कामसुधा योग (Available Now)

स्वदेशी उपचार की हस्त निर्मित गुप्त रोगों में रामबाण औषधि - कामसुधा योग ​

कामसूधा योग पुर्णतः आयुर्वेद के वाजिकरण सिद्धांत पर आधारित है | यह दवा यौन रोगों में बेहद कारगर है और साथ ही साथ आपके शरीर को तंदरुस्त और हष्टपुष्ट करने का काम भी करती है |

अगर आपको ठीक होना है एवं असली आयुर्वेद का असर देखना है तो इस दवा का सेवन बताये गए अनुसार 1 महीने तक करें | हमें पूर्ण विश्वास है कि आपको निराशा नहीं मिलेगी | आयुर्वेद के अनुसार सर्दियों में वाजीकरण द्रव्यों का सेवन अधिक फायदेमंद रहता है | इस उत्पाद के निर्माण में हमने किसी मशीन, केमिकल या प्रिजरवेटिव आदि का इस्तेमाल नहीं किया है | यह पूर्णत: घरेलु निर्मित उत्पाद है | बाजार में मिलने वाले उत्पादों से हमारा उत्पाद पैकिंग एवं डिजाईन में कमजोर हो सकता है, लेकिन परिणाम में बेहतरीन सुखदाई है | 

क्या आपको अपनी पत्नी के सामने शर्मिंदा होना पड़ता है या अन्य कोई यौन कमजोरी एवं धात जैसी समस्या के कारण शरीर निर्बल है ?

घबराएँ नहीं ! हमारा यह उत्पाद पूर्णत: घरेलु निर्मित एवं परीक्षित है | यह सहवास में समय की कमी, जोश की कमी या धात की समस्या को जड़ से खत्म करने की सामर्थ्य रखता है | बस आपको नियमानुसार इसका सेवन करना है | पथ्य एवं अपथ्य का ध्यान रखें एवं कम से कम महीने भर नियमित चिकित्सा निर्देशित मात्रा में उपयोग करें | आपकी समस्या धीरे – धीरे खत्म होने लगेगी | बाजार में बड़े – बड़े दावे करने वालों से कंही अच्छा उत्पाद है |

अब Paytm से पेमेंट करने पर पायें 15% EXTRA OFF


Paytm से पेमेंट करने पर 1100/- रूपए का यह उत्पाद आपको मिलता है सिर्फ 965/- रूपए में | उत्पाद को आर्डर करने के लिए निचे दिए गए Pay With Paytm पर क्लिक करें एवं पेमेंट करने के पश्चात, +918000733602 पर अपनी डिटेल सेंड करें | जिसमे आपका एड्रेस, वर्किंग मोबाइल नंबर एवं Email ID हो | किसी अन्य सहायता के लिए आप हमें +918000733602 पर सम्पर्क कर सकते है |

कामसूधा योग ही क्यों ?​

क्योंकि "कामसूधा योग" 21 पावरफुल वाजीकरण द्रव्यों का ऐसा अनूठायोग है जिसका निर्माण आयुर्वेद के परंपरागत तरीके से बिना किसीउपकरण और केमिकल की सहायता के किया गया है | आयुर्वेद में बहुत सीवाजिकरण जड़ी बूटियां उपलब्ध है, हमने इनमे से सबसे पावरफुल २१ जड़ीबूटियों का इस्तेमाल इस अदभुत दवा के निर्माण के लिए एक विशेष मात्रामें किया है | इसके सेवन से सभी प्रकार के यौन रोगों तथा शारीरिकदुर्बलता में अद्भुत लाभ मिलेगा , अगर नियमित सेवन किया जाये तोशीघ्रपतन, धातुदुर्बलता, वीर्य की कमी, शारीरिक कमजोरी एवं नपुंसकता(Erectile dysfunction) जैसे रोग जड़ से ख़त्म हो जाते हैं |

प्राचीन समय से ही आयुर्वेद में रोग की रोकथाम के साथ साथ उसकी उत्पति के कारण तथा भविष्य में उस रोग की पुनरावर्ती न हो यह ध्यान में रखकर ही रोगी का उपचार किया जाता था | औषधि के सेवन के साथ साथ रोगी का आहार विहार भी नियंत्रित किया जाता था | सामान्यतः ऐसे रोग शारीरिक कमजोरी, दूषित खान पान, वीर्य की कमी तथा मानसिक तनाव के कारण होते हैं | “कामसूधा योग ” में प्रयोग की गयी जड़ी बूटियां इतनी पावरफुल है कि इसके सेवन से शरिर में नवीन वीर्य का निर्माण होने लगता है व शरीर में उर्जा का प्रवाह होता है और कुछ ही दिनों में इसके सेवन से आप अपने को तंदरुस्त महसूस करने लगेंगे |

हाथों से चुनी हुई प्रशिद्ध 21 कामशक्ति युक्त जड़ी - बूटियां

कामसुधा योग

कामसुधा योग का सेवन करने का तरीका कैसा हो ?

