca (Roxb.) 

उपयोग (use) – स्त्री समस्याओं जैसे – सफ़ेद पानी, रक्तप्रदर, मासिक धर्म की अनियमितता, गर्भस्राव जैसे रोगों में फायदेमंद है | यह दाह, सुजन एवं विषादी में भी उपयोगी है |

अशोक का पेड़

12. अश्वगंधा 

संस्कृत – अश्वगंधा, वराहकरणी |

Scientific Name – Withania Somnifera

उपयोग – यह पुरुषों के लिए उत्तम बल वर्द्धक,  रसायन एवं शुक्रवर्द्धक द्रव्य है | वात रोग, श्वास – कास, सुजन एवं महिलाओं में होने वाले योनिगत रोग जैसे – श्वेतप्रदर आदि रोगों में उपयोग किया जाता है |

अश्वगंधा की फोटो

13. अफीम 

संस्कृत  –   अहिफेन |

Scientific Name –  Papaver Somniferum Linn. 

उपयोग (use) – यह स्वाद में तिक्त एवं कषाय होता है | कफशामक, मदकारी (नशीला), ग्राही एवं शुक्रस्तंभक है | वेदना स्थापक (दर्द दूर करने वाला), अतिसार (दस्त), कफज विकार, हृदय विकारों में उपयोगी है |

14. आंवला 

संस्कृत – आमलकी, अमृत फल

Scientific Name – Indian Grossberry / Emblica officinalis Gaertn.

उपयोग – आयुर्वेद में सर्वरोग हर औषधि माना जाता है | त्रिदोष गुणों के कारण सभी रोगों में कार्य करता है | यह उत्तम दीपन – पाचन, बल्य रसायन, ज्वर,  पीलिया, खून की कमी एवं सभी प्रकार के प्रमेह में उपयोगी |

15. अमलतास 

संस्कृत  –  आरग्वध

Scientific Name – Casia fistula Linn. 

उपयोग (use) – यह पक्वाश्यगत कफ पित का शोधन करने में उत्तम है | ज्वर, उदावर्त, शूल, हृदय रोग, कुष्ठ एवं रक्त पित में  उपयोगी है |

16. अदरक 

संस्कृत – आर्द्रक, शुंठी |

Scientific Name – Zinziber Officinalis

उपयोग – उत्तम दीपन – पाचन, आफरा, दर्द एवं गुल्म में उपयोगी है | कफज विकारों में फायदेमंद | श्वास रोग, खांसीएवं प्रतिश्याय  में लाभकारी |

17. अखरोट 

संस्कृत  –   अक्षोट |

Scientific Name –  Juglans regia Linn. 

उपयोग (use) – यह बल्य एवं वृष्य औषधि है | गण्डमाला, वातरक्त, सुजन एवं आमवात में उपयोगी है |  स्मरण शक्ति  तेज करने एवं मष्तिष्क विकारों  में फायदेमंद है |

अखरोट

18. अलसी 

संस्कृत – अतसी

Scientific Name – Linium usitatissimum Linn.

उपयोग – यह बवासीर, कुष्ठ, हृदय रोग, घाव की सुजन एवं गृहणी जैसे रोगों में उपयोगी है |

अलसी

19. अकरकरा 

संस्कृत  –   आकारकरभ

Scientific Name –  Anacyclus pyrethrum DC. 

उपयोग (use) – यह उत्तम वाजीकरण द्रव्य है |  बल्य एवं वृष्य कर्म से  युक्त औषधि है | इसे ध्वजभंग, फिरंग, एलर्जी एवं वात  रोगों के शमनार्थ उपयोग करवाया जाता है |

अकरकरा

20. अध्:हुली 

संस्कृत – अध्:पुष्पि

Scienntific Name – Trichodesma Indicum R. Br.

उपयोग –   गुणों में कटु, तिक्त एवं रुक्ष होने के कारण कफवात शामक औषधि है | यह गृहणी, विषरोग एवं ज्वर आदि में उपयोगी है |

Content Protection by DMCA.com

Shopping cart

0

No products in the cart.

+918000733602

असली आयुर्वेद की जानकारियां पायें घर बैठे सीधे अपने मोबाइल में ! अभी Sign Up करें

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

स्वदेशी उपचार will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.