इस दवा का सेवन एक – एक चम्मच की मात्रा में सुबह – शाम गाय के दूध या शहद के साथ करना चाहिए | अगर नियमित रूप से महीने भर तक दवा का सेवन पथ्य – अपथ्य का ध्यान रख कर किया जाये तो जल्द ही कामशक्ति का वर्द्धन होकर समस्या खत्म होने लगती है | 

कामसुधा योग का सेवन सर्दियों में लड्डू बना कर भी किया जा सकता है | लड्डू बनाने के लिए गेंहू के आटे को देशी घी में अच्छी तरह भुने | भूनने के पश्चात जब थोड़ा ठंडा हो तब इसमें स्वादानुसार देशी खांड (महीन चीनी) और सम्पूर्ण कामसुधा योग को मिलाकर , 30 लड्डू बना ले | इन लड्डुओं को प्रतिदिन 1 की संख्या में सुबह या रात को सोते समय दूध के साथ सेवन करने से बेहतरीन परिणाम मिलते है |

* महत्वपूर्ण *

शीघ्रपतन, नपुंसकता, पेशाब के साथ धातु गिरना एवं शरीर में कामशक्ति की कमी में इस आयुर्वेदिक योग का इस्तेमाल करना चाहिए | जिन्हें शारीरिक क्षमता बढ़ानी हो एवं शरीर को औजवान करना हो वे भी कामसुधा योग का इस्तेमाल बेझिझक कर सकते है | अगर पथ्य – अपथ्य का ध्यान रख कर दवा का सेवन किया जाए तो इन सभी यौन विकारों में यह अमृत समान उपयोगी साबित होती है |

कृपया वे लोग दूर रहें जिन्हें एक चम्मच लेकर चमत्कार देखना है | क्योंकि हम असली आयुर्वेदिक उत्पाद का निर्माण करते है चमत्कार का नहीं | 

FAQ

कामसुधा योग किसे लेना चाहिए ?

जिन्हें अपनी शारीरिक क्षमता बढानी हो उन्हें इसका सेवन करना चाहिए | शीघ्रपतन, धातु दुर्बलता, काम-दोष, स्वप्नदोष से पीड़ितों के लिए उपयोगी औषधि है |

यह दवा कितने दिन में असर करना शुरू करती है ?

सामान्यत: कोई भी आयुर्वेद दवा आपकी प्रकृति एवं रोग के आधार पर अपना असर करती है | अगर रोग अधिक है तो उसे ठीक होने में समय भी अधिक लगता है | अमूमन कामसुधा 15 दिन में अपना असर दिखाना शुरू कर देती है | 

कामसुधा योग मेरे लिए कितना उपयोगी है ?

यह दवा आयुर्वेद के वाजीकरण सिद्धांत पर तैयार की गई है अत: इसका सेवन करना काफी फायदेमंद है | यह आपके शरीर में धातुओं का शोधन करके शरीर को पुष्ट करती है | खाया – पीया सब लगता है |

सेवन करते समय क्या परहेज रखें ?

कामसुधा का सेवन करते समय खट्टी, चटपटी, फ़ास्ट फ़ूड, नशे एवं तेलिय पदार्थों का सेवन बंद कर देना चाहिये | अगर नियमानुसार लिया जाए तो परिणाम भी जल्दी प्राप्त होते है |

यह दवा किस-किस रोग में असरकारक है ?

शीघ्रपतन, धातु विकार, कामेच्छा की कमी, स्वप्नदोष एवं शारीरिक कमजोरी में असरकारक है

इसको कैसे सेवन करना है ?

दवा का सेवन 5 ग्राम की मात्रा में सुबह एवं शाम दूध के अनुपान या शहद के साथ करना चाहिए |

Free Shipping

We Delivers across all Villages, Towns, Cities & States; Across all over India.

Credit / Debit card / Netbanking

Buy through Paytm

Content Protection by DMCA.com

Shopping cart

0

No products in the cart.